Russia-Ukraine: कीव में 50 दूतावासों ने परिचालन फिर से शुरू किया, ज़ेलेंस्की इसे ने इसको विश्वास की जीत बताया

रूस-यूक्रेन (Russia-Ukraine) की जंग को चार महीने पूरे होने जा रहें हैं. यूक्रेन के राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की(Volodymyr Zelenskyy) का कहना है की कीव में 50 दूतावासों ने परिचालन फिर से शुरू कर दिया. इसके साथ ही रूस(Russia) और यूक्रेन(Ukraine) के बीच शुरू हुई जंग के अब 100 दिन पूरे हो चुके हैं और अभी तक इस युद्ध में दोनों देशों के हजारों सैनिकों की मौत हुई, जबकि अरबों-खरबों का नुकसान अभी तक हो चुका है.

यूक्रेन के 20 प्रतिशत एरिया पर रूस ने किया कब्ज़ा

ताजा युद्ध में रूसी सेना ने यूक्रेन(Ukraine) के 20 प्रतिशत भूभाग पर कब्जा कर लिया है और करीब एक हजार किलोमीटर लंबाई वाले इलाके में यूक्रेन की सेना उससे मुकाबला कर रही है. यह जानकारी यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने वीडियो लिंक के जरिये लक्जमबर्ग की संसद को संबोधित करते हुए दी है.यूक्रेन में सबसे भयानक युद्ध अब डोनबास के सेवेरोदोनेत्सक (Severodonetsk) में केंद्रित हो चुका है. डोनबास का 80% इलाका अब रूस के कब्जे में है लेकिन यूक्रेनी सेनाएं पूरी ताकत से उन्हें रोक रही हैं. राष्ट्रपति वोलोदिमिर ज़ेलेंस्की(Volodymyr Zelenskyy ने गुरुवार देर शाम कहा कि यूक्रेनी सेनाओं को लुहांस्क क्षेत्र के इंडस्ट्रियल क्षेत्र में कुछ सफलता मिली लेकिन अभी कुछ भी कहना बहुत जल्दबाज़ी होगी, यह इस समय सबसे मुश्किल इलाका है.”

संयुक्त राष्ट्र(United Nations) ने 24 फरवरी से 2 जून तक संघर्ष के बीच 9,151 नागरिक हताहत होने की पुष्टि की है। इसमें 4,169 लोग मारे गए और 4,982 घायल हुए हुए हैं. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त (OHCHR) के कार्यालय ने अपने नवीनतम नागरिक हताहत अपडेट में कहा कि, वास्तविक आंकड़े “काफी अधिक” होने की संभावना है. रूस-यूक्रेन(Russia-Ukraine) युद्ध फ़रवरी के अंतिम सप्ताह में शुरू हुआ और अभी भी जारी है. रूस के ख़िलाफ़ युद्ध में यूक्रेन को अमेरिका समेत यूरोपीय देश समर्थन दे रहे हैं. अमेरिका और यूरोपीय देशों ने यूक्रेन को आर्थिक सहायता तो मुहैया कराई है ही, साथ ही सैन्य-सहायता भी दी है.

अमेरिका ने काफी समय लेकर लिया बड़ा फ़ैसला

अमेरिका ने यह फ़ैसला बहुत वक़्त लेकर लिया है. अमेरिका अब जो हथियार यूक्रेन (Russia-Ukraine war) को दे रहा है वो मध्यम और लंबी दूरी में मार करने में सक्षम हथियार हैं और यूक्रेन के कई बार अनुरोध करने के बाद अमेरिका इसे देने के लिए राज़ी हुआ है. यूक्रेन(Ukraine) के कई अनुरोधों के बावजूद, अमेरिका लंबी दूरी तक मार करने में सक्षम हथियार देने में थोड़ी सतर्कता बरत रहा था. अमेरिका(America) की ओर से यह ‘डर’ जताया गया था कि इन हथियारों का रूस के ख़िलाफ़ इस्तेमाल किया जा सकता है और इसके चलते मौजूदा स्थिति और गंभीर हो सकती है.

धवार को अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा है कि यूक्रेन ने आश्वासन दिया है कि वो रूसी सीमा में अमेरिका द्वारा दी गई लॉन्ग रेंज रॉकेट सिस्टम यानी लंबी दूरी की हथियार प्रणाली का इस्तेमाल नहीं करेगा. रूसी राष्ट्रपति(Russian President) के कार्यालय क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने कहा है कि पश्चिमी देशों के हथियारों से यूक्रेन में चल रही रूसी सैन्य कार्रवाई पर कोई असर नहीं पड़ेगा. यह कार्रवाई अपना उद्देश्य प्राप्त करने के बाद ही रुकेगी। लेकिन विदेशी हथियार पहुंचने से लड़ाई बढ़ेगी और यूक्रेन को ज्यादा नुकसान होगा.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.