Pakistan का सिंध शिक्षा प्रणाली में समस्याओं का कर रहा है सामना

Pakistan: पाकिस्तान (Pakistan) के शिक्षा सचिव अकबर लाघारी ने सिंध उच्च न्यायालय को सौंपी गई एक रिपोर्ट में स्वीकार किया कि सिंध प्रांत शिक्षा प्रणाली में कई मुद्दों का सामना कर रहा है. सिंध में 5 साल से 16 साल तक के बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने के मामले में लाघारी ने कोर्ट में रिपोर्ट पेश की है.

Pakistan के सिंध की शिक्षा प्रणाली में है समस्या

Dawn से मिली जानकारी के मुताबिक, सिंध नैरेटिव की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान (Pakistan) के सिंध प्रांत बाढ़ से जूझ रहा है. बाढ़ के बाद घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं. पशुधन समाप्त हो गया है. कृषि प्रभावित हो गई है. स्वास्थ्य प्रबंधन चरमरा रहा है और शिक्षा और भी बिगड़ गई है.

स्थाई मीडिया और कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तान (Pakistan) के  सिंध की बिगड़ती शिक्षा स्थिति पर सवाल उठाए हैं. हालांकि, अधिकारियों के पास कोई प्रतिक्रिया नहीं है और वे इस मुद्दे के बारे में बचाव करते फिर रहे हैं. पांच साल से 16 साल तक के बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने के मामले पर अकबर लाघारी ने माना कि सिंध प्रांत की शिक्षा व्यवस्था में कई खामियां हैं.

Pakistan का सिंध शिक्षा प्रणाली में समस्याओं का कर रहा है सामना
Pakistan का सिंध शिक्षा प्रणाली में समस्याओं का कर रहा है सामना

स्कूल में इन चीज़ों की है कमी

अधिकारिक रिपोर्ट में अकबर लाघरी ने पाकिस्तान (Pakistan) के स्कूल भवनों की कमी, शिक्षकों, फर्नीचर की भारी कमी, फरार और अनुपस्थित शिक्षकों, प्राथमिक और शासन के मुद्दों जैसे मुद्दों पर प्रकाश डाला है. रिपोर्ट के अनुसार, 40,529 स्कूलों में से 6,407 बिना छत वाले हैं. जिसके परिणामस्वरूप इन स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति कम है.

इसके अलावा बताया जा रहा है की, वर्तमान वार्षिक योजनाओं में 622 विद्यालय निर्माणाधीन हैं. शेष विद्यालयों का निर्माण अगले पांच वर्षों में किया जाना है. सिंध नैरेटिव रिपोर्ट ने अदालत में पेश की गई एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि हजारों स्कूल 10 साल से अधिक समय से कम सुविधा होने जी वजह से बंद हैं.

5,970 स्कूल शिक्षकों की अनुपलब्धता के कारण पहले से बंद है

रिपोर्ट से पता चला कि 35,487 प्राथमिक स्कूल शिक्षक अभी भी भर्ती के अंतिम चरण में हैं. जबकि 5,970 स्कूल शिक्षकों की अनुपलब्धता के कारण पहले बंद कर दिए गए थे. इस बीच, अब 3884 स्कूल फिर से खुल गए हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक, कई सालों से फर्नीचर की भारी कमी बच्चों के अक्सर स्कूल छोड़ने का एक और कारण है. इसके अलावा करीब 4533 शिक्षक विद्यालयों में ड्यूटी से अनुपस्थित रहते हैं. 4,427 माध्यमिक विद्यालयों की तुलना में 36,102 प्राथमिक विद्यालयों की उपस्थिति शिक्षा की स्थिति शिक्षा में खराबी दर्शाती है.

स्कूलों की खराब संरचना हजारों छात्रों को हाई स्कूलों में अपनी पढ़ाई पूरी करने से रोक रही है. रिपोर्ट में शासन के मुद्दों पर भी प्रकाश डाला गया है. अधिकांश अधिकारियों में प्रबंधन कौशल की कमी है और वे मामलों को कानूनी रूप से या ठीक से संभालने में असमर्थ हैं. क्योंकि शिक्षा विभाग का नेतृत्व जिला शिक्षा अधिकारियों द्वारा किया जा रहा है.

‘आउट ऑफ स्कूल चिल्ड्रन’ मुद्दे पर भी प्रकाश डाला गया

इसके अलावा, रिपोर्ट में ‘आउट ऑफ स्कूल चिल्ड्रन’ मुद्दे पर प्रकाश डाला गया है. शिक्षा की ख़राब व्यवस्था की वजह से बच्चे की अनिच्छा, महंगी शिक्षा, गरीबी जैसी आर्थिक स्थिति जो बाल श्रम और लड़कियों को शिक्षा से दूर ले जा रही है.

कोर्ट को सौंपी गई रिपोर्ट में सरकार ‘आउट ऑफ स्कूल चिल्ड्रन’ की संख्या कम करने की योजना बना रही है. समाचार रिपोर्ट के अनुसार, इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि सरकार की योजना को प्रांतीय सरकार के पिछले रिकॉर्ड और प्रभाव के बाद बाढ़ की वर्तमान स्थिति, विशेष रूप से सिंध प्रांत में देखने में वर्षों लगेंगे.

One thought on “Pakistan का सिंध शिक्षा प्रणाली में समस्याओं का कर रहा है सामना”

Leave a Reply