पूर्व PM Rajiv Gandhi के हत्यारों को सुप्रीम कोर्ट ने किया रिहा, Congress ने कहा यह फैसला है 'अस्वीकार्य'

PM Rajiv Gandhi: भारत की शीर्ष अदालत ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (PM Rajiv Gandhi) की हत्या के दोषी छह लोगों को रिहा करने का आदेश दिया है. जिसके बाद अब कांग्रेस प्रदर्शन कर रही है.

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (PM Rajiv Gandhi) 46 वर्ष के थे जब 1991 में दक्षिणी राज्य तमिलनाडु में एक चुनावी रैली में एक महिला आत्मघाती हमलावर द्वारा उनकी हत्या कर दी गई थी. उनकी हत्या के बाद से पूरे देश में सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल उठे थे.

PM Rajiv Gandhi के हत्यारों के जेल से बाहर आने पर कांग्रेस ने किया विरोध

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने भारत पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (PM Rajiv Gandhi) हत्याकांड में नलिनी श्रीहरन और पांच अन्य दोषियों को रिहा कर दिया है. सर्वोच्च न्यायालय की माने तो हत्या को श्रीलंकाई सशस्त्र अलगाववादी समूह लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (LTTE) के सदस्यों द्वारा अंजाम दिया गया था.

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि दोषियों को जेल में उनके संतोषजनक आचरण (satisfactory Behaviour) के आधार पर रिहा किया जा रहा है और उन्होंने 30 साल से अधिक की जेल की सजा काट ली है. छह आरोपियों में से जिनमें से तीन को 2014 में उनकी सजा सुनाए जाने से पहले मौत की सजा दी गई थी.

पूर्व PM Rajiv Gandhi के हत्यारों को सुप्रीम कोर्ट ने किया रिहा, Congress ने कहा यह फैसला है 'अस्वीकार्य'
पूर्व PM Rajiv Gandhi के हत्यारों को सुप्रीम कोर्ट ने किया रिहा, Congress ने कहा यह फैसला है ‘अस्वीकार्य’

नलिनी श्रीहरन ने रिहा होने के बाद मीडिया के सामने जाहिर की अपनी खुशी

राजीव गाँधी (PM Rajiv Gandhi) हत्या काण्ड में  आरोपी नलिनी श्रीहरन ने रिहा होने के बाद CNN को बताया की, “मैं बहुत खुश हूं. मैं हर किसी का बहुत आभारी हूं.” आगे उन्होंने कहा की, “पिछले 32 साल संघर्षपूर्ण रहे हैं.” नलिनी और उसके पति को अदालत द्वारा रिहा किए गए दोषियों में से एक है. और दोनों को शुरू में मौत की सजा दी गई थी.

बता दें की, इस साल की शुरुआत में अदालत ने मामले के एक अन्य दोषी ए जी पेरारीवलन को रिहा करने का आदेश दिया था. जिन्हें अच्छे आचरण का हवाला देते हुए रिहा किया गया. इनको भी शुरू में फांसी की सजा सुनाई गई थी.

कांग्रेस पार्टी  शीर्ष अदालत की फैसले को दे रही है चुनौती

वैसे कांग्रेस पार्टी महासचिव जयराम रमेश (Jairam Ramesh) ने आरोप लगाते हुए कहा है की, “पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (PM Rajiv Gandhi) के हत्यारों को (समय-पूर्व) रिहा करने का सुप्रीम कोर्ट का फैसला पूरी तरह अस्वीकार्य और त्रुटिपूर्ण है. कांग्रेस पार्टी स्पष्ट रूप से इसकी आलोचना करती है और इसे अरक्षणीय पाती है. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे पर भारत की भावना के अनुरूप कदम नहीं उठाया.”

कहा जाता है की पूर्व पीएम राजीव गाँधी (PM Rajiv Gandhi) सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री बने थे. दशकों तक कांग्रेस ने देश पर एक क्षत्र राज किया है. इसके साथ सोनिया गाँधी का कांग्रेस में अहम किरदार रहा है. और आज भी पार्टी की पूरी कमान उनके ही हाँथ में बताई जाती है. और कांग्रेस को सत्ताधारी भाजपा का सबसे बड़ा और मुख्य राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी माना जाता है.

Leave a Reply