ब्रोकिंग फर्म Zerodha के सीईओ और सह-संस्थापक नितिन कामथ के अनुसार कंपनी के 1100 कर्मचारियों में से लगभग 950 स्थायी रूप से घर से काम करेंगे।कामथ ने हाल ही में एक इंटरव्यू में कहा कि उनकी कोर टीम हाइब्रिड मॉडल पर काम करेगी।

कोरोना महामारी में कंपनी ने कार्यस्थलों के बंद होने के बाद कंपनी का परिचालन ऑनलाइन कर दिया था। घर से काम करने वाले कर्मचारियों के लिए कंपनी ने कर्नाटक के छोटे दूरदराज शहरों में कार्यालय स्थापित करना शुरू कर दिया है।

नितिन कामथ ने कहा, हमारी टीम के 85-90% लोग अपने घरों से काम कर रहे है और हम ऐसा करना जारी रखेंगे | उन्होंने बताया की कंपनी ने बेलगावी (कर्नाटक में शहर) में भी एक कार्यालय स्थापित किया है।

कामथ ने बताया कि कंपनी ने ये निर्णय किया है की लोग अब हमेशा के लिए अपने घरों से ही काम करेंगे , कर्मचारी अपने छोटे शहरों से काम करना पसंद भी कर रहे है | उन्होंने बताया कि बेलागावी से भी उनकी एक अच्छी और काफी बड़ी टीम काम कर रही है , लोग बेलगावी में काम करते हुए इस शहर का आनद ले रहे है क्योंकि यहाँ पर उनको स्वतंत्र घर और घरों की देखभाल के लिए काम करने वाले लोग मिल जाते है , जो बैंगलोर में लोग सोच भी नहीं सकते थे |

Zerodha भारत के सबसे मूल्यवान स्टार्टअप्स में से एक है और उन कुछ भारतीय यूनिकॉर्न में से एक है, जिन्होंने बाहरी फंडिंग से एक पैसा भी नहीं जुटाया है। Zerodha को देश के उन चुनिंदा स्टार्टअप्स में गिना जाता है जो लाभ में है , जिसके संस्थापक – अरबपति भाई नितिन कामथ और निखिल कामथ है |

जानने वाली बात यह है कि Zerodha की स्थापना अगस्त 2010 में हुयी थी , जो आज भारत की सबसे बड़ी शेयर ब्रोकेरिंग फर्म है | कंपनी के पास आज लगभग 90 लाख से अधिक उपयोगकर्ता है |

By Satyam

Leave a Reply