मुंबई-गांधीनगर रूट पर Vande Bharat Express हुई बड़े हादसे का शिकार

Vande Bharat Express: रेलवे अधिकारी की तरफ से एक अधिकारिक बयान आया की, मुंबई सेंट्रल से गुजरात के गांधीनगर के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस (Vande Bharat Express) गुरुवार को रेलवे ट्रैक पर भैंसों के झुंड के आने के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गई.

ऐसे हुआ Vande Bharat Express के साथ हादसा

स्थाई मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, हाल ही में पीएम मोदी ने देश को तीसरी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत की सौगात दी है. मुंबई सेंट्रल से गुजरात के गांधीनगर के बीच चलने वाली वंदेभारत की तीसरी वंदे भारत एक्सप्रेस गुरुवार को बड़े हादसे का शिकार होने से बच गई. पश्चिम रेलवे के वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी जेके जयंत ने कहा, “दुर्घटना आज सुबह करीब 11.15 बजे वटवा स्टेशन से मणिनगर स्टेशन के बीच हुई.”

हादसे में इंजन का अगला हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है. वंदे भारत एक्सप्रेस भैसों के झुंड से रेलवे लाइन पर टकरा गई थी. रिपोर्ट्स की मानें तो इस घटना में 3-4 भैंसों की मौत हो गई थी. वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन शवों को हटाकर धीरे-धीरे चली और समय पर गांधीनगर स्टेशन पहुंच गई.

जिसके बाद से ट्रेन (Vande Bharat Express) के आगे इंजन क्षतिग्रस्त हो गया था. इससे पहले दिन में, बुधवार की तड़के बांद्रा वर्ली सी लिंक (Bandra Worli Sea Link) के बीच में एक टायर फट गया था. जिसमें पांच लोगों की मौत हो गई और आठ घायल हो गए थे. मरने वालों में बीडब्ल्यूएसएल टोल नाका पर एक एम्बुलेंस चालक और कर्मचारी शामिल थे.

पीएम मोदी ने व्यक्त किया दुःख

इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मुंबई के बांद्रा-वर्ली सी लिंक रोड पर कार दुर्घटना में लोगों की मौत पर शोक व्यक्त किया है. प्रधानमंत्री कार्यालय ने बुधवार को ट्वीट किया की, “मुंबई में बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर एक दुर्घटना के कारण लोगों की जान जाने से आहत हूं. शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना। मुझे उम्मीद है कि जो लोग घायल हुए हैं. वे शीघ्र स्वस्थ होंगे.”

देश की तीसरी स्वेदश निर्मित हाई स्पीड वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को छह दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधीनगर स्टेशन से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था. बता दें की,  भविष्य में ऐसी दुर्घटनाओं से बचने के लिए रेलवे आस-पास के ग्रामीणों को सलाह दे रहा है कि वे जानवरों को ट्रैक के पास न छोड़ें. अगर वंदे भारत एक्सप्रेस की बात करें तो, स्वदेशी रूप से डिजाइन की गई सेमी-हाई स्पीड ट्रेन में कुल 16 कोच हैं.

ऐसी है वंदे भारत एक्सप्रेस

भारतीय रेलवे के अनुसार, एयर कंडीशनिंग, स्लाइडिंग दरवाजे, व्यक्तिगत रीडिंग लाइट, मोबाइल चार्जिंग पॉइंट, अटेंडेंट कॉल बटन जैसी विश्व स्तरीय सुविधाओं उपलब्ध हैं. बायो-टॉयलेट, स्वचालित प्रवेश और निकास द्वार, सीसीटीवी कैमरे, बैठने की सुविधा और आरामदायक सीटें भी हैं. अन्य सुरक्षा उपायों के लिए, ट्रेन में अंडर-स्लंग बिजली के उपकरणों के लिए फ्लडप्रूफिंग फीचर है जो 650 मिमी की ऊंचाई तक बाढ़ का सामना कर सकता है.

यह देश में तीसरी वंदे भारत एक्सप्रेस है. पहली नई दिल्ली-वाराणसी मार्ग पर चल रही है. जबकि दूसरी नई दिल्ली-श्री माता वैष्णो देवी कटरा मार्ग पर चल रही है. PTI के मुताबिक, यह पहली ट्रेन है जिसमें हवाई जहाज जैसे बायो-वैक्यूम शौचालय हैं. जिनमें स्पर्श-मुक्त ( touch-free amenities) सुविधाएं हैं और विकलांग यात्रियों के लिए एक विशेष शौचालय भी है.

Leave a Reply