रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपने समकक्ष फ़िनलैंड के राष्ट्रपति सौली निनिस्टो से कहा है कि नाटो में उनका शामिल होना “एक गलती” होगी | इससे पहले रूस ने फ़िनलैंड को अपनी बिजली आपूर्ति काट दी थी – जिसे नाटो से जुड़ने के कदम के प्रतिशोध के रूप में देखा गया था।

क्रेमलिन (रूस की सरकार) ने शनिवार को एक बयान में कहा “पुतिन ने जोर देकर कहा कि फिनलैंड की सैन्य तटस्थता की पारंपरिक नीति का अंत करना एक गलती होगी क्योंकि उनकी सुरक्षा को कोई खतरा नहीं है और देश के राजनीतिक व्यवस्था में इस तरह के बदलाव से अच्छे पड़ोसी और भागीदारों के बीच सहयोग की भावना में वर्षों से विकसित रूसी-फिनिश संबंधों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है |

यूक्रेन पर 24 फरवरी को रूस के आक्रमण करने के कारण फ़िनलैंड और पड़ोसी स्वीडन की राजनैतिक दलों और जनता के विचार नाटों से जुड़ने के तरफ हो गए है , जिससे किसी भी प्रकार के दबाव या युद्ध से बचा जा सके |

मॉस्को ने कहा है कि वह “निश्चित रूप से” फ़िनलैंड की नाटो की सदस्यता को अपने लिए एक खतरे के रूप में देखेगा जिससे बचाव के लिए उसे आवश्यक कदम उठाने पड़ेंगे |

रूस ने फिनलैंड को बिजली आपूर्ति रोकी –

शनिवार को, फ़िनलैंड के विद्युत ग्रिड ऑपरेटर ने कहा कि रूस ने अपनी ऊर्जा फर्म RAO नॉर्डिक द्वारा भुगतान बकाया पर आपूर्ति में कटौती करने की धमकी के बाद रात में फिनलैंड को बिजली की आपूर्ति निलंबित कर दी है |

फिनलैंड रूस से अपनी बिजली का केवल 10 प्रतिशत आयात करता है वो अब ये बिजली स्वीडन से आयात करेगा |

RAO नॉर्डिक ने अपनी सफाई में कहा कि उसे 6 मई से बिजली के लिए भुगतान नहीं किया गया है, जिसके कारण उसने ये कार्यवाही की | लेकिन यह नहीं बताया गया है कि क्या यह समस्या रूस के खिलाफ यूरोपीय प्रतिबंधों से जुड़ा था।

आगे क्या ?

फिनलैंड की प्रधानमंत्री सना मारिन ने शनिवार को कहा कि उनका देश मास्को से “विभिन्न प्रकार की कार्रवाई के लिए तैयार” है लेकिन ऐसी कोई सूचना नहीं है जिससे यह संकेत मिले कि रूस फिनलैंड के खिलाफ सैन्य कार्रवाई शुरू करेगा” |

रविवार को फिनलैंड की नाटो सदस्यता बोली की आधिकारिक घोषणा के बाद, सोमवार को उनकी संसद द्वारा इस पर चर्चा की जाएगी।

क्या है नाटो (NATO) ?

द नॉर्थ अटलांटिक ट्रिटी आर्गेनाइजेशन यानी (NATO) एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जो 1949 में 28 यूरोपीय देशों और 2 उत्तरी अमेरिकी देशों के बीच बनाया गया है। नाटो का उद्देश्य राजनीतिक और सैन्य साधनों के माध्यम से अपने सदस्य देशों को स्वतंत्रता और सुरक्षा की गारंटी देना है और रक्षा और सुरक्षा संबंधी मुद्दों पर सहयोग के माध्यम से देशों के बीच संघर्ष को रोकना है। इसे दूसरे विश्व युद्ध के बाद बनाया गया था। नाटो का हेडक्वार्टर बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्स में स्थित है |

By Satyam

Leave a Reply

Your email address will not be published.