September 25, 2022
Oil Imports: रूस से चीन का कच्चे तेल आयात बढ़ा, यूक्रेन से युद्ध के बीच हो रहा ये व्यापार

Oil Imports: रूस से चीन का कच्चे तेल आयात बढ़ा, यूक्रेन से युद्ध के बीच हो रहा ये व्यापार

Spread the love

Oil Imports: चीन (China) ने मई में रूस (Russia) से कच्चे तेल (Oil Imports) के आयात में वृद्धि की है. सोमवार को चीनी (China) सीमा शुल्क के आंकड़ों से पता चला है कि रूस से कच्चे तेल (Crude Oil) का आयात (Oil Imports) मई में एक साल पहले की तुलना में 55 प्रतिशत बढ़ गया.

कच्चे तेल का बढ़ा आयात

बता दें की, चीन (China) दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. रिपोर्ट्स की माने तो, पिछले महीने रूस से लगभग 8.42 मिलियन टन तेल का आयात (Oil Import) किया है. चीन ने इसी अवधि में सऊदी अरब (Saudi Arab) से 7.82 मिलियन टन तेल का आयात किया. चीन (China) 2016 से कच्चे तेल (Crude Oil) के लिए रूस (Russia) का सबसे बड़ा बाजार रहा है और उसने यूक्रेन (Ukraine) में मास्को (Moscow) के युद्ध की सार्वजनिक रूप से कभी निंदा नहीं की.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, चीन ने अपने सभी पड़ोसियों से खूब आर्थिक लाभ हासिल किया है. ब्लूमबर्ग न्यूज  (Bloomberg News) के मुताबिक, चीन ने मई में 7.47 अरब डॉलर के रूसी ऊर्जा उत्पाद खरीदे, जो अप्रैल (April) की तुलना में करीब 1 अरब डॉलर अधिक था. रूसी तेल के आयात में पूर्वी साइबेरिया प्रशांत महासागर पाइपलाइन के माध्यम से पंप की गई आपूर्ति और रूस के यूरोपीय और सुदूर पूर्वी बंदरगाहों से समुद्री शिपमेंट शामिल हैं.

विश्लेषकों का कहना है कि एशियाई मांग रूस (Russia) के लिए उन नुकसानों में से कुछ को कम करने में मदद कर रही है, खासकर चीन (China) और भारत (India) के खरीदारों के लिए. अनुसंधान फर्म रिस्टैड एनर्जी (firm Rystad Energy) के डेटा के अनुसार, भारत (India) ने पिछले साल की समान अवधि की तुलना में मार्च से मई तक छह गुना अधिक रूसी तेल खरीदा है. और उस अवधि के दौरान चीन द्वारा आयात तीन गुना हो गया है.

मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, भारत (India) ने पिछले दो महीनों में जर्मनी (Germany) को पीछे छोड़ते हुए रूसी कच्चे तेल का दूसरा सबसे बड़ा आयातक बना लिया है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.