Russia ने एक बार फिर दिया भारत का साथ, UNSC में भारत की स्थायी सदस्यता का किया समर्थन

Russia: रूसी (Russia) विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में भारत की स्थायी सीट के लिए रूस के समर्थन को दोहराया है. जिसमें उन्होंने दावा किया गया है कि भारत ने वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों पर अपने रुख के माध्यम से परिषद में सकारात्मक योगदान दिया है.

Russia आया भारत के पक्ष में

स्थाई मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, रूस (Russia) के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में एक स्थायी सदस्य के रूप में भारत के प्रवेश का समर्थन किया है. रूसी (Russia) विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहा है की,

“मुझे लगता है कि भारत वर्तमान में आर्थिक विकास के मामले में अग्रणी देशों में से एक है. शायद नेता भी इसकी आबादी जल्द ही किसी भी अन्य देश की तुलना में बड़ी होगी. और नई दिल्ली के पास विभिन्न प्रकार की समस्याओं को सुलझाने का विशाल कूटनीतिक अनुभव है. साथ ही अधिकार और अपने क्षेत्र में एक प्रतिष्ठा.”

विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहीं ये बातें

आगे उन्होंने कहा की, “भारत एससीओ (SCO)  के भीतर दक्षिण एशिया में एकीकरण संरचनाओं की एक श्रृंखला का हिस्सा है और यह संयुक्त राष्ट्र में सक्रिय भूमिका निभाता है. भारत एक ऐसा देश है जो न केवल बनने की आकांक्षा रखता है. बल्कि एक बहुध्रुवीय दुनिया के गठन का सार है. इसके सबसे महत्वपूर्ण ध्रुव हैं.”

Russia ने एक बार फिर दिया भारत का साथ, UNSC में भारत की स्थायी सदस्यता का किया समर्थन
Russia ने एक बार फिर दिया भारत का साथ, UNSC में भारत की स्थायी सदस्यता का किया समर्थन

इससे पहले लावरोव ने इस साल सितंबर में 77वें संयुक्त राष्ट्र महासभा में कहा था कि “सुरक्षा परिषद में अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमेरिका के देशों को शामिल करने से यह और अधिक लोकतांत्रिक हो जाएगा.” भारत और ब्राजील, जापान और जर्मनी के साथ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में शामिल होने के लिए अपने आवेदनों पर जोर दे रहे हैं. जिसे रूसी (Russia) विदेश मंत्री ने बहुध्रुवीयता (multipolarity) के प्रतीक के रूप में देखा है.

इतने देशों ने किया भारत का समर्थन

जानकारी के लिए बता दें की, संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस और रूस, (Russia) परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में से चार, सभी ने संयुक्त राष्ट्र निकाय में भारत के लिए एक स्थायी सीट का समर्थन किया है.

सुरक्षा परिषद के गैर-स्थायी सदस्य के रूप में भारत का वर्तमान दो वर्ष का कार्यकाल दिसंबर में समाप्त हो रहा है. 15 देशों की परिषद की अध्यक्षता वर्तमान में भारत द्वारा की जा रही है. भारत ने परिषद के निर्वाचित सदस्य के रूप में अपने दो साल के कार्यकाल में दूसरी बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता ग्रहण की है. भारत ने इससे पहले अगस्त 2021 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता हासिल की थी.

रूस भारत के साथ कदम से कदम मिला के चल रहा है

इसके अलावा बता दें की, रूस (Russia) ने भारत को यूक्रेन में युद्ध के बीच पश्चिमी देशों द्वारा लगाए जा रहे तेल मूल्य कैप पर काबू पाने में मदद की पेशकश की है.
नई दिल्ली में रूसी (Russia) दूतावास ने कहा है की,

“यूरोपीय संघ और ब्रिटेन में बीमा सेवाओं और टैंकर चार्टरिंग पर प्रतिबंध पर निर्भर न रहने के लिए, रूस (Russia) के उप प्रधानमंत्री अलेक्जेंडर नोवाक ने भारत को पट्टे पर देने और बड़ी क्षमता वाले जहाजों के निर्माण में सहयोग की पेशकश की है.” रूस के उप प्रधानमंत्री एलेक्जेंडर नोवाक ने शुक्रवार को मास्को में भारतीय राजदूत पवन कपूर के साथ बैठक की है.

 

Leave a Reply