रक्षा मंत्री Rajnath Singh पहुँचे जोधपुर , भारतीय वायुसेना के बेड़े में आज शाम‍िल होंगे 'मेड इन इंड‍िया' हेलीकॉप्‍टर

Rajnath Singh: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भारतीय वायु सेना में स्वदेशी रूप से विकसित हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर (LCH) के पहले बैच के शामिल होने के समारोह में शामिल होने के लिए जोधपुर पहुंचे हैं.

जोधपुर पहुँचे रक्षा मंत्री Rajnath Singh

मिली आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी की मौजूदगी में इंडक्शन समारोह की शुरुवात हुई. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने पहले ट्वीट किया की इन हेलीकॉप्टरों को शामिल करने से भारतीय वायुसेना की युद्धक क्षमता को काफी बढ़ावा मिलेगा.

रक्षा मंत्री का आधिकारिक ट्वीट…

बेड़े में शामिल किए जाने के बाद रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि एलसीएच दुश्मन को चकमा देने, कई तरह के गोला-बारूद ले जाने और उसे तुरंत घटना स्थल पर पहुंचने में सक्षम है.  एलसीएच विभिन्न इलाकों में हमारे सशस्त्र बलों की जरूरतों को पूरी तरह से पूरा करते हैं.  यह हमारी सेना और वायु सेना दोनों के लिए एक आदर्श प्लेटफॉर्म हैं.

जानकारी के लिए बता दें की, हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर एक समर्पित लड़ाकू हेलीकॉप्टर है. जिसे भारत में स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित किया गया है. इसका निर्माण हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) द्वारा किया गया है. एचएएल के अनुसार, हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर दुनिया का एकमात्र अटैक हेलीकॉप्टर है जो 5,000 मीटर की ऊंचाई पर भारी मात्रा में हथियारों और ईंधन के साथ लैंड और टेक-ऑफ कर सकता है. यह भारतीय सशस्त्र बलों की विशेष आवश्यकताओं को पूरा करेगा.

हेलीकॉप्टर गतिशीलता, विस्तारित रेंज, उच्च ऊंचाई प्रदर्शन और चौबीसों घंटे, हर मौसम में मुकाबला करने की क्षमता से लैस है. बता दें की भारत की वायु सेना को हर साल पहले से और बेहतर करने के लिए सरकार कुछ न कुछ नई चीजों को जोड़ती है. 

प्रधानमंत्री मोदी ने यह विमान वायु सेना को सौंप था

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को झांसी में स्वदेश में विकसित हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर (एलसीएच) भारतीय वायुसेना को सौंपा था. वैसे बता दें की, भारतीय वायुसेना ने पिछले 3-4 सालों में चिनूक, अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर और अब एलसीएच को शामिल करने के साथ कई हेलीकॉप्टरों को अपने बेड़े में शामिल किया है. भारतीय वायु सेना अब चिनूक हेलिकॉप्टरों में महिला पायलटों को भी तैनात कर रहा है, जो उत्तरी और पूर्वी सीमाओं पर नियमित आपूर्ति मिशन ले जा रहे हैं.

रक्षा मंत्री ने कहा की,

“हाल के यूक्रेनी संघर्ष या पहले के संघर्ष हमें सिखाते हैं कि भारी हथियार प्रणाली और प्लेटफॉर्म, जो युद्ध के मैदान में तेजी से आगे बढ़ने में असमर्थ हैं. कम क्षमता रखते हैं, और दुश्मन के लिए आसान लक्ष्य बन जाते हैं. राष्ट्र की रक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है, और हम इसके लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं. मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि आने वाले समय में जब भी दुनिया में सैन्य शक्ति सहित महाशक्तियों की बात होगी. भारत सबसे पहले होगा.”

इस साल मार्च में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी (CCS) ने 3,887 करोड़ रुपये की लागत से 15 स्वदेशी रूप से विकसित लिमिटेड सीरीज प्रोडक्शन (LSP) LCH की खरीद को मंजूरी दी थी. LCH में एडवांस्ड लाइट हेलीकॉप्टर ध्रुव के समान है. अधिकारियों ने कहा कि इसमें कई स्टील्थ फीचर्स, आर्मर्ड-प्रोटेक्शन सिस्टम, रात में हमले की क्षमता और बेहतर उत्तरजीविता के लिए क्रैश-योग्य लैंडिंग गियर हैं.

4 thoughts on “रक्षा मंत्री Rajnath Singh पहुँचे जोधपुर , भारतीय वायुसेना के बेड़े में आज शाम‍िल होंगे ‘मेड इन इंड‍िया’ हेलीकॉप्‍टर”
  1. […] भारत के विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन (V. Muraleedharan) ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए और सेंट्रल बैंक ऑफ ओमान के कार्यकारी अध्यक्ष ताहिर अल अमरी (Tahir Al Amri) से मुलाकात की. मुरलीधरन (V. Muraleedharan) दोनों देशों के बीच संबंध मजबूत करने के लिए दो दिवसीय दौरे पर सोमवार को मस्कट पहुंचे थे. […]

  2. […] रक्षा मंत्रालय ने कहा की, “अभ्यास (Austra Hind-22) का उद्देश्य सकारात्मक सैन्य संबंध बनाना है. एक दूसरे की सर्वोत्तम प्रथाओं को आत्मसात करना और संयुक्त राष्ट्र शांति प्रवर्तन शासनादेश के तहत अर्ध-रेगिस्तानी इलाके में बहु-डोमेन संचालन करते हुए एक साथ काम करने की क्षमता को बढ़ावा देना है.” […]

Leave a Reply