Bangladesh में Sitrang चक्रवात तूफ़ान ने ली 7 लोगों की जान

Sitrang: समाचार एजेंसी ANI ने मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुए कहा कि बांग्लादेश में अधिकारीयों ने बताया की चक्रवात सितरंग (Sitrang) के आने से कम से कम सात लोगों की मौत हो गई है. दिवाली की रात साइक्लोन सितरंग तूफान ने प्रांत में बहुत तबाही मचाई है.

Sitrang चक्रवात मचा रहा तबाही

समाचार एजेंसी AFP से  मिली जानकारी के मुताबिक, बांग्लादेश में चक्रवात सितरंग (Sitrang) तबाही मचा रहा है. अधिकारिक रिपोर्ट में कहा गया है कि बांग्लादेश में कॉक्स बाजार तट से हजारों लोगों और पशुओं को निकाला गया है और सोमवार को चक्रवाती तूफान सितरंग के कारण स्थाई लोगों को आश्रयों में ले जाया गया है.

चक्रवात सितरंग (Sitrang) के चलते बांग्लादेश में ईंट की रेलिंग और पेड़ गिरने से एक ही परिवार के तीन सदस्यों सहित सात लोगों की मौत हो गई. bdnews24 की रिपोर्ट के अनुसार, बांग्लादेश में भयंकर तूफान के कारण कमिला दौलतखान में ढाका, नागलकोट और भोला में चारफेसन और नारेल में लोहागरा में ये घटनाएं हुईं हैं.

Bangladesh में Sitrang चक्रवात तूफ़ान ने ली 7 लोगों की जान
Bangladesh में Sitrang चक्रवात तूफ़ान ने ली 7 लोगों की जान

ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, कॉक्स बाजार तट से कम से कम 28,155 लोगों और 2,736 लोगों को निकाला गया और सोमवार शाम 6 बजे तक चक्रवात आश्रयों में स्थानांतरित कर दिया गया है. बता दें की, बांग्लादेश की तरफ से 576 आश्रयों को तैयार किया गया था.

शैक्षणिक संस्थानों को भी बनाया जा सकता है आश्रय

कॉक्स बाजार के उपायुक्त मामुनूर राशिद ने कहा की, “आस-पास के शैक्षणिक संस्थानों को भी जरूरत पड़ने पर आश्रय के रूप में इस्तेमाल करने के लिए तैयार रखा गया है.” आगे उन्होंने कहा की, “जान और संपत्ति की रक्षा के लिए लोगों को आश्रय स्थलों से निकाला जा रहा है. क्योंकि अब वहां भी तूफान का असर दिख रहा है.”

जिला प्रशासन ने लोगों से किसी भी तरह की मदद के लिए केंद्रीय परिषद अध्यक्ष उपजिला निर्बाही अधिकारी या जिला आयुक्त कार्यालय के कंट्रोल रूम से संपर्क करने को कहा है.

क्षति के जोखिम को कम करने के लिए, कॉक्स बाजार के उपायुक्त मामुनूर राशिद ने सभी से जागरूक रहने और सभी को सुरक्षा प्राप्त करने में मदद करने का आग्रह किया है. चक्रवात सितरंग से निपटने के लिए कॉक्स बाजार जिला प्रशासन ने रविवार को कई तैयारियां कीं हैं.

104 चिकित्सा दल किए गए हैं तैयार

किसी भी आपात स्थिति  में कम से कम 104 चिकित्सा दल (medical teams) तैयार किए गए हैं. ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, चक्रवात से लोगों के प्रभावित होने पर 323 टन चावल, 8 लाख रुपये से अधिक, सूखे भोजन के 1,198 पैकेज, सूखे केक के 350 कार्टन और पाचक बिस्कुट के 400 कार्टन लोगों को वितरित किए जा रहे हैं.

मिली जानकारी के अनुसार अब भारत में भी यह तूफ़ान (Sitrang) अपना कहर मचाने को तैयार है. आज इस चक्रवात के पश्चिम बंगाल, ओडिशा, असम और मेघालय में कहर बरपाने की संभावना है. मंगलवार को मेघालय के चार जिलों में आज सभी शैक्षणिक संस्थानों की छुट्टी रहेगी.

आईएमडी (India Meteorological Department) ने अपने अधिकारिक बयान में कहा है की, “पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी और उससे सटे पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान और इसके गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना के कारण मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 25 अक्टूबर 2022 तक समुद्र में न जाएं.”

Leave a Reply