Pakistan में पुलिस को निशाना बनाकर आत्मघाती हमला, विस्फोट में हुई 3 लोगों की मौत

Pakistan: क्वेटा के बलेली इलाके में पाकिस्तान (Pakistan) के बलूचिस्तान कांस्टेबुलरी ट्रक के पास एक आत्मघाती हमले में एक पुलिस अधिकारी और तीन नागरिकों की मौत हो गई है.  क्षेत्र के स्वास्थ्य विभाग के मीडिया समन्वयक डॉ वसीम बेग ने मरने वालों की संख्या की पुष्टि की है.

Dawn की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान(Pakistan) के मीडिया समन्वयक ने कहा कि हमले में 20 पुलिसकर्मियों सहित 27 अन्य लोग भी घायल हुए हैं. क्वेटा के पुलिस उप महानिरीक्षक (DIGP) गुलाम अज़फर महेसर ने हमले की जगह पर पत्रकारों को बताया कि विस्फोट एक पुलिस ट्रक के पास हुआ है.

Pakistan में हुआ आत्मघाती हमला

Dawn से मिली जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान (Pakistan) के दक्षिण-पश्चिमी शहर क्वेटा शहर में पुलिस को निशाना बनाकर आत्मघाती हमला किया गया है. बुधवार सुबह किए गए आत्मघाती बम धमाके में तीन लोगों की मौत हो गई है.

पाकिस्तान (Pakistan) के क्वेटा के पुलिस उप महानिरीक्षक (DIGP) गुलाम अज़फर महेसर ने कहा है की, “विस्फोट के प्रभाव के कारण, वाहन पलट गया और खाई में गिर गया है.” अधिकारी ने आगे बताया कि विस्फोट में कुल तीन वाहन प्रभावित हुए हैं. जिसमें एक पुलिस ट्रक, एक सुजुकी मेहरान और एक टोयोटा शामिल है.

Pakistan में पुलिस को निशाना बनाकर आत्मघाती हमला, विस्फोट में हुई 3 लोगों की मौत
Pakistan में पुलिस को निशाना बनाकर आत्मघाती हमला, विस्फोट में हुई 3 लोगों की मौत

TTP ने किया है यह हमला

आगे उन्होंने कहा है की, “अपराध स्थल को देखते हुए और ट्रक के गिरने को देखते हुए अनुमान है कि विस्फोट में 25 किलोग्राम विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया था.” स्थाई अधिकारीयों का कहना है की, हमले की जिम्मेदारी प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TTP) ने ली है.

बताया जा रहा है की, विस्फोट एक दिन बाद हुआ जब आतंकवादी समूह ने सरकार के साथ अपने संघर्ष विराम को वापस ले लिया और अपने लड़ाकों को देश भर में हमले करने के लिए कहा है. Dawn की खबर के मुताबिक, टीटीपी (TTP) के बयान के मुताबिक, उन्होंने जून में सरकार के साथ हुए समझौते को वापस ले लिया है.

एक अधिकारिक बयान में कहा गया है की, “चूंकि विभिन्न क्षेत्रों में मुजाहिदीन के खिलाफ सैन्य अभियान चल रहे हैं. इसलिए आपके लिए यह अनिवार्य है कि आप पूरे देश में जहां कहीं भी हमले कर सकते हैं.”

TTP ने हजारों लोगों की जान ली है

टीटीपी, अफगानिस्तान में तालिबान से एक अलग इकाई है. लेकिन एक समान इस्लामी विचारधारा को साझा करते हुए  2007 में उभरने के बाद से सैकड़ों हमलों और हजारों मौतों के लिए जिम्मेदार रही है.

इस बीच, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने इस घटना की कड़ी निंदा की और अधिकारियों को हमले की जांच शुरू करने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा है की, “देश से पोलियो वायरस को खत्म करना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है. और हम तब तक चैन से नहीं बैठेंगे जब तक पोलियो पूरी तरह से समाप्त नहीं हो जाता है.” पीएम शहबाज ने संकल्प लिया कि दुष्ट तत्व देश में पोलियो विरोधी अभियान को नुकसान पहुंचाने में हमेशा विफल रहेंगे.

डॉन की खबर के मुताबिक, ऐवान-ए-सदर द्वारा जारी एक बयान में पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने हमले की निंदा की और शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने कहा कि बच्चे पाकिस्तान की सबसे मूल्यवान संपत्ति हैं और सरकार उन्हें बीमारियों से बचाने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने वादा किया है की, “राज्य असामाजिक तत्वों को पोलियो के पूर्ण उन्मूलन के मिशन में हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं देगा.”

Leave a Reply