Rape emergency लगने के बाद भी Pakistan के पंजाब में महिलाओं के साथ हो रहा दुष्कर्म

Pakistan: सभी प्रांतों में से पाकिस्तान (Pakistan) के पंजाब प्रांत में आ रहे महिलाओं के साथ उत्पीड़न, हिंसा, अपहरण और हत्या के सबसे ज्यादा मामले. बता दें की पंजाब प्रांत में 15,750 शिकायतें दर्ज की गई हैं. इन 15,750 शिकायतों में से 7,000 शिकायतें सोशल मीडिया और कार्यस्थलों पर यौन उत्पीड़न के लिए की गईं हैं.

बता दें की इन आंकड़ों में घरेलू हिंसा की शिकायतें भी शामिल थीं. 350 महिलाओं ने अपहरण और रेप की शिकायत की थी. इसके अलावा, संपत्ति के मामलों से संबंधित 1,424 शिकायतें की गईं. तलाक जैसे पारिवारिक मुद्दों की शिकायतें 1,050 थीं.

Pakistan के पंजाब में नहीं थम रहा महिलाओं के साथ दुष्कर्म का सिलसिला

MSN न्यूज़ एजेंसी से मिली अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान (Pakistan) के पंजाब प्रांत में लगातार महिलाओं के साथ दुष्कर्म हो रहा है. पंजाब धीरे-धीरे महिलाओं के लिए  पाकिस्तान का सबसे आसुरक्षित प्रांत बन गया है. इन आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि आठ महीनों (जनवरी-अगस्त) के दौरान पंजाब में महिलाओं द्वारा कुल 15,750 शिकायतें की गईं हैं.

Rape emergency लगने के बाद भी Pakistan के पंजाब में महिलाओं के साथ हो रहा दुष्कर्म
Rape emergency लगने के बाद भी Pakistan के पंजाब में महिलाओं के साथ हो रहा दुष्कर्म

इस दौरान पाकिस्तान (Pakistan) के पंजाब की महिलाओं द्वारा की गई ज्यादातर शिकायतें रोजगार और स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों से संबंधित थीं. इस संबंध में करीब सात हजार मामले दर्ज किए गए हैं. जबकि, कार्यस्थलों पर उत्पीड़न, सोशल मीडिया और घरेलू हिंसा सहित हिंसा से संबंधित 5,914 शिकायतें सामने आईं हैं. जिनका पंजाब में महिलाओं ने इस साल जनवरी से अगस्त तक सामना किया है. पंजाब के हालत ठीक नहीं हैं. महिलाओं को लगातार इन हिंसा का सामना करना पड़ रहा है.

पंजाब में लगानी पड़ी थी Rape emergency

अगर दो साल पीछे चले तो, पाकिस्तान (Pakistan) के  पंजाब महिला हेल्पलाइन को साल 2021 में 24,296 शिकायतें मिलीं. और साल 2020 में 22,947 रेप, दुराचार, रोजगार और अपहरण की शिकायतें मिलीं हैं. सिंध सुहाई संगठन (Sindh Suhai organisation) [यह संगठन दुर्व्यवहार का सामना करने वाली महिलाओं और लड़कियों के लिए काम करती है] की 2021 की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, 6,842 महिलाओं को हिंसा का शिकार बनाया गया और 100 से अधिक के साथ बलात्कार किया गया है.

बता दें की जून 2022 में हाल यह हो गया था की पाकिस्तान (Pakistan) के पंजाब प्रांत के अधिकारियों ने महिलाओं और बच्चों के खिलाफ यौन शोषण के मामलों में बढ़ोतरी को मद्देनज़र रखते हुए रेप इमरजेंसी लगा दी थी. इसके बाद भी पंजाब में हालात नहीं सुधर रहे हैं.

सिंध प्रांत में भी महिलाओं के साथ हो रहा दुष्कर्म

पंजाब ही नहीं, बल्कि पाकिस्तान का सिंध प्रांत भी महिलाओं की बढ़ती हत्या के लिए जाना जाता है. बता दें की, सिंध प्रांत में 2021 में 111 महिलाओं की हत्या की गई और साल 2022 में अब तक 88 महिलाओं की हत्या की जा चुकी है. सिंध प्रांत के घोटकी सिंध में 12, दोसरी इजला में 40 और कशमोर में पर 11 महिलाओं की हत्या की गई है.

खैबर पख्तूनख्वा में, जनवरी से सितंबर 2022 के बीच कुल 1,112 महिलाओं को सहायता प्रदान की गईं है. ये वो महिलाएं हैं जिन्होंने बोलो (BOLO) हेल्पलाइन द्वारा विभिन्न मुद्दों से संबंधित अपनी शिकायतें दर्ज की थी. खैबर पख्तूनख्वा में 2019 में 89 मामले दर्ज किए गये हैं. जबकि 2020 में 165 मामले शारीरिक शोषण, मनोवैज्ञानिक शोषण, यौन शोषण, भावनात्मक शोषण और सामाजिक शोषण के थे. 2021 में, जनवरी से अगस्त तक बोलो (BOLO) हेल्पलाइन द्वारा 70 मामले दर्ज किए गए हैं.

Leave a Reply