United Kingdom: बोरिस जॉनसन ने इतने विवाद होने के बावजूद भी पद छोड़ने से किया साफ़ इनकार

United Kingdom: ब्रिटिश (United Kingdom) के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) की कुर्सी पर कब से खतरा मंडरा रहा है. वहाँ पर प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की पार्टी के सत्ता में बाहर होने के पूरे संकेत मिल रहे थे.

बता दें की, अभी हालही में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की पार्टी के दो नामी नेताओं ने अपने पद से इस्तीफ़ा दिया था. जिसके चलते ऐसा माना जा रहा था की अब प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन भी जल्दि ही अपने पद से इस्तीफ़ा दे देंगे. लेकिन फ़िलहाल तो उन्होंने ऐसा कुछ भी करने से साफ़ इंकार कर दिया है.

अटकलों के बीच ब्रिटिश के प्रधानमंत्री ने दिए साफ़ संकेत

स्थानीय मीडिया का कहना है की, प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (PM Boris Johnson) ने इस्तीफ़ा देने से साफ़ इनकार कर दिया है. ऐसी खबरे थी की, इससे पहले बोरिस जॉनसन के कैबिनेट मंत्री (Cabinet Minister) उनके घर पर इकठ्ठा हुए थे और उन्होंने बोरिस जॉनसन (PM Boris Johnson)  को प्रधानमंत्री पद छोड़ने के लिए राजी भी कर लिया था.

ANI की ख़बरों के अनुसार, जॉनसन (PM Boris Johnson) ने जोर देकर और स्पष्ट कहा की उनकी पार्टी के बीच चाहे कितने भी तनाव क्यों ना बढ़ जाएँ लेकिन वो अपना प्रधानमंत्री (Prime Minister) का पद नहीं छोड़ेंगे और ब्रिटिश (United Kingdom) के पीएम के रूप में सेवा देना ज़ारी रखेंगे. इन सभी तनाव के बीच ब्रिटेन के पीएम को बुधवार को बड़ा झटका भी लगा. मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, ब्रिटेन में कुल 38 मंत्रियों ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया था.

गृह मंत्री के आग्रह पर भी नहीं माने जॉनसन

बता दें की, गृह मंत्री प्रीति पटेल (Priti Patel) और नादिम जाहावी (Nadhim Zahawi) सहित एक कैबिनेट प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (PM Boris Johnson) से आग्रह किया की वो अपना पद छोड़ दें. लेकिन उन्होंने अपने गृह मंत्री की बात को भी सिरे से नकार दिया. इसके अलावा बोरिस जॉनसन के दो वफादार उनके साथ कंधे से कंधा मिला कर खड़े हैं.

नादिन डोरिस (Nadine Dorries) और जैकब रीस मोग (Jacob Rees Mogg) ने बिना कोई अपनी शर्त रखे यूके (United Kingdom) के प्रधानमंत्री को समर्थन देने की घोषणा की है. बोरिस जॉनसन का कहना है की, “मैं पद छोड़ने वाला नहीं हूं क्योंकि इस देश को मेरी ज़रूरत है.” ऋषि सनक (Rishi Sunak) और साजिद जाविद (Sajid Javid) दोनों ही जॉनसन के बहुत ही करीबी और बड़े नेता थे. लेकिन इन दोनों नेताओं ने भी वित्त मंत्री और स्वास्थ्य सचिव के पद से इस्तीफ़ा दे दिया था.

बोरिस जॉनसन की राह नहीं है आसान

वैसे तो जॉनसन (PM Boris Johnson) पूरे जोश के साथ सत्ता में टिके हुए हैं. लेकिन फिर भी ब्रिटिश पीएम की राह इतनी भी आसन नहीं है उनको कई मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा. सबसे ज्यादा मुश्किलों के वजह है जॉनसन पर लगे घोटाले  के आरोप. इन्ही आरोपों के चलते, ऋषि सनक (Rishi Sunak) और साजिद जाविद (Sajid Javid) ने नाराज़गी जताई है.

उनके मुताबिक ये घोटाले COVID-19 के लॉकडाउन में हुए थे. इन घोटालों में ‘पार्टीगेट’ कांड भी शामिल है. ऐसा बताया जाता है की, पिछले महीने  ब्रिटिश पीएम विश्वास मत हासिल करने में कामयाब रहे थे. लेकिन 2020 और 2021 के दौरान COVID-19 लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने और ‘पार्टीगेट’ घोटाले के बाद जॉनसन की लोकप्रियता कम होती चली गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published.