Zaporizhzhia परमाणु प्लांट पर भारत ने यूक्रेन में व्यक्त की चिंता

Zaporizhzhia: भारत ने मंगलवार को कहा कि वह यूक्रेन में ज़ापोरिज्जिया (Zaporizhzhia) परमाणु ऊर्जा संयंत्र (ZNPP) की स्थिति से चिंतित है. यह कहते हुए कि परमाणु सुविधाओं से जुड़ी किसी भी दुर्घटना के संभावित विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं. और ये बड़ा खतरा साबित हो सकता है.

रुचिरा कंबोज ने कहीं ये बातें

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ब्रीफिंग को संबोधित करते हुए, संयुक्त राष्ट्र में देश की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने कहा कि भारत यूक्रेन की परमाणु सुविधाओं की सुरक्षा और सुरक्षा के संबंध में विकास का सावधानीपूर्वक पालन करना जारी रखता है और यह इन सुविधाओं की सुरक्षा और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उच्च महत्व देता है.

राजदूत रुचिरा कंबोज ने कहा कि भारत अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) द्वारा अपने सुरक्षा उपायों और निगरानी गतिविधियों के निर्वहन को अपने क़ानून के अनुसार प्रभावी, उद्देश्यपूर्ण और कुशल तरीके से उच्च प्राथमिकता देता है.

रुचिरा कंबोज ने आगे कहा की, “भारत ज़ापोरिज़िया (Zaporizhzhia) परमाणु ऊर्जा संयंत्र की स्थिति को लेकर चिंतित है. हम तनाव को कम करने के लिए IAEA सहित चल रहे प्रयासों का समर्थन करते हैं और सुविधा में परमाणु सुरक्षा और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाते हैं.”

परमाणु प्लांट के आसपास गोलाबारी में हुई वृद्धि

बता दें की,  यह चिंता तब हुई है जब हाल के हफ्तों में यूरोप की सबसे बड़ी परमाणु सुविधा और उसके आसपास गोलाबारी में वृद्धि देखी गई है. यूएनएससी की बैठक रूस द्वारा अनुरोध की गई थी. जिनकी सेना ने मार्च से या युद्ध शुरू होने के तुरंत बाद संयंत्र पर कब्जा कर लिया है. जबकि यूक्रेनी कर्मियों ने अपने साइट पर संचालन जारी रखा है.

संयुक्त राष्ट्र में देश की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने आगे बयान में कहा की,

“हमने यूक्रेन में परमाणु ऊर्जा संयंत्रों और सुविधाओं के संबंध में उपलब्ध नवीनतम जानकारी को नोट किया है. जिसमें आईएईए द्वारा 19 अगस्त को प्रकाशित अपडेट भी शामिल है. हमें उम्मीद है कि आईएईए की एक टीम द्वारा ज़ापोरिज्जिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र (ZNPP) और उसके आसपास के क्षेत्रों में प्रस्तावित यात्रा पर दोनों पक्षों द्वारा सहमति व्यक्त की जाएगी. जैसा कि उनके हालिया बयानों में दर्शाया गया है.”

संयुक्त राष्ट्र में भारतीय दूत ने कहा कि नई दिल्ली इस बात को दोहराना जारी रखेगी कि वैश्विक व्यवस्था अंतरराष्ट्रीय कानून, संयुक्त राष्ट्र चार्टर और क्षेत्रीय अखंडता और राज्यों की संप्रभुता के सम्मान पर आधारित है.

इस समझौते की है तत्काल आवश्यकता

बता दें की, उसी ब्रीफिंग में बोलते हुए, संयुक्त राष्ट्र के राजनीतिक मामलों के प्रमुख रोज़मेरी डिकार्लो ने कहा कि यूक्रेन में ज़ापोरिज्जिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र (ZNPP) को विशुद्ध रूप से नागरिक बुनियादी ढांचे के रूप में फिर से स्थापित करने और संभावित विनाशकारी आपदा को रोकने के लिए एक समझौते की तत्काल आवश्यकता है.

डिकार्लो ने खतरनाक स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र की चल रही गंभीर चिंता को दोहराया, सामान्य ज्ञान, तर्क और संयम के साथ-साथ संवाद के लिए महासचिव की अपील को याद किया. संयुक्त राष्ट्र ने फिर से पार्टियों से आईएईए को परमाणु संयंत्र तक तत्काल, सुरक्षित और मुक्त पहुंच प्रदान करने का आह्वान किया है.

One thought on “Zaporizhzhia परमाणु प्लांट पर भारत ने यूक्रेन में व्यक्त की चिंता”

Leave a Reply