Vedanta गुजरात में लगाएगा 1.54 लाख करोड़ रुपये का सेमीकंडक्टर प्लांट

Vedanta: वेदांता समूह के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने कहा कि भारत में एक मजबूत विनिर्माण आधार बनाने के लिए वेदांत-फॉक्सकॉन ने अपने सेमीकंडक्टर संयंत्र के लिए गुजरात को मुख्य रूप में चुना है.

1.54 लाख करोड़ रुपये की आएगी लागत

Moneycontrol से मिली जानकारी के मुताबिक, 1.54 लाख करोड़ रुपये की लागत से सेमीकंडक्टर प्लांट स्थापित करने के लिए राज्य सरकार के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं. वेदांता समूह (Vedanta) के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने ट्वीट कर के कहा है की,

“इतिहास बन जाता है! यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि गुजरात में नया वेदांत-फॉक्सकॉन सेमीकंडक्टर प्लांट स्थापित किया जाएगा. वेदांत का 1.54 लाख करोड़ रुपये का ऐतिहासिक निवेश भारत की #आत्मानबीर सिलिकॉन वैली को एक वास्तविकता बनाने में मदद करेगा. ”

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा की, “यह परियोजना जिससे 1 लाख प्रत्यक्ष कुशल रोजगार प्रदान करने के अलावा भारत के इलेक्ट्रॉनिक आयात को कम करने की उम्मीद है. देश के विनिर्माण क्षेत्र की मदद करेगी. गुजरात सरकार और केंद्रीय आईटी मंत्री के प्रति मेरी गहरी कृतज्ञता. जिन्होंने वेदांत को इतनी जल्दी चीजों को जोड़ने में मदद की है. भारत का तकनीकी पारिस्थितिकी तंत्र फलेगा-फूलेगा. जिससे हर राज्य नए इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण केंद्रों के माध्यम से लाभान्वित होगा.”

आगे उन्होंने कहा की, भारत की अपनी सिलिकॉन वैली अब एक कदम और करीब है. भारत न केवल अपने लोगों की, बल्कि समुद्र के पार के लोगों की भी डिजिटल जरूरतों को पूरा करेगा. चिप टेकर से चिप मेकर बनने का सफर आधिकारिक तौर पर शुरू हो गया है. जय हिंद!

प्रधानमंत्री मोदी ने कहीं ये बातें

सेमीकंडक्टर निर्माण के लिए राज्य में नवीनतम निवेश पर आशावाद व्यक्त करते हुए, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि “यह अर्थव्यवस्था और नौकरियों को बढ़ावा देने के लिए एक महत्वपूर्ण प्रभाव पैदा करेगा. साथ ही सहायक उद्योगों के लिए एक विशाल पारिस्थितिकी तंत्र बनाने में मदद करेगा और इस तरह हमारे एमएसएमई की मदद करेगा.”

वेदांता ग्रुप (Vedanta) की वेदांत सेमीकंडक्टर्स लिमिटेड 60,000 करोड़ रुपये के निवेश के साथ गुजरात में एक एकीकृत सेमीकंडक्टर फैब यूनिट और ओएसएटी (Outsourced semiconductor assembly and test) सुविधा स्थापित करेगी.

इकाई वेफर आकार 300 मिमी के साथ 28nm प्रौद्योगिकी नोड्स पर काम करेगी और डिस्प्ले निर्माण इकाई छोटे, मध्यम और बड़े अनुप्रयोगों के लिए जेनरेशन 8 डिस्प्ले का उत्पादन करेगी.

बता दें की, संयुक्त उद्यम में वेदांत की 60 फीसदी हिस्सेदारी होगी, जबकि फॉक्सकॉन की 40 फीसदी हिस्सेदारी होगी. संयुक्त उद्यम अगले दो वर्षों में सेमीकंडक्टर विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने पर विचार करेगा. वेदांता डिस्प्ले लिमिटेड गुजरात में 94,500 करोड़ रुपये के निवेश से एक डिस्प्ले फैब यूनिट स्थापित करेगी.

इतने लोग थे मौजूद

राज्य सरकार के एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि दोनों समूह भूमि, अर्धचालक ग्रेड पानी, उच्च गुणवत्ता वाली बिजली, रसद और एक कौशल पारिस्थितिकी तंत्र सहित आवश्यक बुनियादी ढांचे के साथ उच्च तकनीक वाले क्लस्टर स्थापित करने के लिए राज्य सरकार के साथ मिलकर काम करेंगे.

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव, गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल, वेदांत समूह के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल सहित अन्य अधिकारियों की उपस्थिति में समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए.

केंद्र ने भारत सेमीकंडक्टर मिशन (आईएसएम) के समर्थन के लिए 76,000 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ देश में स्थायी अर्धचालक और प्रदर्शन पारिस्थितिकी तंत्र, ओएसएटी / एटीएमपी के विकास के लिए पहले ही चार योजनाओं को अधिसूचित किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.