यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने पश्चिम देशों से आग्रह किया कि वह रूस के साथ खेलना बंद करने और यूक्रेन में उसके “मूर्खतापूर्ण युद्ध” को समाप्त करने के लिए उस पर सख्त प्रतिबंध लगाए | उन्होंने ये भी कहा उनका देश हमेशा स्वतंत्र रहेगा, परन्तु सवाल यह है कि उसकी कीमत क्या होगी |

यूक्रेन पर आक्रमण के तीन महीने बाद, रूस ने यूक्रेन की राजधानी कीव पर अपना हमला छोड़ दिया है और पूर्वी औद्योगिक डोनबास क्षेत्र पर नियंत्रण मजबूत करने की कोशिश कर रहा है, जहां उसने 2014 से ही अलगाववादी विद्रोह का समर्थन किया है।

ज़ेलेंस्की ने गुरुवार रात एक संबोधन में कहा, “यूक्रेन हमेशा एक स्वतंत्र राज्य रहेगा और इसे तोड़ा नहीं सकता | एकमात्र सवाल यह है कि हमारे लोग अपनी स्वतंत्रता के लिए क्या कीमत चुकाएंगे और रूस हमारे खिलाफ इस मूर्खतापूर्ण युद्ध के लिए क्या कीमत चुकाएगा।

ज़ेलेंस्की ने रूस के खिलाफ अधिक प्रतिबंधों लगाने की योजना पर यूरोपीय संघ के देशों भीतर असहमति के बारे में शिकायत की और पूछा कि कुछ देशों को योजना को रोकने की अनुमति क्यों दी जा रही है।

यूरोपीय संघ रूसी तेल आयात पर प्रतिबंध सहित और अधिक दंडात्मक उपायों के छठे दौर पर चर्चा कर रहा है। इसके लिए सभी देशों के सर्वसम्मति की आवश्यकता है लेकिन हंगरी इस विचार का विरोध इस आधार पर करता है कि इससे उसकी अर्थव्यवस्था को बहुत अधिक नुकसान होगा।

हंगरी के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि हंगरी को रूसी कच्चे तेल से दूर जाने और अपनी अर्थव्यवस्था को समायोजित करने के लिए भारी निवेश करने और सभी मुद्दों पर यूरोपीय संघ के साथ समझौते तक पहुंचने के लिए 3 से 4 साल की आवश्यकता होगी |

ज़ेलेंस्की ने ये भी कहा कि रूस को ऊर्जा आपूर्ति के लिए यूरोपियन संघ के 27 देशों के ब्लॉक से प्रतिदिन एक अरब यूरो की कमाई हो रही हैं।उन्होंने कहा रूस पर और दबाव बनाने का कारण वस्तुतः जीवन बचाना है। हर दिन शिथिलता, कमजोरी, विभिन्न विवाद या पीड़ितों की कीमत पर हमलावर रूस को ‘शांत’ करने के प्रस्तावों का मतलब केवल अधिक यूक्रेनियन नागरिको को जान गवाना है ।”

यूक्रेन की सेना ने एक बयान में कहा कि रूसी सेना ने गुरुवार को सिवारोडोनेट्स्क और लिसिचांस्क में यूक्रेनी बलों को घेरने की कोशिश करने के लिए तीन तरफा हमला किया। यदि दो शहर सिवरस्की डोनेट्स नदी के किनारे गिरते हैं, तो लुहान्स्क के लगभग सभी डोनबास प्रांत रूसी नियंत्रण में होंगे।

रूस की डोनबास में बढ़त को बड़े पैमाने पर तोपखाने की बमबारी द्वारा समर्थित किया गया है| यूक्रेन की सेना ने कहा कि डोनेट्स्क और लुहान्स्क प्रांतों के 50 शहरों में गुरुवार को गोलाबारी की गई।

By Satyam

Leave a Reply