Zaporizhzhia: यूक्रेन के ज़ापोरिज्जिया (Zaporizhzhia) इलाके में शनिवार को हुए हमले में कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई और 40 अन्य घायल हो गए हैं. CNN की रिपोर्ट के अनुसार, ज़ापोरिज्जिया के कार्यवाहक मेयर अनातोली कुर्तेव (Anatoly Kurtev) ने कहा कि हमले में पांच घर नष्ट हो गए और अपार्टमेंट की इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं थीं. इससे पहले यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने शनिवार को राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि पूर्वी डोनेट्स्क क्षेत्र के बखमुट शहर के आसपास भीषण युद्ध हुआ था.

Zaporizhzhia के हमले में गई जाने

CNN से मिली जानकारी के मुताबिक, यूक्रेन के Zaporizhzhia शहर में बीती रात एक अपार्टमेंट पर हुए रूसी हमले में कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई और दर्जनों लोग घायल हो गए हैं. बताया जा रहा है की हमले (Zaporizhzhia) में कम से कम 20 मकान और 50 अपार्टमेंट क्षतिग्रस्त हो गए हैं. शनिवार को क्रीमिया प्रायद्वीप को रूस से जोड़ने वाले एक पुल पर विस्फोट हुआ था.

जिसके कारण पुल आंशिक रूप से ढह गया था. रूस इसी पुल के रास्ते दक्षिणी यूक्रेन में युद्ध के लिए सैन्य साजो-सामान भेजता है. रायटर्स के अनुसार, ज़ापोरिज्जिया दक्षिणी यूक्रेन का एक प्रमुख शहर है. ज़ापोरिज्जिया एक परमाणु ऊर्जा प्लांट की साइट है जिस पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की नज़रे बनी हुईं हैं. इसके एक बड़े हिस्से पर पहले से ही रूस का कब्ज़ा रहा है.

Ukraine के Zaporizhzhia शहर पर हुए हमले, गई 17 लोगों की जान
Ukraine के Zaporizhzhia शहर पर हुए हमले, गई 17 लोगों की जान

यूक्रेन के चार क्षेत्रों पर रूस का है कब्ज़ा

बता दें की,  मॉस्को और कीव के बीच युद्ध तब तेज हो गया जब रूस ने यूक्रेन के चार क्षेत्रों – डोनेट्स्क, लुहान्स्क, ज़ापोरिज़्ज़िया (Zaporizhzhia) और खेरसॉन पर कब्जा करने की घोषणा की थी. यूक्रेन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा की,

“रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है. क्योंकि कीव ने देश के दक्षिण में खेरसॉन क्षेत्र में 2,400 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र पर कब्जा करने के बाद मास्को की पकड़ को एक बड़ा झटका दिया है. अरखानहेल्स्के, वायसोकोपिलिया और ओसोकोरिव्का जैसे शहरों में तबाही होने के बाद अब नागरिकों की निकासी तेज़ी से की जा रही है.”

यूक्रेनी सेना ने पिछले महीने से लगातार कोशिश की है रूस को खदेड़ने की. लेकिन कई हद तक वो नाकामयाब रहा है. जानकारों का मानना है की यह युद्ध जल्द से जल्द समाप्त हो जाना चाहिए वरना ना सिर्फ यूक्रेन और रूस बल्कि पूरी दुनिया को खतरनाक अंजाम झेलने पड़ेंगे. वैसे भी रूस-यूक्रेन युद्ध को लगभग 8 महीने का वक़्त होने जा रहा है. लेकिन अभी दोनों देशों में से कोई भी झुकने को नहीं तैयार हुआ है.

रूस ने अमेरिका पर लगाया बड़ा आरोप

रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध को लेकर मॉस्को ने अमेरिका पर बड़ा आरोप लगाया है. रूस ने दावा किया है कि अमेरिका इस युद्ध में प्रत्यक्ष तौर पर शामिल रहा है. अमेरिका भी यूक्रेन की हर प्रकार से सहायता करने की कोशिश जारी रखे हुए है.

अमेरिका ने यूक्रेन को बीते महीनों हथियार भेजे थे. इसके साथ ही वो पूरी कोशिश कर रहा है की यूक्रेन NATO के समूह में शामिल हो जाये. हालाँकि, बता दें की NATO में शामिल होने इतना आसान नहीं है. उसके लिए NATO में शामिल सभी देशों की मंजूरी ज़रूरी होती है.

रूस के रक्षा मंत्रालय का कहना है की अमेरिका की वजह से युद्ध और तीव्र होता जा रहा है. अमेरिका पर ना सिर्फ रूस-यूक्रेन के युद्ध पर हस्तक्षेप का आरोप लगा है बल्कि ताइवान-चीन के मामले में भी हस्तक्षेप का आरोप लगा है.

रूस-यूक्रेन का असर बढ़ती मंहगाई का भी एक कारण है. जानकारों का कहना है की अगर ऐसे ही यह युद्ध जारी रहा तो, वैश्विक स्तर पर देशों को संभालना एक मुश्किल टास्क बन जाएगा.

 

Leave a Reply