Nobel Peace Prize: बेलारूस, रूस, यूक्रेन के संगठन को मिला नोबेल शांति प्राइज

Nobel Peace Prize: इस साल का नोबेल शांति पुरस्कार जेल में बंद बेलारूस के अधिकार कार्यकर्ता एलेस बियालियात्स्की, रूसी समूह ‘मेमोरियल’(Russian Organisation Memorial) और यूक्रेन के संगठन ‘सेंटर फॉर सिविल लिबर्टीज’ (Ukrainian Center for Civil Liberties group) को देने का ऐलान किया गया है. नार्वे नोबेल कमेटी के प्रमुख बेरिट रीज एंडर्सन ने ओस्लो में इसकी (Nobel Peace Prize) घोषणा की है.

Nobel Peace Prize के विजेता हैं जेल में

Aljazeera से मिली जानकारी के मुताबिक, इस बार नोबेल शांति पुरस्कार (Nobel Peace Prize) जेल में बंद बेलारूस के अधिकार कार्यकर्ता एलेस बियालियात्स्की (Ales Bialiatski), रूसी समूह ‘मेमोरियल’ और यूक्रेन के संगठन ‘सेंटर फॉर सिविल लिबर्टीज’ को दिया जाएगा. रायटर्स के मुताबिक, पिछले साल यह पुरस्कार दो पत्रकारों, रूस के दिमित्री मुरातोव और फिलीपीन्स के मारिया रेसा को दिया गया था.

प्राइज देने वाली समिति ने कहा की, “जीतने वाले नामी चेहरों ने कई वर्षों तक सत्ता की आलोचना करने और नागरिकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा करने के अधिकार को बढ़ावा दिया है. उन लोगों ने युद्ध अपराधों, मानवाधिकारों के हनन और सत्ता के दुरुपयोग को रोकने के लिए बहुत म्हणत की है. साथ में वे शांति और लोकतंत्र के लिए नागरिक समाज के महत्व को प्रदर्शित करते हैं.”

पुरस्कार विजेताओं के बेलारूस, यूक्रेन और रूस से होने के कारण, रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे संघर्ष के बारे में एक संदेश भेजा गया है. समिति ने कहा की, “नार्वे की नोबेल समिति पड़ोसी देशों बेलारूस, रूस और यूक्रेन में मानवाधिकार, लोकतंत्र और शांति को बनाए रखने के लिए इनको सम्मान दे रही है.”

एलेस बियालियात्स्की को इसलिए मिला नोबेल प्राइज

नोबेल प्राइज की वेबसाइट के अनुसार, “जेल में बंद बेलारूस के अधिकार कार्यकर्ता एलेस बियालियात्स्की 1980 के दशक के मध्य में बेलारूस में उभरे लोकतंत्र आंदोलन के आरंभकर्ताओं में से एक थे. 1991 से पहले, जब पूर्व सोवियत संघ का खात्मा हुआ और स्वतंत्र देशों का उदय हुआ तब मध्य एशिया और यूरोप के कई देशों ने स्वतंत्रता-समर्थक आंदोलनों को देखा. बेलारूस के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको 1994 (जब यह पद पहली बार अस्तित्व में आया था) से सत्ता में हैं.

निएंडरथल डीएनए (Neanderthal DNA) के रहस्यों को उजागर करने वाले वैज्ञानिक को चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित करने के साथ सोमवार को नोबेल पुरस्कारों की घोषणा का सप्ताह शुरू हुआ था. फिजिक्स में खोज को आगे बढ़ने के उपलक्ष में तीन  वैज्ञानिकों को नोबेल प्राइज मिला था. केमिस्ट्री में इस साल का नोबेल पुरस्कार कैरोलिन आर बर्टोज्जी, मोर्टन मेल्डल और के बैरी शार्पलेस को मिला है.

साहित्य के लिए इनको मिला नोबेल प्राइज

गुरुवार को स्वीडिश अकादमी ने इस साल साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार फ्रांसीसी लेखिका एनी एरनॉक्स को दिया है. आगे बता दें की, मेमोरियल बोर्ड के सदस्य एंके गिसेन ने रॉयटर्स समाचार एजेंसी को दिए एक बयान में कहा, “मॉस्को में मेमोरियल इंटरनेशनल के जबरन हमलों के बावजूद, यह प्राइज हमारे रूसी सहयोगियों को एक नए स्थान पर अपना काम जारी रखने के लिए हमारे संकल्प में प्रोत्साहित करता है. हम बहुत खुश हैं.”

सेंटर फॉर सिविल लिबर्टीज के लिए, इसके प्रतिनिधि वलोडिमिर यावोर्स्की ने एसोसिएटेड प्रेस समाचार एजेंसी को बताया कि “यह पुरस्कार महत्वपूर्ण था क्योंकि कई वर्षों तक हमने एक ऐसे देश में काम किया है जो अदृश्य थी. उसका कोई अस्तित्व नहीं था.”

 

2 thoughts on “Nobel Peace Prize: बेलारूस, रूस, यूक्रेन के संगठन को मिला नोबेल शांति प्राइज”

Leave a Reply