September 29, 2022
World Bank: महंगाई का असर! विश्व बैंक ने घटाया भारत की आर्थिक विकास दर का अनुमान

World Bank: महंगाई का असर! विश्व बैंक ने घटाया भारत की आर्थिक विकास दर का अनुमान

Spread the love

वर्ल्ड बैंक(world Bank) ने मंगलवार को 2022 के लिए अपने वैश्विक विकास अनुमान को 1.2 प्रतिशत अंक घटाकर 2.9% कर दिया।

वर्ल्ड बैंक ने अपनी ग्लोबल इकोनॉमिक प्रोस्पेक्टस रिपोर्ट में कहा कि यूक्रेन(Ukraine) पर रूसी(Russia) आक्रमण ने वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंदी को बढ़ा दिया दिया है जिससे आर्थिक विकास दर कम और महंगाई बढ़ सकती है.

World Bank ने भारत के आर्थिक विकास दर अनुमान को घटाया

विश्व बैंक ( World Bank) ने 2022-23 में भारत के आर्थिक विकास दर ( Economic Growth Rate) के अनुमान को घटा दिया है. विश्व बैंक के मुताबिक मौजूदा वित्त वर्ष में आर्थिक विकास दर 7.5 फीसदी रह सकता है.पहले उसने ने 8.7 फीसदी ग्रोथ रेट रहने का अनुमान जताया था.

यानि विश्व बैंक ने अपने अनुमान में 1.2 फीसदी की कटौती की है. 7 जून को जारी किए गए ताजा ग्लोबल इकोनॉमिक प्रॉसपेक्ट रिपोर्ट (Global Economic Prospects Report) में वर्ल्ड बैंक ने बढ़ती महंगाई ( Rising Inflation) , सप्लाई चेन में रूकावट ( Supply Chain Disruption) और वैश्विक तनाव ( Global Tension) के चलते आर्थिक विकास दर के अनुमान को घटाया है.

वर्ल्ड बैंक के मुताबिक भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व के अर्थव्यवस्था पर खतरा है.

विश्व बैंक(World Bank) का मानना है कि 2023-24 में भारत का आर्थिक विकास दर 7.1 फीसदी रह सकता है. वहीं 2024-25 के लिए 6.5 फीसदी विकास दर रहने की भविष्यवाणी की गई है.

बहरहाल मौजूदा वित्त वर्ष के लिए वर्ल्ड बैंक ने जहां 7.5 फीसदी आर्थिक विकास दर रहने का अनुमान जताया है जबकि RBI ने 7.2 फीसदी जीडीपी का अनुमान जताया है.

हालांकि माना जा रहा है कि आरबीआई बुधवार 8 जून को मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी की बैठक में इन अनुमानों में बदलाव भी कर सकता है.  इससे पहले Moody’s ने भी 2022-23 में भारत के आर्थिक विकास दर (India’s Economic Growth) के अनुमान ( Projection) को घटा दिया है.

महंगाई का असर

महंगाई बढ़ने की वजह से विकास दर घटने का अनुमान लगाया जा रहा है. ईंधन से लेकर खाद्य पदार्थों तक की कीमतों में वृद्धि हुई है. अप्रैल में  मूल्य आधारित मुद्रास्फीति अप्रैल में 15.08 हो गई. खुदरा मुद्रास्फीति आठ साल के उच्च स्तर पर पहुंच गई. कई अन्य रेटिंग एजेंसियों ने भी भारत के विकास दर का अनुमान घटाया है. इनमें मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस , एसएडपी ग्लोबल रेटिंग भी शामिल है. आईएमएफ ने भी विकास दर का अनुमान 9 फीसदी सेघटाकर 8.2 फीसदी कर दिया था.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.