Taiwan: ताइवान के राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने अपने राष्ट्रीय भाषण में चीन को चेतावनी दी कि ताइवान अपनी स्वतंत्रता और लोकतंत्र को कभी नहीं छोड़ेगा. ताइवान (Taiwan) ने भारत की ओर इशारा करते हुए कहा है की,  अब वक्त आ गया है कि दोनों देश एक-दूसरे का रणनीतिक सहयोग करें.

चीन की बराबर नज़रें टिकीं हैं Taiwan पर

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, ताइवान के राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन का कहना है की, चीन हमारी आज़ादी को बिकाऊ न समझे. ताइवान अपने लोगों की स्वतंत्रता के साथ कभी समझौता नहीं करेगा. वैसे चीन लगातार ताइवान को धमकियाँ दे रहा है. बता दें कि अमेरिकी संसद की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने अगस्त में ताइवान की हाई-प्रोफाइल यात्रा की थी. इसके बाद चीन ने इस स्वशासित द्वीप के खिलाफ आक्रामक सैन्य कार्रवाई की थी.

अब दोनों देशों के बीच की लड़ाई वैश्विक स्तर पर चिंता बन गयी है. अब चीन ने ताइवान (Taiwan) के खिलाफ सैन्य आक्रामकता भी तेज कर दी है. अमेरिकी संसद की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने जब से ताइवान की यात्रा की है तब से चीन और ज्यादा आक्रामक हो गया है. दरअसल चीन का मानना है की, ताइवान उसका हिस्सा है लेकिन ताइवान अपने आप को स्वतंत्रत मानता है.

एलन मस्क ने चीन-ताइवान को लेकर दिया यह ब्यान

हाल ही में, दुनिया के सबसे अमीर आदमी एलन मस्क ने फाइनेंशियल टाइम्स के साथ एक इंटरव्यू के दौरान ताइवान और चीन के बीच मुद्दों को हल करने के तरीके पर अपने विचार साझा किए हैं. उन्होंने कहा है की, “ताइवान को चीन का एक विशेष प्रशासनिक क्षेत्र बनाया जा सकता है.”

Taiwan के राष्ट्रपति ने चीन को दी चेतावनी, राजदूत ने कहा की, 'बिक्री' के लिए नहीं है आज़ादी
Taiwan के राष्ट्रपति ने चीन को दी चेतावनी, राजदूत ने कहा की, ‘बिक्री’ के लिए नहीं है आज़ादी

ताइवान ने एलन मस्क के अपने ब्यान पर पर प्रतिक्रिया जाहिर की है. ताइवान (Taiwan) ने कहा है की, “हमारी राष्ट्रीय संप्रभुत्ता का उल्लंघन कर रही मस्क की टिप्पणी.” हालांकि मस्क के इस सुझाव की अमेरिका में चीन के राजदूत किन गैंग ने सराहना की और उनका शुक्रिया अदा किया.

ताइवान की राजदूत ने ट्वीटर पर ट्वीट कर के कहा है की, “हमारे भविष्य के लिए कोई भी स्थायी प्रस्ताव शांतिपूर्वक, दबाव से मुक्त, और ताइवान के लोगों की लोकतांत्रिक इच्छाओं का सम्मान करते हुए निर्धारित किया जाना चाहिए. ताइवान का लोकतंत्र और आजादी बिकाऊ नहीं है.”

Bi-Khim Hsiao का ट्वीट…

अमेरिका इस तरह लगा रहा चीन पर लगाम

ताइवान-चीन अंतर्राष्ट्रीय संघर्ष दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. चीन पर लगाम लगाने के लिए अमेरिका कई सारे प्रयास कर रहा है. हाल ही में अमेरिका ने चीन को बड़ा झटका दिया है. सेमीकंडक्‍टर चिप की निर्यात को लेकर अब अमेरिका ने कई नए नियम बनाए हैं. सेमीकंडक्‍टर चिप के सहारे अमेरिका अब चीन पर दवाब बनान चाहता है.

बता दें की, अमेरिका ने चीन के खिलाफ एक और सख्‍त कदम उठाते हुए उसकी मेमोरी चिप बनाने वाली 30 कंपनियों को एक खास लिस्‍ट में डाल दिया है. इसके पहले अमेरिका ने चीन से संबंधित ड्रोन कंपनी DJI को ब्लैकलिस्ट कर दिया था.

रायटर्स की माने तो, DJI का ड्रोन के क्षेत्र में लगभग 90 प्रतिशत कब्ज़ा है. अमेरिका के लिए इतना आसान नहीं है DJI पर पूरी तरह से रोक लगा पाना. लेकिन फिर भी अमेरिका अपनी हर कोशिश कर रहा है. अमेरिका का कहना है की, DJI का सीधा संबंध चीनी आर्मी से है. अमेरिका को शक है की यह ड्रोन निर्माता कंपनी चीन को ख़ुफ़िया जानकारी देती है.

One thought on “Taiwan के राष्ट्रपति ने चीन को दी चेतावनी, राजदूत ने कहा की, ‘बिक्री’ के लिए नहीं है आज़ादी”

Leave a Reply