Vladimir Putin ने किए नए रूसी नेवल डॉक्ट्रिन पर हस्ताक्षर, अमेरिका ने कहीं यह बातें

Vladimir Putin: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने नेवी डे (Navy Day) के अवसर पर नए नेवल डॉक्ट्रिन (Navel Doctrine) पर हस्ताक्षर किए हैं. नेवल डॉक्ट्रिन (Navel Doctrine) में रूस ने अमेरिका को अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी के रूप में पेश किया है.

55 पृष्ठ की रिपोर्ट आई सामने

WION से मिली अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, पूर्वी यूरोप में यूक्रेन के साथ चल रहे युद्ध के बीच, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने देश के नौसेना दिवस के अवसर पर रविवार के दिन ए नेवल डॉक्ट्रिन (Navel Doctrine) पर हस्ताक्षर किए हैं.

बता दें की, 55-पृष्ठ की रिपोर्ट के अनुसार, रूस की सीमाओं के पास नाटो का सैन्य निर्माण और वाशिंगटन का “दुनिया के महासागरों पर हावी होने का रणनीतिक उद्देश्य” राष्ट्रीय सुरक्षा और समृद्धि के लिए खतरा है.

रूस के नेवल डॉक्ट्रिन (Navel Doctrine)  सिद्धांत के अनुसार, मास्को आर्कटिक और उसके प्राकृतिक संसाधनों की खोज में अपनी प्रतिस्पर्धात्मक बढ़त बढ़ाने और रणनीतिक स्थिरता को बनाए रखने के लिए काम करेगा. जिससे इसके प्रशांत और उत्तरी बेड़े की प्रभावशीलता में वृद्धि होगी.

ए नौसैनिक सिद्धांत ने वैश्विक समुद्री वर्चस्व के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका की खोज और उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के विस्तार को रूस की राष्ट्रीय समुद्री सुरक्षा के लिए “मुख्य खतरे” के रूप में देखा गया है.

नेवल डॉक्ट्रिन में रूसी नौसेना की महत्वकांक्षाओं का हुआ है जिक्र

नेवल डॉक्ट्रिन (Navel Doctrine) में रूसी नौसेना (Navy) को महान समुद्री शक्ति के रूप में स्थापित करने की महत्वाकांक्षाएं शामिल हैं. नेवल डॉक्ट्रिन (Navel Doctrine) की माने तो, रूस के लिए प्रमुख खतरा निया के महासागरों पर हावी होने की अमेरिकी रणनीतिक नीति और नाटो सैन्य गठबंधन का रूस की सीमाओं के नजदीक मूवमेंट है.

वैसे सिद्धांत के अनुसार, रूस की प्राथमिकता भारत के साथ रणनीतिक और नौसैनिक सहयोग के साथ-साथ ईरान, इराक, सऊदी अरब और क्षेत्र के अन्य राज्यों के साथ व्यापक सहयोग विकसित करना था.

हालाँकि, पुतिन के भाषण में यूक्रेन में संघर्ष का उल्लेख नहीं था. लेकिन सैन्य सिद्धांत ने काले और आज़ोव समुद्र में रूस की भू-राजनीतिक स्थिति को व्यापक रूप से मजबूत करने की परिकल्पना की थी.

पुतिन के बीमार होने की आई थीं खबरें

हालही में, मीडिया रिपोर्ट्स में ये बताया गया था की, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का स्वास्थ्य अभी ठीक नहीं बताया जा रहा है. ऐसा बताया जा रहा है की, 69 वर्षीय पुतिन को रातभर दिक्कतों का सामना करना पड़ा. डॉक्टरों की सलाह के बीच वह बिस्तर पर लगभग तीन घंटे तक रहे. कई रिपोर्ट्स में ऐसा दावा किया जा रहा है की,

कई रिपोर्ट्स में यह भी दावा किया गया है की पुतिन देश से भागने वाले हैं. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन खुद और उनके दल रूस से भागने की योजना तैयार कर रहे हैं. बता दें की ऐसा माना जा रहा था की पुतिन सीरिया जा सकते हैं. हालांकि यदि वे सीरिया जाने के लिए तुर्की के हवाई क्षेत्र से गुजरे तो तुर्की ऐसा नहीं होने देगा. क्योंकि तुर्की नाटो का सदस्य है.

वैसे इन सभी बातों की पुष्टि नहीं हुई है. लेकिन इसके आधार कहीं न कहीं मौजूद हैं जो ये संकेत दे रहें है और सवाल भी उठा रहें हैं की क्या रूस के राष्ट्रपति (Vladimir Putin) सच में देश छोड़ कर चले जाएंगे. और अगर ये खबरे निराधार हैं तो रूस ने इन पर कुछ भी सफाई क्यों नहीं दी.

One thought on “Vladimir Putin ने किए नए रूसी नेवल डॉक्ट्रिन पर हस्ताक्षर, अमेरिका ने कहीं यह बातें”

Leave a Reply

Your email address will not be published.