September 29, 2022
Nupur Sharma: खाड़ी देशों की नाराजगी दूर करने में जुटा भारत, पैगंबर मोहम्मद के विवाद से भारत को क्या है नुक्सान

Nupur Sharma: खाड़ी देशों की नाराजगी दूर करने में जुटा भारत, पैगंबर मोहम्मद के विवाद से भारत को क्या है नुक्सान

Spread the love

बीजेपी(BJP) प्रवक्‍ता रहीं नूपुर शर्मा(Nupur Sharma) की पैगंबर मोहम्‍मद पर की गई टिप्‍पणी सऊदी अरब, कतर, कुवैत, ईरान समेत कई मुस्लिम देशों को नागवार गुजरी है. भारत (India) ने कहा कि ऐसी टिप्‍पणियां ‘फ्रिंज एलिमेंट्स’(Fringe Elements) ने की और वह सरकार की राय नहीं है. रणनीतिक लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण कतर, कुवैत, ईरान, सऊदी अरब और बहरीन जैसे देशों की नाराजगी को भारत दूर करने की हरसंभव कूटनीतिक कोशिश कर रहा है.

खाड़ी देशों को क्यों नाराज नहीं कर सकता भारत

नुपूर शर्मा(Nupur Sharma) के पैगंबर पर दिए गये बयान पर भारत में तो बवाल मचा ही हुआ है, इसके साथ ही साथ इस्लामिक देशों से भी कड़ी प्रतिक्रिया आ रही है. और इस वक्त बीजेपी(BJP) की निलंबित नेता नुपूर शर्मा(Nupur Sharma) के पैगंबर मोहम्मद पर दिए गये विवादित बयान पर विवाद पूरी दुनिया में हो रही है. खासकर इस्लामिक देशों की तरफ से कड़ी प्रतिक्रियाएं आई हैं. खाड़ी देशों के साथ भारत को जोड़ने वाले संबंध न केवल व्यापार और वाणिज्य पर बल्कि इतिहास और संस्कृति पर आधारित भी रही है.

खाड़ी देशों(Gulf Country) में, लाखों भारतीय रहते हैं और काम करते हैं और यह भारत को विदेशी मुद्रा का एक बड़ा हिस्सा यहां ले मिलवता है. खासकर, मोदी(Modi) सरकार के आने के बाद जब पाकिस्तान(Pakistan) की तरफ से भारत के खिलाफ ‘इस्लाम के खिलाफ’ होने का प्रोपेगेंडा फैलाया गया, उस वक्त खाड़ी देशों के साथ भारत के संबंध ऐतिहासिक होते चले गये. भारत(India) अब संयुक्त अरब अमीरात(UAE) का दूसरा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार बन चुका है और सऊदी अरब में भव्य मंदिर का निर्माण किया जा रहा है. वहीं, भारत अपनी तेल की जरूरतों के लिए इस क्षेत्र पर बहुत अधिक निर्भर है.

गल्फ देशों के साथ भारत का व्यापार

संयुक्त अरब अमीरात(UAE) भारत(India) का तीसरा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है. वहीं, खाड़ी देश भी भारत पर काफी निर्भर हैं. संयुक्त राज्य अमेरिका(USA) के बाद, संयुक्त अरब अमीरात भारत का दूसरा सबसे बड़ा एक्सपर्ट ठिकाना और तीसरा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है. भारत और यूएई का द्विपक्षीय व्यापार 2021-22 में 72.9 अरब डॉलर का था, जिसमें भारत ने 28.4 अरब डॉलर का सामान यूएई को बेचा था.

वहीं, भारत और यूएई के बीच फरवरी महीने में कॉम्पिहेंसिव इरोनॉमिक पार्टनरशिप एग्रीमेंट भी हुआ है, जिसके तहत दोनों देशों के कुल व्यापार को साल 2026 तक 100 अरब डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है. खाड़ी देश(Gulf Country), विशेष रूप से खाद्य और अनाज के आयात के लिए भारत पर निर्भर है. भारत खाड़ी देशों को उनके भोजन का 85% से ज्यादा और उनके अनाज का 93% निर्यात करता है. इसके साथ ही, खाड़ी देशों को भारत चावल, भैंस का मांस, मसाले, समुद्री उत्पाद, फल, सब्जियां और चीनी प्रमुख तौर पर निर्यात करता है.

 

1 thought on “Nupur Sharma: खाड़ी देशों की नाराजगी दूर करने में जुटा भारत, पैगंबर मोहम्मद के विवाद से भारत को क्या है नुक्सान

Leave a Reply

Your email address will not be published.