September 25, 2022
Taliban-Islam: तालिबानी अधिकारियों का कहना है की, इस्लाम महिलाओं को शिक्षा, काम का देता है अधिकार

Taliban-Islam: तालिबानी अधिकारियों का कहना है की, इस्लाम महिलाओं को शिक्षा, काम का देता है अधिकार

Spread the love

Taliban-Islam: अफगानिस्तान में तालिबान का राज होने के बाद से हर कोई उनकी नीति का विरोध करता आया है. ऐसे में बता दें की, तालिबान (Taliban-Islam) के एक अधिकारी ने कहा है कि इस्लाम महिलाओं को शिक्षा, काम और उद्यमिता का अधिकार देता है. और दोहराया कि समूह माध्यमिक विद्यालयों और कार्यस्थल में लड़कियों और महिलाओं के लिए तथाकथित सुरक्षित वातावरण बनाने के लिए काम कर रहा है.

तालिबान अधिकारी ने महिलाओं के हित में कहीं  ये बातें

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, उप और सदाचार मंत्रालय के तालिबान प्रवक्ता सादिक अकिफ मुहाजिर ने मीडिया से बात करते हुए कहा की, “मुझे कहना होगा कि इस्लाम ने महिलाओं को शिक्षा का अधिकार दिया है. इस्लाम ने महिलाओं को काम करने का अधिकार दिया है. इस्लाम ने महिलाओं को उद्यमिता का अधिकार दिया है.”

उन्होंने इंटरव्यू के दौरान आगे कहा की, “अगर इस्लाम ने इसकी इजाजत दी है तो मैं कौन होता हूं इस पर बैन लगाने वाला.” मुहाजिर की टिप्पणी सशस्त्र समूह द्वारा देश पर कब्जा करने और लड़कियों की माध्यमिक शिक्षा पर प्रतिबंध सहित महिलाओं की स्वतंत्रता पर कई प्रतिबंध लगाने के एक साल से अधिक समय बाद आई है.

सत्ता में लौटने के बाद से  तालिबान ने अन्य बातों के अलावा  देश भर में लड़कियों के माध्यमिक विद्यालयों को बंद कर दिया था. महिलाओं को कार्यस्थल पर हिजाब पहनने और सार्वजनिक रूप से अपना चेहरा ढंकने का आदेश दिया था और महिलाओं को एक करीबी पुरुष के बिना लंबी दूरी की यात्रा करने पर प्रतिबंध लगा दिया था.

स्वतंत्रता और आंदोलनों पर प्रतिबंध 1990 दशक की दिलाता है याद

बता दें की, स्वतंत्रता और आंदोलनों पर प्रतिबंध 1990 के दशक में तालिबान (Taliban-Islam) के सत्ता में आखिरी बार की याद दिलाते हैं. जब समूह ने लड़कियों और महिलाओं को शिक्षा के अधिकार से वंचित कर दिया और उन्हें सार्वजनिक जीवन से रोक दिया.

सशस्त्र समूह ने 15 अगस्त, 2021 को सत्ता में लौटने के बाद महिलाओं के अधिकारों और मीडिया की स्वतंत्रता का वादा किया था. लेकिन तब से यह अपनी प्रतिज्ञा से पीछे हट गया है. तालिबान ने अपने फैसले का बचाव करते हुए कहा है कि इस तरह के प्रतिबंध राष्ट्रीय हित और महिलाओं के सम्मान को बनाए रखने के लिए किए गए हैं.

उप और सदाचार मंत्रालय के तालिबान प्रवक्ता सादिक अकिफ मुहाजिर ने कहा की, “मैं एक ऐसी स्थिति बनाने के लिए काम कर रहा हूं जहां वे इस तरह से काम कर सकें जो उनके सम्मान की रक्षा करे. यह उस तरह से नहीं होना चाहिए जैसा कि पिछले प्रशासन में था.”

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन की रिपोर्ट में सामने आई ये बातें

इस साल अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के एक अध्ययन में पाया गया कि तालिबान के अधिग्रहण के तुरंत बाद के महीनों में अफगान महिलाओं के रोजगार के स्तर में अनुमानित 16 प्रतिशत की गिरावट आई है. इसके विपरीत पुरुष रोजगार में 6 प्रतिशत की गिरावट आई है.

रिपोर्ट में कहा गया है की, “निराशावादी परिदृश्य में जहां प्रतिबंध तेज हो जाते हैं. और महिलाओं को लगता है कि वे अपने कार्यस्थलों पर सुरक्षित रूप से दिखाई नहीं दे सकती हैं. महिलाओं के लिए नौकरी के नुकसान का स्तर 28 प्रतिशत तक पहुंच सकता है.”

1 thought on “Taliban-Islam: तालिबानी अधिकारियों का कहना है की, इस्लाम महिलाओं को शिक्षा, काम का देता है अधिकार

Leave a Reply

Your email address will not be published.