यूक्रेन से चल रही जंग के बीच रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बारे में बड़ी खबर सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पुतिन कुछ समय के लिए अपना पद छोड़ सकते हैं।रिपोर्ट्स के मुताबिक, रूसी राष्ट्रपति के कार्यालय क्रेमलिन के सूत्रों का दावा है कि व्लादिमीर पुतिन पेट के कैंसर और पार्किसंस रोग से ग्रसित हैं। 69 साल के रूसी राष्ट्रपति के पेट के कैंसर की सर्जरी होनी है। ऐसे में उनकी जगह उनका खास सहयोगी और हार्डलाइन स्पाई चीफ निकोलई पात्रुशेव अहम जिम्मेदारियां संभालेंगे।

यूक्रेन के खिलाफ युद्ध की रणनीति बनाने वालों में 70 साल के निकोलई पात्रुशेव प्रमुख व्यक्ति माने जाते हैं। सूत्रों का दावा है कि उन्होंने ही रूसी राष्ट्रपति पुतिन को इस बात का भरोसा दिलाया कि यूक्रेन की सरकार नव-नाजीवाद से भर गई है और यूक्रेन में रूस के खिलाफ बड़ी साजिशें की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पुतिन जल्द ही अपनी मेडिकल जांच की प्रक्रिया शुरू करवाने जा रहे हैं। वहीं, उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें कैंसर का तुरंत ऑपरेशन कराने की जरूरत है। ऑपरेशन के बाद जब तक वे फिट नहीं हो जाते, तब तक वे सरकार नहीं चला पाएंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि पुतिन ने इसके बारे में अपने भरोसेमंद पात्रुशेव से कई घंटों तक बातचीत की। रिपोर्ट्स में तो ये भी कहा जा रहा है कि उन्होंने बातचीत के बाद ऑपरेशन के दौरान पात्रुशेव को सत्ता सौंपने का फैसला भी कर लिया है, हालांकि अभी इसकी घोषणा नहीं की गई है।

ख़बरों के अनुसार रूसी राष्ट्रपति पुतिन लंबे समय से बीमार हैं, वे कैंसर और पार्किसंस रोग से परेशान हैं। ऑपरेशन न करवाने की वजह से ये दोनों बीमारियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। वहीं, वे ऑपरेशन कब कराएंगे यह अभी तय नहीं हुआ है, लेकिन इतना स्पष्ट है कि वे 9 मई से पहले ऑपरेशन के बारे में नहीं सोचेंगे। दरअसल, 9 मई को रूस का नेशनल विक्ट्री डे होता है, उसी दिन रूस ने हिटलर की नाजी सेना पर विजय हासिल की थी

By Satyam

Leave a Reply

Your email address will not be published.