September 29, 2022
Saudi Arabia: सऊदी अरब ने दूसरी तिमाही में रूसी तेल के अपने आयात को किया दोगुना

Saudi Arabia: सऊदी अरब ने दूसरी तिमाही में रूसी तेल के अपने आयात को किया दोगुना

Spread the love

Saudi Arabia: सऊदी अरब, तेल (Oil) के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक पश्चिमी प्रतिबंधों के बावजूद रूसी तेल आयात करने वाले देशों की बढ़ती सूची में शामिल हो गया है. आंकड़ों के अनुसार, खाड़ी देश ने दूसरी तिमाही में यानी अप्रैल से जून तक 647,000 टन रूसी तेल का आयात किया. एक साल पहले इसी अवधि में सऊदी ने 320,000 टन तेल का आयात किया था.

2021 में सऊदी अरब ने किया इतने टन तेल का आयात

वर्ष 2021 में सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने 1.05 मिलियन टन रूसी ईंधन तेल का आयात किया था. रूसी तेल (Russian Oil) पर राज्य की निर्भरता उनके पश्चिमी सहयोगियों के साथ है. बता दें की, व्लादिमीर पुतिन सस्ते कीमतों के लिए तेल और गैस के साथ अपने युद्ध को जारी रखेंगे. एनर्जी एस्पेक्ट्स के एक तेल विश्लेषक पीटर ला कौर ने कहा की, सऊदी अरब वास्तव में रूसी ईंधन तेलों के आयात में तेजी ला रहा है क्योंकि इस पर कोई भी आरोप नहीं लगा है.

सऊदी (Saudi Arabia) के अलावा, रूसी तेल के प्रमुख खरीदार भारत और चीन रहे हैं. जो हाल ही में रूसी-यूक्रेन युद्ध के बाद बढ़ी हुई मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. रॉयटर्स की ख़बर के अनुसार, सऊदी अरब (Saudi Arab) मिस्र (Egypt) के माध्यम से रूसी तेल का आयात कर रहा है. जून में प्रति दिन कम से कम 110,000 बैरल के हिसाब से आयात हुआ है. काहिरा ने भी जून में रूस से प्रति दिन 70,000 बैरल आयात किया है.

सऊदी अरब अपने पावर ग्रिड के लिए तेल का उपयोग करता है, विशेष रूप से चिलचिलाती गर्मी के महीनों के दौरान. किंगडम के कई बड़े शहर प्राकृतिक गैस क्षेत्रों से बहुत दूर हैं. जिससे तेल पर उनकी निर्भरता और भी मजबूत हो गई है. बता दें की, इराक (Iraq) और सऊदी अरब (Saudi Arabia) को पीछे छोड़ते हुए जल्द ही रूस (Russia) भारत का सबसे बड़ा तेल सप्लायर (largest Oil Supplier) बन सकता है.

रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद बढ़ा आयात

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद ही भारत में रूसी तेल का आयात में भी बढ़ा है. फरवरी तक भारत (India) को आयात होने वाले क्रूड ऑयल (Crude Oil) में रूसी तेल की हिस्सेदारी ना के बराबर थी. रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia-Ukraine War) के बाद से रूसी तेल की हिस्सेदारी 50 गुना से भी अधिक बढ़ गई है.

बता दें की, जून महीने में भारत (India) को रूस (Russia) से रोजाना 12 लाख बैरल क्रूड ऑयल (Crude Oil) की सप्लाई हुई है. रूसी तेल का आयात (Import) मई में एक साल पहले के स्तर से 55% बढ़कर रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच गया है. जिसकी वजह से रूस सऊदी अरब (Saudi Arab) को पछाड़ते हुए चीन (China) के तेल का सबसे बड़ा प्रदाता (Provider) बन गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो, तेल मंत्रालय (Ministry of petroleum and natural gas) ने पिछले महीने कहा था कि भारत की कुल खपत की तुलना में रूस से ऊर्जा खरीद बहुत कम है. इराक (Iraq) मई में भारत का शीर्ष आपूर्तिकर्ता बना रहा और सऊदी अरब (Saudi Arab) अब तीसरा सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.