September 25, 2022
Spread the love

पाकिस्तान के प्रतिष्ठित अख़बार Dawn की रिपोर्ट के अनुसार, घटनाक्रम के जानकर लोगों ने कहा कि संघर्ष विराम का विस्तार अफगान राजधानी काबुल में दोनों पक्षों के बीच वार्ता से प्रगति का संकेत देता है।

सूत्रों ने Dawn को बताया कि अफगानिस्तान के कार्यवाहक प्रधानमंत्री मुल्ला मुहम्मद हसन अखुंद के साथ उनके कार्यालय में अलग-अलग बैठकों के बाद दोनों पक्षों ने संघर्ष विराम का विस्तार करने और शांति वार्ता जारी रखने पर सहमति व्यक्त की थी। दोनों पक्षों के साथ बैठक में हसन अखुंद ने इच्छा व्यक्त की कि बिना किसी कट-ऑफ तारीख के वार्ता और संघर्ष विराम को जारी रखा जाना चाहिए।

Dawn की रिपोर्ट के अनुसार, बाद की एक संयुक्त बैठक में, पाकिस्तान और TTP दोनों पक्षों ने संघर्ष विराम को अनिश्चित काल तक बढ़ाने और उस संघर्ष को समाप्त करने के लिए बातचीत करने पर सहमति व्यक्त की, जिसके कारण खासकर पाकिस्तान के कबायली क्षेत्र और अन्य क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर हजारों लोगों की हत्या हुई है।

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद और TTP के प्रवक्ता मुहम्मद खुरासानी ने इस महीने की शुरुआत में बयान जारी कर संघर्षविराम को 30 मई तक बढ़ाने की घोषणा की थी।

संघर्षविराम के अनिश्चितकालीन विस्तार को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है। Dawn की रिपोर्ट के अनुसार ये संघर्षविराम अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में “गहन और व्यापक वार्ता” के बाद हुआ है, जिसमें दोनों पक्षों के वरिष्ठ स्तर के प्रतिनिधिमंडलों ने भाग लिया |

सूत्रों ने बताया है कि तालिबान के कार्यवाहक गृहमंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी, इस शांतिवार्ता के मध्यस्थ थे |

वर्तमान में पाकिस्तान की अफगानिस्तान में भूमिका

पाकिस्तान ने तालिबान लड़ाकों की ट्रेनिंग करवाने के साथ-साथ उनकी पढ़ाई भी अपने मदरसों में ही कराई है | जिन लोगों के नाम के पीछे हक़्क़ानी लगा होता है वो सब पाकिस्तान के दारुल-उलूम हक्कानिया मदरसे से ही पढ़े है और इन्ही के संघटन को हक़्क़ानी नेटवर्क कहते है | ये अफगान की तालिबान सरकार में सबसे ज्यादा ताक़त रखते है और पाकिस्तान के इशारों पर काम करते है |

Azadi March : इमरान खान ने शहबाज सरकार को चुनाव की घोषणा के लिए 6 दिन की समयसीमा दी, हिंसा में अबतक 6 की मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published.