September 25, 2022
Work From Home: “वर्क फ्रॉम होम” के लिए सरकार ने बनाये नियम, अब एक साल तक कर सकते हैं घर से काम

Work From Home: “वर्क फ्रॉम होम” के लिए सरकार ने बनाये नियम, अब एक साल तक कर सकते हैं घर से काम

Spread the love

Work From Home: “वर्क फ्रॉम होम” की शुरुवात कोरोना काल से हुई थी. जिस वक़्त सब घर में कैद थे. उस वक़्त भी कंपनी “वर्क फ्रॉम होम” के द्वारा काम करा रही थीं. जिसका फ़ायदा देश की आर्थिक स्थिति पर भी पड़ा है. इसके साथ ही लोगों को घर बैठे काम करके पैसे भी मिल रहे थे. लेकिन अब बता दें की, वाणिज्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि विशेष आर्थिक क्षेत्र में घर से काम करने (Work From Home) की अनुमति अधिकतम एक साल के लिये होगी और इसे कुल कर्मचारियों के 50 प्रतिशत तक लागू किया जा सकता है.

क्या हैं नियम

“वर्क फ्रॉम होम” ने कुछ लोगों को आराम दिया है तो कुछ को कष्ट. कोरोना के समय कुछ लोग अपने ऑफिस को मिस भी कर रहे थे. लेकिन कोरोना खत्म होते ही ज्यादातर ऑफिस खुल गए है. और कई ऑफिस में हाइब्रिड पॉलिसी (Hybrid Policy) भी चल रही है. ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, वाणिज्य विभाग (Commerce department) ने विशेष आर्थिक क्षेत्र नियम, 2006 में घर से काम (Work From Home) के लिये नया नियम 43ए अधिसूचित किया है.

मंत्रालय का कहना है की उन्होंने ये अधिसूचना उद्योग की मांग के आधार पर की है. बता दें की, उद्योग ने सभी विशेष आर्थिक क्षेत्रों के लिये समान रूप से डब्ल्यूएफएच (WFH) नीति लागू करने की मांग की थी. नए नियम के अनुसार, सेज (SEZ) इकाई में काम करने वाले कुछ श्रेणी के कर्मचारियों को घर से काम करने की अनुमति होगी. इन कर्मचारियों में सूचना प्रौद्योगिकी (IT) और उससे जुड़े क्षेत्रों में काम कर रहे कर्मचारी शामिल हैं.

वाणिज्य विभाग (Commerce department) के अनुसार, जो कर्मचारी अस्थायी रूप से काम पर आने में असमर्थ हैं वो भी इस कानून के दायरे में हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंत्रालय के अनुसार, घर से काम करने की सुविधा कुल कर्मचारियों में से 50 फीसदी को दी जा सकती है. इससे उन कर्मचारियों  को सुविधा मिलेगी जो ट्रेवल करतें है या किसी कारण वश ऑफिस नहीं आ सकते.

वाणिज्य विभाग ने कहीं ये बाते

“वर्क फ्रॉम होम” (Work From Home) की माँग कुछ कर्मचारियों द्वारा भी की जा रही थी. सोशल मीडिया पर कई ऐसे पोस्ट वायरल होते रहते हैं. जिसमें लोग घर से दूर रहने की अपनी समस्या साझा करते हैं. वर्क फ्राम होम को लेकर लोगों के अलग-अलग विचार हैं. कुछ लोग इसे अच्छा बताते हैं तो कुछ लोगों की नजर में इसके कुछ खास फायदे नहीं है.

लोगों का मानना है की “वर्क फ्रॉम होम” से उनको ज्यादा स्ट्रेस नहीं होता और फैमिली को भी वो अपना समय दे पाते हैं. कई युवा भी “वर्क फ्रॉम होम” के पक्ष में देखें गए हैं. इसके साथ ही कई कंपनी भीयही चाहती थी “वर्क फ्रॉम होम” को लेकर सरकार कोई एक कानून बना दे जिससे कंपनी और कर्मचारियों के बीच अच्छा ताल मेल बना रहे.

अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, वाणिज्य मंत्रालय ने कहा, ‘‘घर से काम करने को अब अधिकतम एक साल के लिये अनुमति दी गई है. हालांकि, विकास आयुक्त इकाइयों के अनुरोध पर इसे एक बार में एक साल की अवधि के लिये बढ़ा सकते हैं.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.