Rahul Gandhi: कांग्रेस ने शुरू किया 'एकजुट भारत' के लिए मार्च, Rahul Gandhi ने कहा की...

Rahul Gandhi: भारत की मुख्य विपक्षी कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने भारत के स्वतंत्रता नायक महात्मा गांधी के प्रतिष्ठित विरोधों की गूंज के साथ एक क्रॉस-कंट्री एकता मार्च शुरू किया है. क्योंकि उनका उद्देश्य 2024 के आम चुनावों से पहले पार्टी की गिरती चुनावी किस्मत को पुनर्जीवित करना है.

2024 है मुख्य उद्देश्य

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस ने एकता मार्च की शुरुवात की है. कांग्रेस नेता राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) ने बुधवार को दक्षिणी तटीय शहर कन्याकुमारी में भारत जोड़ी यात्रा (Unite India Rally) नाम से मार्च को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.

समर्थकों के साथ कांग्रेस नेता लगभग 150 दिनों में कश्मीर के सबसे उत्तरी हिमालयी क्षेत्र में श्रीनगर शहर तक पहुंचने के लिए 3,500 किमी (2,175 मील) से अधिक की दूरी तय करेंगे. राहुल गांधी ने सत्तारूढ़ हिंदू-राष्ट्रवादी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और उसके वैचारिक संरक्षक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) एक हिंदू वर्चस्ववादी संगठन पर हमला किया.

राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) ने 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से मुसलमानों के खिलाफ बढ़ते हमलों के साथ, भाजपा पर मुस्लिम विरोधी एजेंडा चलाने का आरोप लगाया गया है. उनका कहना है की,

“भारतीय ध्वज किसी विशेष समुदाय या पार्टी का नहीं है. यह हम सभी का है. लाखों और लाखों लोगों को लगता है कि भारत को एक साथ लाने के लिए कार्रवाई करने की आवश्यकता है. हमारा तिरंगा किसी भी धर्म को मानने के अधिकार की गारंटी देता है. लेकिन आज इस झंडे पर हमला हो रहा है.”

राहुल गाँधी ने ट्वीट में कहीं ये बातें

मार्च की शुरुआत से पहले, गांधी ने बुधवार को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में अपने पिता और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के स्मारक का दौरा किया. राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को श्रीपेरंबदूर में हत्या कर दी गई थी. जब तमिल ईलम के लिबरेशन टाइगर्स के एक कार्यकर्ता ने उनके आरडीएक्स से लदी बेल्ट में विस्फोट कर दिया था.

इसके बाद उन्होंने कन्याकुमारी में एक कार्यक्रम में भाग लिया. जहां तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन, उनके राजस्थान के समकक्ष अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मौजूद थे. यात्रा के शुभारंभ के अवसर पर स्टालिन ने उन्हें राष्ट्रीय ध्वज सौंपा.

बता दें की, कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने ट्वीट कर के कहा है की, “मैंने अपने पिता को नफरत और विभाजन की राजनीति में खो दिया. मैं अपने प्यारे देश को भी नहीं खोऊंगा. प्यार नफरत को जीत लेगा. आशा डर को हरा देगी. साथ में, हम पार करेंगे.”

राहुल गाँधी का अधिकारिक ट्वीट…

ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन के एक साथी, नई दिल्ली स्थित राजनीतिक विशेषज्ञ मनोज जोशी ने मीडिया को बताया कि “रैली का जमीन पर ज्यादा असर नहीं हो सकता है. लेकिन सबसे अच्छा यह पहले से ही मरणासन्न संगठन में कुछ जान फूंक सकता है.”

उन्होंने आगे कहा की, हालांकि, भाजपा की विभाजनकारी राजनीति को देखते हुए राहुल ने लोगों को एकजुट करने का एक अच्छा विषय चुना था. लेकिन मुझे संदेह है कि क्या राहुल गांधी के पास उन्हें भुनाने का राजनीतिक कौशल है. वह राजनीति के प्रति अपने दृष्टिकोण में बहुत लापरवाह हैं.

कांग्रेस पार्टी प्रमुख सोनिया गाँधी ने अपने एक बयान में कहा की, “यह हमारी महान पार्टी के लिए एक शानदार अवसर है जिसकी इतनी शानदार विरासत है. मुझे विश्वास है कि हमारे संगठन का कायाकल्प होगा.”

One thought on “कांग्रेस ने शुरू किया ‘एकजुट भारत’ के लिए मार्च, Rahul Gandhi ने कहा की…”
  1. […] सोनिया गांधी के साथ बैठक तब हुई जब थरूर ने पार्टी सुधारों की मांग वाली एक याचिका का स्वागत किया. शशि थरूर ने ट्वीट कर के कहा की, […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.