Same-Sex Marriage: समलैंगिक विवाह पर यूएस हाउस ने पारित किया विधेयक

Same-Sex Marriage: अमेरिकी हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने मंगलवार को समलैंगिक विवाह (Same-Sex Marriage) अधिकारों की रक्षा करने वाला एक विधेयक पारित किया, जिसमें समान-सेक्स संबंधों और गर्भनिरोधक के अधिकारों की रक्षा करने वाले नियम  शामिल थे.

बता दें की, मंगलवार को यह विधेयक 267 में 157 वोटों से पारित हुआ है. रिपब्लिकन पार्टी के कुल 47 सांसदों ने भी अपना समर्थन दिया. जिसके बाद ये विधेयक पारित हो गया.

समलैंगिक विवाह की मिली मंजूरी

जानकारी के लिए बता दें की, हाउस रिपब्लिकन को पार्टी नेतृत्व द्वारा अपने विवेक के साथ मतदान करने के लिए कहा गया. जिन्होंने बिल के खिलाफ सचेत नहीं किया. यूएस हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव में विधेयक को रिपब्लिकन पार्टी (Republican Party) के 47 सांसदों ने भी अपना समर्थन दिया है. ऐसा बताया जा रहा है की, इस बिल (Same-Sex Marriage) को सीनेट में चुनौती का सामना करना पड़ सकता है.

मीडिया रिपोर्ट्स  के मुताबिक, डेमोक्रेट्स के पास 100 सदस्यीय सीनेट में 50 सीटें हैं और इस उपाय को फर्श पर लाने के लिए 10 रिपब्लिकन वोटों की आवश्यकता होगी.  सैंतालीस हाउस रिपब्लिकन ने कानून का समर्थन किया. जिसे रिस्पेक्ट फॉर मैरिज एक्ट कहा जाता है. जिसमें कुछ ऐसे भी शामिल हैं. जिन्होंने समलैंगिक विवाह के अपने पिछले विरोध के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगी है.

बता दें की, संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) में समलैंगिक विवाह को बहुमत का समर्थन प्राप्त है. जिसमें रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक दोनों मतदाताओं के बहुमत का समर्थन शामिल है. ओहियो (Ohio) के कांग्रेसी जिम जॉर्डन ने कहा की, “हम यहां एक राजनीतिक सारथी के लिए हैं, हम यहां राजनीतिक संदेश के लिए हैं.” मिसौरी के सीनेटर जोश हॉले ने बिल के बारे में कहा की, “मैं शायद इसका समर्थन करने के लिए इच्छुक नहीं हूं. इसकी भविष्यवाणी बिल्कुल गलत है। मुझे नहीं लगता कि सुप्रीम कोर्ट इनमें से किसी भी चीज को पलटने वाला है.”

दुसरें राज्यों में भी लागू होगा एक्ट

बता दें की, यह एक्ट समान-लिंग बल्कि अंतरजातीय विवाहों को भी सुरक्षा प्रदान करेगा. हालाँकि, ये नया विधेयक 1996 के कानून विवाह अधिनियम की रक्षा, को मूल रूप से ओबामा-युग के अदालती फैसलों को भी निरस्त करता है. उसमें विवाह को एक पुरुष और एक महिला के बीच के मिलन के रूप में परिभाषित किया गया था. अब अगर बात करें गर्भपात अधिनियम की तो, पिछले हफ्ते, सदन ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर गर्भपात तक पहुंच की रक्षा के लिए दो विधेयकों को मंजूरी दे दी है.

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो, एक समान राय में न्यायमूर्ति क्लेरेंस थॉमस (Clarence Thomas) ने कहा है की, “रो के समान अन्य फैसलों पर पुनर्विचार किया जाना चाहिए. जिसमें समान-लिंग विवाह और जोड़ों के गर्भनिरोधक का उपयोग करने का अधिकार शामिल है.” बता दें की, जबकि अलिटो ने बहुमत की राय में जोर देकर कहा कि, “यह निर्णय गर्भपात के संवैधानिक अधिकार से संबंधित है और कोई अन्य अधिकार नहीं है.”

टेक्सास रिपब्लिकन सीनेटर टेड क्रूज़ ने कहा कि, “विवाह समानता की रक्षा करने वाला सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय स्पष्ट रूप से गलत था और राज्य विधानसभाओं को इस मुद्दे पर जाना चाहिए और सेम सेक्स मैरिज पर रोक लगानी चाहिए.” हालाँकि, अभी तो ये विधेयक को पास कर दिया गया है.

Leave a Reply