Pakistan Floods: पाकिस्तान में बाढ़ ने मचाई तबाही, मदद में ईरान अफगानिस्तान ने सब्जियों के 50 ट्रक भेजे

Pakistan Floods: विनाशकारी बाढ़ का सामना कर रहे देश (Pakistan Floods) में सब्जियों और खाद्य उत्पादों की बढ़ती कीमतों के बीच, ईरान और अफगानिस्तान से सब्जियों को लेकर 50 ट्रक ताफ्तान और चमन सीमाओं के माध्यम से पाकिस्तान पहुंचे.

ईरान और अफगानिस्तान कर रहे मदद

ANI से मिली जानकारी  के मुताबिक, क्वेटा कस्टम कलेक्ट्रेट के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “पिछले दो दिनों में 50 बड़े ट्रक ताफ्तान और चमन के फ्रेंडशिप गेट्स से पाकिस्तान में दाखिल हुए.” उन्होंने आगे कहा कि आने वाले दिनों में प्याज और टमाटर की और खेप देश में पहुंचेगी.

एक वरिष्ठ सीमा शुल्क अधिकारी अरशद हुसैन ने कहा, “हमें शुक्रवार को ईरान से ताजा टमाटर और प्याज के 27 ट्रक मिले, जिसमें 660 टन प्याज और टमाटर थे जबकि 13 ट्रक कल पहुंचे.” सीमा शुल्क के उप कलेक्टर चमन मलिक मुहम्मद अहमद ने कहा कि 10 ट्रक अफगानिस्तान से चमन सीमा के माध्यम से पाकिस्तान में आए.

सीमा शुल्क के उप कलेक्टर चमन मलिक मुहम्मद अहमद ने आगे कहा, “ताजा टमाटर और प्याज की खेप से लदे ट्रकों को नियमित जांच के बाद साफ कर दिया गया.” उन्होंने कहा कि संघीय सरकार ने ईरान और अफगानिस्तान से टमाटर और प्याज के आयात पर शून्य सीमा शुल्क की घोषणा पहले ही कर दी थी.

पाकिस्तान कर रहा मुसीबतों का सामना

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान अभूतपूर्व बाढ़ (Pakistan Floods) का सामना कर रहा है. इन दो वस्तुओं और अन्य सब्जियों की कीमतें बढ़ गई हैं और पूरा देश सब्जियों की कमी का सामना कर रहा है.

संघीय सरकार ने निजी क्षेत्र से ईरान और अफगानिस्तान से टमाटर और प्याज आयात करने का आग्रह किया है. प्याज और टमाटर की बढ़ी कीमतों के चलते सरकार ने इन सब्जियों पर 90 दिनों के लिए शुल्क भी समाप्त कर दिया.

बलूचिस्तान के चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष, फिदा हुसैन दशती ने कहा, “दो पड़ोसी देशों से प्याज और टमाटर के आयात के कारण इन दोनों वस्तुओं की कीमतों में अगले दो से तीन दिनों में सभी बाजारों में कमी आएगी.”

पाकिस्तान की गंभीर स्थिति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उसे अफगानिस्तान से मदद मांगनी पड़ी. जो खुद एक बड़े मानवीय संकट का सामना कर रहा है. संयुक्त राष्ट्र ने शुक्रवार को पाकिस्तान में बिगड़ती बाढ़ की स्थिति पर चिंता व्यक्त की क्योंकि इससे संकटग्रस्त अफगानिस्तान को खाद्य आपूर्ति को खतरा होगा.

संयुक्त राष्ट्र ने विश्व खाद्य कार्यक्रम में कहीं ये बात

संयुक्त राष्ट्र ने विश्व खाद्य कार्यक्रम में कहा कि अधिकांश खाद्य सहायता पाकिस्तान के रास्ते सड़क मार्ग से पहुंचाई जाती है. एक ऐसा नेटवर्क जो देश के इतिहास में सबसे भीषण बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुआ है. यह अपने विनाशकारी मानवीय संकट को दूर करने के लिए पड़ोसी अफगानिस्तान में भोजन पहुंचाने के प्रयासों पर भारी दबाव डालेगा.

डब्ल्यूएफपी के पाकिस्तान कंट्री डायरेक्टर क्रिस काये ने कहा कि पाकिस्तान में अपने लोगों को खिलाने और अफगानिस्तान को भोजन की आपूर्ति जारी रखने के लिए कृषि उत्पादन को बहाल करने में एक बड़ी समस्या थी.

काये ने कहा की, “इसका भोजन बड़ी मात्रा में कराची बंदरगाह से प्रवेश करता है. पाकिस्तान अफगानिस्तान में एक महत्वपूर्ण आपूर्ति मार्ग प्रदान करता है. सड़कें जो बह गई हैं. जो हमें एक बड़ी लॉजिस्टिक चुनौती के साथ प्रस्तुत करती है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.