पाकिस्तान की मुसीबते कम होने का नाम नहीं ले रही है , एक तरफ इमरान खान मौजूदा शहबाज़ शरीफ की गठबंधन सरकार को गिराने के लिए इस्लामाबाद में मार्च कर रहे , दूसरी तरफ पहले से ही 13% महंगाई दर के बाद भी मौजूदा सरकार और महंगाई आम जनता पर डालने जा रही है |

पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) से नये कर्ज लेने के लिए क़तर की राजधानी दोहा में बातचीत कर रहा था जो असफल रही है | इसमें IMF ने शर्त राखी थी की नए कर्ज लेने से पहले पेट्रोलियम पर पाकिस्तान सरकार दी जाने वाली सब्सिडी ख़तम करे | अब उसका परिणाम देखने को मिलने लगा है |

आज पाकिस्तान के वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल ने घोषणा की कि केंद्र सरकार ने पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में 30 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी करने का फैसला किया है, यह बढ़ोतरी आज आधी रात से लागू होगी।वित्त मंत्री ने इस्लामाबाद में एक संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की और बताया कि यह निर्णय अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) कार्यक्रम को फिर से शुरू करने के लिए लिया गया है ।30 रूपये की बढ़ोतरी के बाद पाकिस्तान में पेट्रोल की नई कीमत 179.86 रुपये और डीजल की कीमत 174.15 रुपये प्रति लीटर होगी।

गौरतलब है कि पाकिस्तान के पास मात्र 10 बिलियन डॉलर की विदेशी मुद्रा बची है जो सिर्फ जुलाई तक के आयात के लिए पर्याप्त है | इस लिए डिफ़ॉल्ट से बचने और अपने विदेशी मुद्रा भंडार को बढ़ाने के लिए IMF की शर्तों को मानना पाकिस्तान की मजबूरी है |

By Satyam

3 thoughts on “IMF के कहने पर पाकिस्तान ने पेट्रोल की कीमत 30 रूपये बढ़ायी , डिफ़ॉल्ट न होने के लिए चाहिए लोन”

Leave a Reply

Your email address will not be published.