Nusrat Mirza: पाकिस्तानी पत्रकार निकला ISI का जासूस, जासूसी करने के मनसूबे से कई बार आ चुगा है भारत

Nusrat Mirza: पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा (Nusrat Mirza) ने देश की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) के लिए जासूसी की है. ये बात नुसरत ने कुबूल की. नुसरत का कहना है की, जब उसने 2007 और 2010 में भारत का दौरा किया था तब वो दरअसल यहाँ से जानकारी ISI को दे रहा था. उसने एक विडियो क्लिप के दौरान यह खुलासा किया, जिसकी क्लिप अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है.

नुसरत मिर्जा करता था ISI के लिए काम

पाकिस्तान (Pakistan) के एक पत्रकार ने हाल ही में एक सनसनीखेज दावा किया है. पाकिस्तानी के पत्रकार नुसरत मिर्जा (Nusrat Mirza) ने कहा है कि यूपीए (UPA) के शासनकाल में जब वे भारत (India) आए थे तब उन्होंने भारत के बारे में सूचनाएं इकट्ठी करके पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) तक पहुंचाईं थीं. विडियो क्लिप में, नुसरत मिर्जा को कैमरे पर शेखी बघारते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें भारत के तत्कालीन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने आमंत्रित किया था और यह कि वह अपनी भारत यात्राओं के दौरान आईएसआई (ISI) प्रमुख को एकत्र की गई जानकारी देते थे.

11 जुलाई को एक इंटरव्यू के दौरान, नुसरत मिर्जा ने कहा कि उन्हें अपनी भारत यात्रा के दौरान पाकिस्तान के विदेश मामलों के विभाग से विभिन्न ‘विशेषाधिकार’ प्राप्त हुए थे. नुसरत मिर्ज़ा (Nusrat Mirza) ने कहा की,

“मैं पांच बार भारत का दौरा कर चुका हूं. मैंने दिल्ली, बंगलौर, चेन्नई, पटना और कोलकाता का भी दौरा किया है. मुझे मोहम्मद हामिद अंसारी (Mohammad Hamid Ansari) के उपराष्ट्रपति के समय भारत में आमंत्रित किया गया था. 2011 में, मैं मिल्ली गजट (Milli Gazette) के प्रकाशक जफरुल इस्लाम खान (Zafarul Islam Khan) से भी मिल चुगा हूँ.”

इसके अलावा नुसरत मिर्ज़ा का कहना था की, खुर्शीद [पाकिस्तान के पूर्व मंत्री] ने मुझसे [जनरल अशफ़ाक परवेज] कयानी [पूर्व सेना प्रमुख] ने सारी जानकारी उनको देने के लिए कहा था. इस पर नुसरत मिर्ज़ा का कहना था की वो सारी जानकारी नहीं देना चाहते थे लेकिन फिर भी उन्होंने कयानी को सारी जानकारी सौंप दी थी.

भारत के नेतृत्व की कमजोरियों के बारे में जानता है पाकिस्तान

पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा (Nusrat Mirza) ने कई अहम खुलासे किए हैं. उनका कहना है की, कयानी [पूर्व सेना प्रमुख] ने उन्हें फ़ोन किया और पूछा की क्या उनको ऐसी और कोई जानकारी मिल सकती है. मेरे पास भारत को लेकर जो भी जानकारी थी मैंने वो दे दी. पाकिस्तान के पास एक शोध विंग है. उनके पास सारी जानकारी है. वे भारत में नेतृत्व की कमजोरियों के बारे में अच्छे से जानते हैं.

बता दें की, इसके आगे नुसरत मिर्ज़ा ने भारत से प्राप्त खुफिया जानकारी को संभालने के लिए पाकिस्तान के ‘ढीले’ रवैये को जिम्मेदार ठहराया है. और कहा है की, “जब से FATF आया है, पाकिस्तान ने कोई गतिविधि नहीं की है. उसके हाथ बंधे हुए हैं.”

बता दें की, नुसरत मिर्जा पाकिस्तान की सीनियर कॉलमिस्ट हैं. वे पिछले 52 साल से कॉलम लिख रहे हैं. सबसे पहले उन्होंने पाकिस्तान के नवा-ए-वक्त के लिए और फिर पाकिस्तान के सबसे प्रसिद्ध उर्दू अखबार जंग के लिए कॉलम लिखा करते थे. इस वक़्त वे पिछले 9 साल से सच (Truth ) टीवी पर एक शो को होस्ट कर रहे हैं.

 

One thought on “Nusrat Mirza: पाकिस्तानी पत्रकार निकला ISI का जासूस, जासूसी करने के मनसूबे से कई बार आ चुका है भारत”

Leave a Reply