Myanmar: अमेरिका ने लोकतंत्र समर्थक नेताओं को फांसी देने के लिए म्यांमार की सैन्य जुंटा की योजनाओं को कर दिया ख़ारिज

तुर्की (Turkey) का नाम बदल गया है. संयुक्त राष्ट्र(United Nations) ने भी नाम बदलने के अनुरोध को स्वीकार करते हुए उसका नाम तुर्किये कर दिया है. गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र ने इस फैसले पर मुहर लगाई. तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयप एर्दोगन (Recep Tayyip Erdogan) ने फरवरी में तुर्की(Turkey) का नाम बदलने का फैसला किया था. लेकिन ऐसी क्या वजह है कि तुर्की को अपना नाम बदलना पड़ा?

तुर्की से क्यों हुआ तुर्किये

फरवरी में तुर्की(Turkey) के राष्ट्रपति रेचप तैयप एर्दोगन(Recep Tayyip Erdoğan) ने कहा था कि तुर्की(Turkey) का नाम उसकी सही इमेज सामने लाने के लिए बदला गया है. तुर्किये (Türkiye) नाम से देश इतिहास से जुड़ा दिखता है. राष्ट्रपति एर्दोगन ने कहा कि तुर्किये(Türkiye) नाम संस्कृति और सभ्यता का प्रतिनिधित्व करता है. एर्दोगन की बात सही है, लेकिन तुर्की नाम के कारण कई बार पूरे देश को हीन भावना का शिकार होना पड़ा है. दरअसल क्रैबिंज डिक्शनरी में Turky का मतलब एक ऐसी चीज से होता है जो बुरी तरह फेल हो गया हो.औपनिवेशिक शासन के दौरान लैटिन भाषा में तुर्किया को तुर्की कहा जाने लगा। 1923 में तुर्की(Turkey) को आजादी मिली. आजादी मिलने के साथ ही लोग देश में इसे तुर्किये बोलने लगे. लेकिन बावजूद इसके तुर्की को ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल किया गया.

यानी ये नाम इसकी गुलामी से जुड़ा हुआ है. तुर्की अपने आप में मुस्लिम देशों का रहनुमा बनने की कोशिश करता है, लेकिन गुलामी से जुड़ा उसका यह नाम उसे शर्मिंदा कर देता है. पिछले साल ही राष्ट्रपति एर्दोआन ने तुर्की संस्कृति को ध्यान में रखकर तुर्की की जगह “तुर्किये“ (Türkiye) के इस्तेमाल का आदेश दे दिया था. इस आदेश के मुताबिक- फॉरेन एक्सपोर्ट किए जाने वाले सभी प्रोडक्ट्स पर ‘मेड इन तुर्की’ के बजाय ‘मेड इन तुर्किये’ का इस्तेमाल किया जाए. तुर्की के सभी मंत्रालयों ने ऑफिशियल डॉक्यूमेंट्स में “तुर्किये“ लिखना भी शुरु कर दिया था.

Turkey शब्द से क्या दिक्कत है ?

तुर्की(Turkey) कई मतलब होते हैं. इसे ज्यादातर मायनों में नहीं लिया जाता, खासतौर पर अंग्रेजी में. दरअसल, तुर्की(Turkey) को इंग्लिश में टर्की कहा जाता है. टर्की का मतलब मूर्ख भी होता है. यही नहीं, इसका इस्तेमाल नाकामी के तौर पर भी किया जाता है. टर्की नाम का एक पक्षी भी होता है. भारत(India) में इसे तीतर कहा जाता है। नॉर्थ अमेरिका में क्रिसमस पार्टी में इसका मांस परोसने और खाने का ज्यादा चलन है. इसलिए टर्की अपने इस नाम को बदलकर तुर्की भाषा के हिसाब से तुर्किये रखना चाहता है. वैसे भी टर्किश लैंग्वेज में टर्किये ही होता है. ये बात अलग है कि दुनिया के सभी देशों में टर्किए की बजाए इसे टर्की कहा जाता रहा है.

तुर्की के अलावा कई देशों ने अपना नाम बदला है. यूरोप के उत्तर-पश्चिम में समुद्र के किनारे बसे इस देश को पहले हॉलैंड (Holland) भी कहा जाता था. हॉलैंड नाम को हटाकर डच सरकार ने भी अपनी छवि में सुधार किया है. 2020 के बाद से व्यापारिक नेता, पर्यटन बोर्ड और केंद्र सरकार सभी देश को नीदरलैंड्स के नाम से पुकारते हैं. अब नीदरलैंड्स के 12 प्रांतों में से  नॉर्थ हॉलैंड और साउथ हॉलैंड 2 प्रांत हैं. दरअसल हॉलैंड को ज्यादातर नशीली दवाओं और वेश्यावृत्ति से जोड़ा जाता था, जिस कारण  लोग वहां जाना नहीं पसंद करते थे.

Leave a Reply