September 29, 2022
निवेशक के रूप में प्रिंस अलवलीद ने किंगडम होल्डिंग्स को बैंकिंग, रियल एस्टेट और हेल्थकेयर सहित कई क्षेत्रों में कारोबार करने वाले अंतरराष्ट्रीय स्तर की इन्वेस्टमेंट कंपनी बनाया है एक बड़े निवेश पोर्टफोलियो को नियंत्रित करने के अलावा, अलवलीद के पास 460,000 वर्ग फुट का एक महल है जिसमें 100 कर्मचारियों के साथ-साथ बोइंग 747 जहाज भी है जिसको उन्होंने अपने लिए खास तौर पर बनवाया है |
Spread the love

अलवलीद बिन तलाल सऊदी शाही परिवार के प्रिंस हैं और सऊदी अरब के सबसे अमीर आदमी भी हैं। एक तरफ सऊदी अरब अपने पैसे तेल बेचकर कमाता है वही प्रिंस अलवलीद ने संपत्ति अपने निवेश करने की क़ाबलियत से कमाया है | इसी लिए उनको अक्सर सऊदी अरब का वारेन बफ़ेट के नाम से भी जाना जाता है |

व्यापार की शुरुआत

कॉलेज से स्नातक होने के बाद, अलवलीद बिन तलाल ने एक निवेश कंपनी और अन्य व्यवसाय शुरू करने के लिए अपने पिता से 330,000 डॉलर उधार लिए। जो उन्होंने 4 साल के भीतर सारा पैसा खो दिया।

उसके बाद उन्होंने किंगडम होल्डिंग कंपनी की शुरुआत 1980 में की थी, किंगडम होल्डिंग कंपनी का बाजार पूंजीकरण लगभग 35 बिलियन डॉलर है , मई 2020 तक कंपनी में अलवलीद की हिस्सेदारी 18.5 बिलियन डॉलर से अधिक थी ।

निवेशक के रूप में प्रिंस अलवलीद ने किंगडम होल्डिंग्स को बैंकिंग, रियल एस्टेट और हेल्थकेयर सहित कई क्षेत्रों में कारोबार करने वाले अंतरराष्ट्रीय स्तर की इन्वेस्टमेंट कंपनी बनाया है

एक बड़े निवेश पोर्टफोलियो को नियंत्रित करने के अलावा, अलवलीद के पास 460,000 वर्ग फुट का एक महल है जिसमें 100 कर्मचारियों के साथ-साथ बोइंग 747 जहाज भी है जिसको उन्होंने अपने लिए खास तौर पर बनवाया है |

भ्रष्टाचार के भी लग चुके है आरोप

November 2017 में उन्होंने इस बात पर सुर्खियां बटोरी जब उनको सऊदी अरब के अन्य प्रिन्सों के साथ रियाद के रिट्ज कार्लटन होटल में भ्रष्टाचार से जुडी जाँच करने के लिए बंद कर दिया गया था | यह सब सऊदी राजशाही के उत्तराधिकारी मोहम्मद बिन सलमान के इसारे पर हुयी थी | मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अलवलीद को सऊदी सरकार के साथ सेटलमेंट करने के लिए अपनी संपत्ति के बड़े हिस्से से हाथ धोना पड़ा है जिसकी रकम लगभग 6 बिलियन डॉलर बतायी जा रही है |

भले ही सऊदी सरकार ने भ्रष्टाचार जाँच के लिए कुछ महीने उनको होटल में बंद रखा हो फिर भी प्रिंस अलवलीद ही सऊदी क्राउन प्रिंस (अगला राजा) मोहम्मद सलमान के विज़न 2030 के सबसे प्रमुख समर्थक है , जिसमे सलमान सऊदी की अर्थव्यवस्था का तेल पर निर्भरता कम करना चाहते है |

सऊदी अपने कुल राजस्व का 90% तेल से ही कमाता है जिसका व्यापार सरकारी कंपनी ARAMCO करती है

Twitter से क्यों है लगाव

एक तरफ टेस्ला कार कंपनी के मालिक elon musk ट्विटर को 100 % खरीदना चाहते है वही सऊदी प्रिंस अलवलीद बिन तलाल elon को ट्विटर के 5.2 % शेयर का मालिक होने के नाते नहीं बेचना चाहते | अलवलीद बिन तलाल Twitter के सबसे पुराने और बड़े शेयरधारकों में से एक है | हालांकि ये भी रिपोर्ट्स भी आ रही की उन्होंने अपना हिस्सा 2019 -2020 में ही बेच दिया था |

Elon Musk ने पिछले महीने ही Twitter की 9.2 % हिस्सेदारी खरीदी है जिससे वो Twitter में सबसे बड़े निवेशक बन गए है | Elon Musk फ्री स्पीच के लिए सबसे आगे रहते है उनके अनुसार सभी को अपनी आवाज उठाने का बराबरी से मौका मिलना चाहिए |

Leave a Reply

Your email address will not be published.