Mulayam Singh Yadav का आज होगा उनके पैतृक गांव सैफई में अंतिम संस्कार

Mulayam Singh Yadav: समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक और उत्तर प्रदेश के तीन बार मुख्यमंत्री रहे मुलायम सिंह यादव का लंबी बीमारी के बाद सोमवार को निधन हो गया. उन्होंने 82 साल की उम्र में गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में आखिरी सांस 8:15 पर ली थी. आज उत्तर प्रदेश के दिगाज नेता और समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का उनके पैतृक गाँव में अंतिम संस्कार होगा.

आज होगा Mulayam Singh Yadav का अंतिम संस्कार

NDTV में छपी एक खबर के मुताबिक, मुलायम सिंह (Mulayam Singh Yadav) का सोमवार की सुबह 82 वर्ष की आयु में गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उम्र संबंधी बीमारियों के कारण निधन हो गया. उनकी तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें पिछले रविवार को अस्पताल के (ICU) में भर्ती कराया गया था. उनके परिवार में दो बेटे अखिलेश और प्रतीक हैं.

Mulayam Singh Yadav का आज होगा उनके पैतृक गांव सैफई में अंतिम संस्कार
Mulayam Singh Yadav का आज होगा उनके पैतृक गांव सैफई में अंतिम संस्कार

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के साथ कई मुख्यमंत्रियों के अंतिम संस्कार में शामिल होने की उम्मीद है. सूत्रों के अनुसार, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके साथ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समाजवादी पार्टी के दिग्गज के अंतिम संस्कार में शामिल होंगे.

कांग्रेस के दिग्गज नेता मल्लिकार्जुन खड़गे भी मंगलवार को अंतिम संस्कार में शामिल होंगे. हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि कर्नाटक में भारत जोडो यात्रा का नेतृत्व कर रहे प्रियंका गांधी और राहुल गांधी शामिल होंगे या नहीं. उत्तर प्रदेश के भावी नेता के निधन पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत तमाम हस्तियों ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है.

अपूरणीय क्षति है मुलायम सिंह यादव का निधन

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने सोमवार को दिग्गज राजनेता और समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनकी मृत्यु देश के लिए एक अपूरणीय क्षति है. राष्ट्रपति भवन ने ट्वीट किया की,

“श्री मुलायम सिंह यादव का निधन देश के लिए एक अपूरणीय क्षति है. साधारण वातावरण से आए मुलायम सिंह यादव जी की उपलब्धियां असाधारण थीं. ‘धरती पुत्र’ मुलायम जी जमीन से जुड़े दिग्गज नेता थे. सभी पार्टियों के लोग उनका सम्मान करते थे. उनके परिवार के सदस्यों और समर्थकों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं!”

समाजवादी पार्टी के संस्थापक के निधन के बारे में जानने के तुरंत बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिग्गज नेता के साथ अपने संबंधों को याद किया और ट्वीट किया,

“श्री मुलायम सिंह यादव जी एक उल्लेखनीय व्यक्तित्व थे. उन्हें एक विनम्र और जमीन से जुड़े नेता के रूप में व्यापक रूप से सराहा गया. जो लोगों की समस्याओं के प्रति संवेदनशील थे. उन्होंने लगन से लोगों की सेवा की और लोकनायक जेपी और डॉ लोहिया के आदर्शों को लोकप्रिय बनाने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया.”

लोकसभा अध्यक्ष ने भी व्यक्त किया दुःख

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा, “मैं यूपी के पूर्व सीएम और दिग्गज राजनेता मुलायम सिंह यादव के निधन पर गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं. वृद्धावस्था और बिगड़ते स्वास्थ्य के बावजूद, वे नियमित रूप से लोकसभा सत्र में भाग लेते थे. उन्होंने विभिन्न छोटे पदों पर रहकर देश की सेवा की.”

मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) ने अपने पांच दशक लंबे करियर के दौरान उत्तर प्रदेश को कई उतार-चढ़ावों से गुजरते देखा था. प्यार से “नेता जी” कहे जाने वाले, वह भारत के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य की राजनीति में पारंगत थे.

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राम गोपाल यादव ने कहा की, “नेताजी के निधन से देश की राजनीति बदहाल हो गई. उन्होंने राजनीति में आने के बाद जिस तरह से राजनीति की शुरुआत की, उसी तरह उन्होंने आम आदमी को सबसे आगे लाया. जिन्हें लखनऊ और दिल्ली का रास्ता नहीं पता था उन्हें भी विधायक और सांसद बनाया गया.”

22 नवंबर 1939 को इटावा जिले के सैफई गांव में जन्मे मुलायम सिंह (Mulayam Singh Yadav) राजनीति में तेजी से आगे बढ़े और तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने. उन्होंने एक बार रक्षा मंत्री के रूप में केंद्रीय सरकार में भी कार्य किया है.

Leave a Reply