PM Sheikh Hasina ने PM Modi को तोहफ़े में भेजें एक मीट्रिक टन आम

PM Sheikh Hasina: बांग्लादेश(Bangladesh) की प्रधानमंत्री शेख हसीना( PM Sheikh Hasina) ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PM Modi) को तोहफ़े में एक मीट्रिक टन आम्रपाली आम भेजें हैं. ना सिर्फ़ PM Modi बल्कि देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) को भी भेंजे हैं.

आम ही क्यों भेजें तोहफ़े में

‘आम्रपाली’ आम 1971 में शुरू की गई एक आम की विशेष खेती है. बता दें कि, इसी साल भारतीय सेना(Indian Army) की मदद से बांग्लादेश(Bangladesh) पाकिस्तान(Pakistan) से अलग होकर स्वतंत्र देश बना था. आम(Mango) की बात करें तो इसे दिल्ली(Delhi) में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान(Indian Agricultural Research Institute) में डॉ पीयूष कांति मजूमदार(Dr Piyush Kanti Mazumdar) द्वारा ‘दशेरी’ और ‘नीलम’ की एक संकर किस्म के रूप में विकसित किया गया था.

प्रधानमंत्री हसीना(PM Sheikh Hasina) ने पिछले साल भी कोविंद, मोदी और पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा और असम के मुख्यमंत्रियों को उपहार के तौर पर आम(Mango) भेजे थे. उच्चायोग(High commissioner) के बयान में कहा गया है कि पिछली परंपरा को जारी रखते हुए ये आम भेजें हैं.

कैसे हैं भारत और बांग्लादेश के रिश्ते

भारत और बांग्लादेश दक्षिण एशियाई(South Asia) पड़ोसी देश हैं और आमतौर पर उन दोनों के मैत्रीपूर्ण रहे हैं, हालांकि कभी-कभी सीमा विवाद होते हैं. बांग्लादेश की सीमा तीन ओर से भारत द्वारा ही आच्छादित है. ये दोनो देश सार्क, बिम्सटेक, हिंद महासागर तटीय क्षेत्रीय सहयोग संघ और राष्ट्रकुल के सदस्य हैं. बांग्लादेश और भारत के बीच ट्रेन भीं चलती हैं.

समझौता एक्सप्रेस और थार एक्सप्रेस, दोनों देशों के बीच एकमात्र रेल(Railway) संपर्क था. भारत में वाघा बॉर्डर(Wagah Border) पर बॉर्डर क्रॉसिंग होता है. मैत्री एक्सप्रेस एक अंतर्राष्ट्रीय सीमा ट्रेन है. जो भारत में बांग्लादेश की राजधानी ढाका को कोलकाता से जोड़ती है

भारत(India) और बांग्लादेश(Bangladesh) के रिश्ते पिछले कुछ सालों से कभी नफरत तो कभी प्यार भरे रहे है. रिपोर्ट्स की माने तो 6 दिसंबर 1971 को एक स्वतंत्र देश के रूप में भारत(India) ने मान्यता दी थी. बांग्लादेश(Bangladesh) को जब आजादी मिली थी तो भारत ही वो पहला देश था जिसके साथ बांग्लादेश(Bangladesh) के सबसे मजबूत रिश्ते हुए थे.

 

Leave a Reply