Turkey: यूक्रेन युद्ध का फायदा उठाने की फिराक में तुर्की, सीरिया पर हमले की चेतावनी दी

तुर्की(Turkey) के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन(Recep Tayyip Erdogan) ने अपने चिर विरोधी ग्रीस(Greece) के खिलाफ पूर्वी ईजियन द्वीपों से सेना हटाने को लेकर मोर्चा खोल दिया है. दूसरी तरफ सीरिया(Syria) में कुर्दों के खिलाफ नया मिलिट्री ऑपरेशन  शुरू करने की धमकी दी है.

रूस-यूक्रेन(Russia-Ukraine) युद्ध को 103 दिन हो चुके हैं और जंग रुकने के कोई आसार नहीं दिख रहे. अमेरिका(America) समेत तमाम देशों का ध्यान इस जंग को रोकने में लगा हुआ है. इसी का फायदा उठाने की फिराक में हैं तुर्की(Turkey) के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन(Recep Tayyip Erdogan).

तुर्की क्यों हो रहा हमले के लिए उतावला

तुर्की(Turkey) के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन(Recep Tayyip Erdogan) ने अपने चिर विरोधी ग्रीस(Greece) पर एक बार फिर जमकर आग उगली है और इसी के साथ सीरिया में नया मिलिट्री ऑपरेशन शुरू करने की धमकी दी है.

अमेरिका(America) समेत कई देश इसे लेकर तुर्की(Turkey) को चेता चुके हैं, लेकिन एर्दोगन(Recep Tayyip Erdogan) पर कोई असर नहीं हो रहा है. संभवतः तुर्की(Turkey) की खस्ताहाल अर्थव्यवस्था, आसमान छूती महंगाई और अपनी घटती लोकप्रियता से जनता का ध्यान हटाने के लिए उन्हें ये अच्छा मौका नजर आ रहा है.

समाचार एजेंसी एएनआई(ANI) के मुताबिक, तुर्की(Turkey) के राष्ट्रपति एर्दोगन(Recep Tayyip Erdogan) ने पिछले हफ्ते ग्रीस के प्रधानमंत्री क्यारीकोस मित्सोटाकिस(Kyriakos Mitsotakis) के साथ सभी संपर्क तोड़ने का ऐलान किया था. वह मित्सोटाकिस(Kyriakos Mitsotakis) के अमेरिकी कांग्रेस में संबोधन और F-35 लड़ाकू विमानों के सौदे से नाराज हैं.

मित्सोताकिस की अमेरिका यात्रा के बाद से ग्रीस के हवाई क्षेत्र में तुर्की के सैन्य विमानों की घुसपैठ काफी बढ़ गई है. 13 मार्च को इस्तांबुल में बैठक के दौरान एर्दोगन और मित्सोटाकिस(Kyriakos Mitsotakis) ने भड़काऊ बयानबाजी से बचने, दोनों देशों के बीच तनाव घटाने, पूर्वी भूमध्य सागर में स्थिरता पर काम करने और आपसी संपर्क बढ़ाने पर सहमति जताई थी लेकिन ये सब हवा हो चुका है.

Turkey ने हाल ही में ग्रीस को दी धमकी

तुर्की(Turkey) ने हाल ही में ग्रीस(Greece) को पूर्वी ईजियन द्वीपों से सेना हटाने की धमकी दी थी. ऐसा न करने पर उनकी संप्रभुता को चुनौती देने की घोषणा की थी. तुर्की के विदेश मंत्री ने तो 14 द्वीपों का नक्शा भी पेश कर दिया था.

रॉयटर्स से इंटरव्यू में ग्रीस(Greece) के Pm ने कहा था कि वह द्वीपों को लेकर तुर्की की बेतुकी मांगों को स्वीकार नहीं कर सकते. तुर्की को अपना आक्रामक व्यवहार और बयानबाजी बंद करनी होगी. उन्होंने विश्वास जताया था कि जरूरत पड़ने पर अमेरिका(America)  और यूरोपीय यूनियन(European Union) उनकी सुरक्षा करेगी.

तुर्की(Turkey) के विदेश मंत्रालय ने ग्रीस पर आतंकी समूहों को पनाह और बढ़ावा देने का आरोप लगाया. एएनआई(ANI) के मुताबिक, रूस(Russia) के यूक्रेन(Ukraine) युद्ध में फंसे होने के बीच तुर्की के राष्ट्रपति को सीरियाई सीमा पर 30 किलोमीटर लंबा सिक्योरिटी जोन बनाने के अपने पुराने प्लान पर अमल का ये अच्छा मौका दिख रहा है.

तुर्की(Turkey) के लिए सीरिया से आए शरणार्थी एक बड़ी समस्या हैं. वह उन लोगों को रखने के लिए ये सिक्योरिटी जोन बनाना चाहता है. तुर्की के राष्ट्रपति का कहना है कि कुर्दिश आतंकियों (वाईपीजी) को तुर्की की सीमा से दूर रखने का समझौता फेल हो गया है, इसलिए वह सीरिया(Syria) में इनके खिलाफ सैन्य कार्रवाई करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.