रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद अब आसार चीन(China ) और ताइवान(Taiwan) के युद्ध के बनते नज़र आ रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन(Joe Biden) की ताइवान(Taiwan ) के समर्थन में दिए गए बयान के बाद चीन(China ) गुस्से से लाल है। इसी के चलते चीन ने ताइवान के आसपास समुद्र और हवाई क्षेत्र में गश्त(Patroling) की। बाइडेन की चीन को ताइवान से दूर रहने की चेतावनी के बाद ड्रैगन की बौखलाहट खुल कर सामने आ रही है।

क्या ताइवान-चीन के युद्ध की वजह बनेगा अमेरिका

चीन-ताइवान के रिश्तों में बढ़ती खट्टास को लेकर अब दुनिया भर में चर्चा तेज़ हो गई है। चीनी(China) सेना ने बयान दिया है की उसने ताइवान(Taiwan) के क्षेत्र में हवाई और समुद्री लड़ाकू तत्परता गश्ती(combat readiness patrol) की है। हालांकि चीन(China) ताइवान के इलाके को तथाकथित तौर पर अपना बताया है। बता दें की, चीन के 30 लड़ाकू विमानों ने एक साथ ताइवानी(Taiwan) वायु सीमा में घुसपैठ की है। चीनी लड़ाकू विमानों की जानकारी मिलते ही ताइवान के एयर डिफेंस फोर्स हरकत में आ गई और गश्त कर रहे लड़ाकू विमानों को तुरंत चेतावनी देने के लिए भेजा गया।

इतना ही नहीं, ताइवान ने रेडियो के जरिए भी चीनी पायलटों को चेतावनी देकर अपने इलाके से दूर जाने को कहा। जिसके बाद ताइवानी विमानों को पास आता देख चीनी लड़ाकू विमान अपनी सीमा में भाग खड़े हुए। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो अमेरिका के दखल देने की वजह से चीन बौखला गया है। ताइवानी विदेश मंत्रालय ने बताया है कि 30 मई को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी एयरफोर्स के 30 लड़ाकू विमानों ने दक्षिण पश्चिमी एयर डिफेंस जोन में प्रवेश किया।

ताइवानी हवाई क्षेत्र में घुसपैठ करने वाले विमान

सुरक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि फिलहाल चीन(China) की ताइवान(Taiwan) पर निर्भरता इतनी ज्यादा है कि ताइवान पर हमला करना उसके हित में नहीं होगा। ऐसे में उसके हमले की आशंका तभी पैदा होगी, अगर ताइवान अचानक अपनी स्वतंत्रता का एलान कर दे। गौरतलब है कि ताइवान को चीन अपना हिस्सा समझता है। लेकिन चीन में कम्युनिस्ट क्रांति होने के बाद से वहां चीन सरकार का शासन नहीं है।चीन(China) का मानना है कि एक दिन ताइवान(Taiwan) फिर से चीन का हिस्सा बन जाएगा। ताइवान(Taiwan) खुद को एक स्वतंत्र देश मानता है, जिसका अपना संविधान है और वहां लोगों द्वारा चुनी हुई सरकार का शासन है।

30 मई 2022 को ताइवानी हवाई क्षेत्र में घुसपैठ करने वाले इन विमानों में शामिल थे 2 शानक्सी केजे-500 अवाक्स विमान, 4 शानक्सी वाई-8 ट्रांसपोर्ट विमान, 1 शानक्सी वाई-8 अर्ली वार्निंग, 1 शानक्सी वाई-8 एंटी सबमरीन वॉरफेयर विमान, 6 जे-16 लड़ाकू विमान, 8 जे-11 लड़ाकू विमान, 4 जे-10 लड़ाकू विमान, 2 सुखोई एसयू-35 और 2 सुखोई-30 लड़ाकू विमान।

Leave a Reply