Israel में चल रहे चुनाव में एक बार फिर से Netanyahu बन सकते हैं प्रधानमंत्री

Israel: इजरायल के पूर्व प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू सत्ता में वापसी के लिए अच्छी तरह से तैयार दिखाई दे रहें हैं. बता दें की,  ये जानकारी एग्जिट पोल्स में सामने आई है. देश (Israel) में एक दिन पहले मंगलवार को ही आम चुनाव के लिए मतदान हुआ है.

Israel की सत्ता में बेंजामिन नेतन्याहू फिर करेंगे वापसी

WION से मिली अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, इजरायल (Israel) के पूर्व प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने बुधवार को कहा कि उनका दक्षिणपंथी, धार्मिक खेमा एक बड़ी चुनावी जीत की और खड़ा है. इससे पहले, एग्जिट पोल ने भी उनके जीतने की भविष्यवाणी की थी.

Israel में चल रहे चुनाव में एक बार फिर से Netanyahu बन सकते हैं प्रधानमंत्री
Israel में चल रहे चुनाव में एक बार फिर से Netanyahu बन सकते हैं प्रधानमंत्री

मुस्कुराते हुए नेतन्याहू ने यरुशलम में अपने चुनाव मुख्यालय में समर्थकों से कहा की, “हमने इजराइल के लोगों से भारी विश्वास हासिल किया है. हम एक बहुत बड़ी जीत के कगार पर हैं.”

Netanyahu सबसे लंबे समय तक इजराइल के पीएम रह चुगे हैं

एक स्थानीय मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि एग्जिट पोल के मुताबिक, इजराइल (Israel) के सबसे लंबे समय तक रहने वाले पीएम 120 सीटों वाले केसेट (संसद) में कम से कम 61 या 62 सीटें लेने के लिए तैयार हैं. वो एक बड़ी जीत हासिल करेंगे. फ़िलहाल ऐसा बताया जा रहा है की चुनाव के परिणाम महीने के अंत तक आएंगे.

73 वर्षीय नेतन्याहू ने इज़राइली (Israel) सार्वजनिक प्रसारक कान 11 द्वारा प्रसारित एक वीडियो में कहा है की, “यह एक अच्छी शुरुआत है. लेकिन उन्होंने कहा कि एग्जिट पोल असली गिनती नहीं है.” आगे उन्होंने कहा है की,  सप्ताह के अंत तक अंतिम परिणाम की उम्मीद नहीं है.

इस पार्टी को मिलेंगी इतनी सीटें

बताया जा रहा है की, इस बीच मौजूदा प्रधानमंत्री यायर लापिड की मध्यमार्गी यश अतीद पार्टी (centrist Yesh Atid party) को कम से कम 24 सीटें जीतने का अनुमान है. दूसरी ओर, इतामार बेन-ग्वीर के नेतृत्व वाली धार्मिक ज़ायोनी पार्टी (Religious Zionist Party) कम से कम 14 सीटें मिलेंगी. इससे यह तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बन जाएगी.

चार साल से भी कम समय में यह देश का पांचवां चुनाव है. इन चुनावों ने कई मतदाताओं को नाराज कर दिया है. हालांकि, रिपोर्टों से पता चलता है कि इसने मतदाता मतदान को प्रभावित नहीं किया है. इस साल 1999 के बाद से सबसे अधिक मतदान हुआ है. इजराइल के पूर्व प्रधानमंत्री नेतन्याहू 12 साल बाद पिछले साल हार गए थे. यायर लैपिड और उनके साथी नफ्ताली बेनेट ने पहली बार एक गठबंधन बनाया था.

नेतन्याहू सबसे विवादास्पद नेता रहे हैं

नेतन्याहू को सबसे विवादास्पद राजनीतिक शख्सियतों में से एक के रूप में देखा जाता है और वर्तमान में उन पर कथित रिश्वतखोरी, धोखाधड़ी और विश्वास भंग के आरोपों का भी मुकदमा चल रहा है. हालाँकि, इजराइल (Israel) के पूर्व प्रधानमंत्री ने नेतन्याहू ने इन सभी आरोपों का खंडन किया था.

बता दें की, 73 साल के नेतन्याहू को बेन-ग्विर और धुर दक्षिणपंथी नेता बेजेल स्मोट्रिच के समर्थन पर भरोसा है. बेन-ग्विर बात करें, तो वह कच के पूर्व सदस्य हैं. इंडिया टुडे में छपी एक खबर के मुताबिक, इजरायली राष्ट्रपति इसाक हर्जोग ने मंगलवार सुबह यरुशलम में मतदान करते हुए नागरिकों को ऐसे वक्त में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने का आग्रह किया है.

 

Leave a Reply