September 29, 2022
NATO: नाटो ने कहा की, सुरक्षा के लिए चुनौती बना गया है चीन

NATO: नाटो ने कहा की, सुरक्षा के लिए चुनौती बना गया है चीन

Spread the love

NATO: नाटो ने पहली बार चीन (China) को अपनी रणनीतिक प्राथमिकताओं में से एक के रूप में छें को सूचीबद्ध किया है. मैड्रिड (Madrid) में आयोजित बैठक में नाटो (NATO) ने कहा कि चीन (China) की महत्‍वाकांक्षा और पीड़ा देने वाली नीतियां पश्चिमी देशों के हितों, सुरक्षा और मूल्‍यों के लिए चुनौती बन गई है.

क्या कहा नाटो ने चीन के लिए

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, स्पेन (Spain) की राजधानी मैड्रिड (Madrid) में चल रहे नाटो के शिखर सम्मेलन में रूस के साथ ही चीन (China) को लेकर भी एक चेतावनी जारी की है. नाटो (NATO) ने कहा कि चीन (China) अपने पड़ोसियों को धमकाता है साथ ही वो रूस (Russia) का एक रणनीतिक साझेदार है जो पश्चिमी देशों के लिए एक बड़ी चुनौती बनता जा रहा है.

नाटो ने चीन और रूस को लेकर कई अहम बातें कही हैं. नाटो ने रूस (Russia) को सैन्‍य संगठन के शांति और सुरक्षा के लिए सबसे महत्‍वपूर्ण और सीधा खतरा बताया है. इसमें नाटो (NATO) देशों ने यह भी कहा है कि चीन (China) की सैन्‍य महत्‍वाकांक्षा, उसका ताइवान (Taiwan) को लेकर टकराव वाला बयान और उसका मास्‍को (Moscow) के साथ बढ़ता संबंध ‘व्‍यवस्थित चुनौती’ बन गया है.

कई देशों ने अतिथि के रूप में लिया भाग

ANI की रिपोर्ट के अनुसार, साइबर सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन और चीन (China) के बढ़ती आर्थिक और सैन्य अभियानों को देखते हुए पहली बार जापान (Japan), ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया और न्यूजीलैंड (New Zealand) ने इस शिखर सम्मेलन में अतिथि देश के रूप में भाग लिया है.

बता दें की, नाटो के महासचिव जेन्स स्टोल्टेनबर्ग (General Jens Stoltenberg) ने संवाददाताओं से कहा, “चीन परमाणु हथियारों सहित अपने सैन्य बलों का निर्माण कर रहा है. अपने पड़ोसियों को धमका रहा है. ताइवान (Taiwan) को धमका रहा है. उन्नत तकनीक के माध्यम से अपने नागरिकों की निगरानी और नियंत्रण कर रहा है और रूसी झूठ और दुष्प्रचार फैला रहा है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.