September 25, 2022
Space Station: 2024 के बाद अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन छोड़ देगा रूस

Space Station: 2024 के बाद अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन छोड़ देगा रूस

Spread the love

International Space Station: रूस ने बताया है की वो अब अपना खुद का अंतरिक्ष स्टेशन बनाने जा रहा है. रूस ने ऐलान किया है कि वह 2024 के बाद अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station) से बाहर हो जाएगा. इसके पहले भी रूस के 2 स्पेस स्टेशन रहे हैं.

रूस छोड़ देगा अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन

Aljazeera की ख़बर के मुताबिक, बोरिसोव को इस महीने की शुरुआत में रूसी अंतरिक्ष एजेंसी के शेक-अप में पुतिन द्वारा नियुक्त किया गया था. बोरिसोव ने बताया की, रूस प्रस्तावित रूसी ऑर्बिटल स्टेशन (आरओएसएस) का निर्माण शुरू करेगा क्योंकि यह उच्च तनाव के समय में बहुपक्षीय प्रयास से अकसर बाहर हो जाता है.

रूस अब तक अमेरिका एवं अन्य देशों के साथ मिलकर इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन से जुड़े कार्यक्रमों में अहम योगदान देता रहा है. वैसे बता दें कि, 1998 में (International Space Station) का पहला कंपोनेंट लॉन्च होने के बाद से ही रूस इस पूरे प्रॉजेक्ट का अहम हिस्सा था.

बता दें की, यह घोषणा यूक्रेन में क्रेमलिन की सैन्य कार्रवाई को लेकर रूस और पश्चिम के बीच बढ़े तनाव के बीच आई है. बोरिसोव कहा की, आने वाले वर्षों में यूरोप, संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस, कनाडा और जापान के बीच एक सहकारी कार्यक्रम होगा.

रूस से सुनना है बाकी

मिली जानकारी के मुताबिक, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने मंगलवार को बाद में कहा कि आईएसएस से हटने के कथित इरादे पर रूस से सीधे तौर पर सुनना बाकी है. रूस ने अभी खुल कर इस बारे में कुछ नहीं कहा है.

नासा के लिए आईएसएस के निदेशक रोबिन गैटेंस ने वाशिंगटन में एक आईएसएस सम्मेलन के दौरान कहा है की,  “हमें अभी तक रूस से कोई भी अधिकारिक जानकारी नहीं प्राप्त हुई है.” वहाँ मौजूद पत्रकारों द्वारा यह पूछे जाने पर कि, “क्या वह अमेरिका-रूस अंतरिक्ष संबंध समाप्त करना चाहती हैं?”

इस पर आईएसएस के निदेशक रोबिन गैटेंस ने जवाब दिया की, “नहीं, बिल्कुल नहीं.” अंतरिक्ष पत्रकार एलिजाबेथ पियर्सन ने कहा कि, रूस की घोषणा के आलोक में आईएसएस के दीर्घकालिक भाग्य के बारे में अनिश्चितता थी.

अंतरिक्ष पत्रकार ने बताई ये बातें

Aljazeera को इंटरव्यू देने के दौरान अंतरिक्ष पत्रकार एलिजाबेथ पियर्सन ने बताया की,

“रूस को 2024 के अंत तक आईएसएस में योगदान करने के लिए साइन अप किया गया है. प्रारंभिक आशा यह थी कि यह अगले छह वर्षों तक जारी रहेगा. क्योंकि यह 2030 में है कि नासा आईएसएस को हटाने और इसे कक्षा से वापस लाने की योजना बना रहा है. अमेरिका ऐसा इस लिए कर रहा क्योंकि चूंकि रूस ने कहा है कि वह [अपनी भागीदारी] का विस्तार नहीं करने जा रहा है.”

बोरिसोव की टिप्पणी रोस्कोस्मोस (Roscosmos) द्वारा इस महीने की शुरुआत में घोषणा किए जाने के बाद आई है. उसने आईएसएस पर एकीकृत उड़ानों और चालक दल के संबंध में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के साथ एक ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

बता दें की, नासा और रूसी अधिकारियों के अनुसार, यह समझौता सुनिश्चित करता है कि अंतरिक्ष स्टेशन में हमेशा कम से कम एक अमेरिकी और एक रूसी बोर्ड पर रहे ताकि परिक्रमा चौकी (orbiting outpost ) के दोनों किनारों को सुचारू रूप से चलाया जा सके.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.