September 25, 2022
Spread the love

शरद पवार (sharad pawar) ने राष्ट्रपति बनने  के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है. इन्हीं सबके चलते विपक्ष में बवाल मचा हुआ है. बता दें की, राष्ट्रपति चुनाव को लेकर ममता बनर्जी(Mamta Banerjee) ने 15 जून, यानी बुद्धवार को एक दिल्ली(Delhi) में एक मीटिंग बुलाई थी. जिसमे शरद पवार(Sharad Pawar) ने राष्ट्रपति बनने के प्रस्ताव को सिरे  से नकार दिया था.

शरद पवार ने क्यों लिया इतना बड़ा फ़ैसला

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो,81 वर्षीय शरद पवार ने इससे पहले अपनी पार्टी के नेताओं के साथ बैठक के दौरान शीर्ष पद के बारे में अटकलों पर विराम लगा दिया था. इस बैठक में ममता बनर्जी(Mamta Banerjee) की तरफ से राष्ट्रपति के लिए एनसीपी(NCP) चीफ शरद पवार(Sharad Pawar) के नाम का प्रस्ताव रखा गया लेकिन उन्होंने इसे ठुकरा दिया है. राष्ट्रपति बनने के प्रस्ताव को शरद पवार(Sharad Pawar) ने क्यों ठुकराया इसकी जानकारी उन्होंने अपने ट्वीटर पर जानकारी साझा करते हुए दी है.

शरद पवार ने अपने ट्वीट में लिखा है की,

“मैं दिल्ली में हुई बैठक में भारत के राष्ट्रपति के चुनाव के लिए एक उम्मीदवार के रूप में मेरा नाम सुझाने के लिए विपक्षी दलों के नेताओं का धन्यवाद करता हूं. हालांकि मैं यह बताना चाहता हूं कि मैंने अपनी उम्मीदवारी के प्रस्ताव को विनम्रतापूर्वक अस्वीकार कर दिया है. मुझे खुशी है कि आम आदमी की भलाई के लिए अपनी सेवा जारी रखूंगा.”

ममता बनर्जी की बुलाई गई बैठक  में कई राजनीतिक पार्टियाँ थी शामिल

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो द्वारा बुलाई गई बैठक में कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, राकांपा, द्रमुक, राजद और वाम दलों के नेताओं ने भाग लिया, जबकि आप, तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) और ओडिशा के सत्तारूढ़ बीजद ने इसमें भाग नहीं लिया. बता दें की, प्रमुख शरद पवार(Sharad Pawar) के राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार प्रस्ताव ठुकराने के बाद बैठक में ममता बनर्जी ने बाद में दो नाम सुझाए हैं.

मिली जानकारी के मुताबिक, इनमें एक गोपाल कृष्ण गांधी(Gopalkrishna Gandhi) और दूसरा नाम फारूक अब्दुल्ला(Farooq Abdullah) का है. हालाँकि, फारूक अब्दुल्ला(Farooq Abdullah) के नाम पर किसी ने सहमति नहीं जताई है. वहीं खबर है कि शरद पवार के इनकार के बाद अब विपक्षी दलों की तरफ से 20 या 21 जून को एक बैठक हो सकती है. इस बैठक में विपक्ष की तरफ से कौन उम्मीदवार होगा इसे लेकर अंतिम निर्णय लिया जाएगा.

शरद पवार का ट्वीट,

Leave a Reply

Your email address will not be published.