अपने ही जाल में फंसता जा रहा Pakistan, आतंकवाद के खिलाफ सड़कों पर उतरी पाकिस्तानी जनता

Pakistan: पाकिस्तान के स्वात और शांगला के निवासी गुरुवार को आतंकवाद के खिलाफ सड़कों पर उतर आए हैं. पाकिस्तान जिस तरह से दूसरों के लिए गड्ढा खोदता था अब वो उसमें खुद ही फास्ता जा रहा है. डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, प्रदर्शनकारियों ने  अधिकारियों से क्षेत्र में शांति भंग करने वाले तत्वों (आतंकवादी) पर कार्रवाई करने की मांग की है.

Pakistan में जनता आतंकवाद के खिलाफ उतरी सड़कों पर

Dawn से मिली जानकारी के मुताबिक, पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) आतंकवाद के अपने ही जाल में फंसता नजर आ रहा है. आतंकवाद से परेशान पाकिस्तान की जनता सड़कों पर उतरकर एक्शन की मांग कर रही है. आतंकवाद के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का आयोजन एक स्थानीय संगठन स्वात कौमी जिरगा द्वारा किया गया था.

पाकिस्तान (Pakistan) के चारबाग  तहसील के विभिन्न हिस्सों के बुजुर्गों, युवाओं और बच्चों ने भी घाटी में शांति बहाली की मांग करने वाले नारों के साथ तख्तियां लेकर प्रदर्शन में भाग लिया. नारे लगाते हुए और तख्तियां पकड़े हुए, उन्होंने अपनी शिकायतें व्यक्त कीं और कहा की अब हम आतंकवाद का इस क्षेत्र में सफाया कर के रहेंगे.

अपने ही जाल में फंसता जा रहा Pakistan, आतंकवाद के खिलाफ सड़कों पर उतरी पाकिस्तानी जनता
अपने ही जाल में फंसता जा रहा Pakistan, आतंकवाद के खिलाफ सड़कों पर उतरी पाकिस्तानी जनता

गौरतलब है कि सोमवार को आतंकियों ने एक स्कूल वैन पर फायरिंग कर दी थी. जिसमें चालक की मौत हो गई और दो बच्चे घायल हो गए थे. डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले हफ्ते स्वात की ख्वाजाखेला तहसील के मट्टा चौक पर अपने विरोध प्रदर्शन के दौरान, प्रदर्शनकारियों ने चेतावनी दी थी कि अगर अधिकारी आतंकवादियों के खिलाफ कार्यवाही नहीं करते हैं तो वो खुद हथियार उठा लेंगे. और विरोध में सामने आएंगे.

अगस्त के महीने में आतंकी गतिविधियों के फिर से सामने आने के बाद से स्थानीय लोगों का यह आज का आठवां विरोध प्रदर्शन था. मंगलवार को विरोध प्रदर्शन हुआ था क्योंकि, चारबाग में एक स्कूल वैन में गोलीबारी हुई थी. जिसमें चालक की मौत हो गई और दो बच्चे घायल हो गए थे.

आतंकवाद को लेकर जनता में है नाराज़गी

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, इस घटना ने खैबर पख्तूनख्वा के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है. लोगों में अब नाराजगी दिख रही है. प्रदर्शनकारियों से स्थाई प्रशासन ने बातचीत की. जिसके 40 घंटे बाद  विरोध समाप्त हो गया.

प्रदर्शनकारी हमले के दोषियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे और 24 घंटे के भीतर अधिकारियों द्वारा उनकी मांगों को पूरा करने में विफल रहने पर इस्लामाबाद मार्च करने की चेतावनी दी थी. डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री के राजनीतिक और सार्वजनिक मामलों के सलाहकार आमिर मुक़ाम भी प्रदर्शनकारियों के साथ विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे.

पाकिस्तान (Pakistan) में हुए इस प्रदर्शन पर जानकारों ने कहा है की, पाकिस्तान अपने कर्मों की सजा भुगत रहा है. दाऊद इब्राहिम, मसूद अजहर, हाफिज सईद सहित भारत के कई सर्वाधिक वांछित आतंकवादी पाकिस्तान में सुरक्षित ठिकाने में हैं.

प्रधानमंत्री के राजनीतिक और सार्वजनिक मामलों के सलाहकार आमिर मुक़ाम ने कहा की, , “पीएमएल-एन स्वात में शांति से कभी समझौता नहीं करेगा.” उन्होंने आगे कहा कि स्वात के लोग जाग चुके हैं. और सही और गलत और बुरे और अच्छे के बारे में पूरी तरह से जागरूक हैं.

 

 

Leave a Reply