September 25, 2022
Monkeypox: WHO ने कहा यूरोप और अमेरिका में सबसे ज्यादा फ़ैल रहा मंकीपॉक्स वायरस

Monkeypox: WHO ने कहा यूरोप और अमेरिका में सबसे ज्यादा फ़ैल रहा मंकीपॉक्स वायरस

Spread the love

Monkeypox Virus: कोरोना महामारी से अभी दुनिया उभर भी नहीं पाई थी की एक वायरस (Monkeypox Virus) ने जन्म ले लिया है. डब्ल्यूएचओ (WHO) की अधिकारिक रिपोर्ट के मुताबिक मंकीपॉक्स वायरस सबसे ज्यादा अमेरिका और यूरोप पर अटैक कर रहा है. हालाँकि, एशिया के देश ज्यादा प्रभावित नहीं हुए हैं.

यूरोप और अमेरिका पर मंडरा रहा खतरा

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयसस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने बुधवार को यहां पत्रकारों को बताया कि मंकीपॉक्स के प्रकोप से यूरोप और अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं.

टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयसस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) कहा कि रिपोर्ट किए गए मामलों में से 98 प्रतिशत पुरुषों के साथ यौन संबंध रखने वाले पुरुषों में हैं.  इस बात पर जोर देते हुए कि कलंक और भेदभाव किसी भी वायरस की तरह खतरनाक हो सकता है और प्रकोप को बढ़ावा दे सकता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक का कहना है की, जैसे हमने शुरुवात कोरोना महामारी को लेकर ढील दी थी. वैसा हम मंकीपॉक्स के साथ नहीं कर सकते. वरना हमें बुरा खामयाजा भुगतना पड़ेगा.

मंकीपॉक्स को आपातकाल किया घोषित

बता दें की, पिछले शनिवार को, WHO ने आधिकारिक तौर पर मंकीपॉक्स को अंतरराष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल (PHEIC) घोषित कर दिया था.  एक PHEIC उच्चतम स्तर का अलर्ट है जो संयुक्त राष्ट्र (UN) स्वास्थ्य निकाय दे सकता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयसस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने कहा की,

“डब्ल्यूएचओ (WHO) देशों से मंकीपॉक्स के प्रकोप को गंभीरता से लेने के लिए संक्रमण को रोकने और कमजोर समूहों की सुरक्षा के लिए आवश्यक कदम उठाने का आग्रह करता है. ऐसा करने का सबसे अच्छा तरीका जोखिम को कम करना और सुरक्षित विकल्प बनाना है. सावधानी में पुरुषों के साथ यौन संबंध रखने वाले पुरुषों के लिए, इसमें इस समय, आपके यौन साझेदारों की संख्या को कम करना, नए भागीदारों के साथ यौन संबंध पर पुनर्विचार करना और जरूरत पड़ने पर फॉलो-अप सक्षम करने के लिए किसी भी नए साथी के साथ संपर्क विवरण का आदान-प्रदान करना शामिल है.”

जानकारी के लिए बता दें की, कनाडा, यूरोपीय संघ और अमेरिका ने मंकीपॉक्स के खिलाफ उपयोग के लिए एमवीए-बीएन (मॉडिफाइड वैक्सीनिया अंकारा – बवेरियन नॉर्डिक) नामक वैक्सीन को पहले ही मंजूरी दे दी है. और दो अन्य टीकों का भी मूल्यांकन किया जा रहा है.

खुराक पर डेटा की कमी के कारण डब्ल्यूएचओ ने ये कहा

अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, टीकों की प्रभावशीलता और खुराक पर डेटा की कमी के कारण, डब्ल्यूएचओ (WHO) वर्तमान में मंकीपॉक्स (Monkeypox Virus) के खिलाफ बड़े पैमाने पर टीकाकरण की सिफारिश नहीं की है. उन सभी देशों से भी आग्रह है जो इस तरह के टीकों का प्रशासन कर रहे हैं. और उनकी प्रभावशीलता पर महत्वपूर्ण डेटा एकत्र करने और साझा करने के लिए तैयार हैं.

जानकारों की माने तो, मंकीपॉक्स एक वायरल जूनोसिस है. यानी कि जानवरों के मनुष्यों में फैलने वाला वायरस. इसके लक्षण देखने में चेचक के रोगियों जैसे होते हैं. हालांकि यह क्लिनकली चेचक से कम गंभीर होता है. बता दें की, मंकीपकॉक्स (Monkeypox) वायरस के दो अलग-अलग जेनेटिक ग्रुप हैं- सेंट्रल अफ्रीकन (कांगो बेसिन) क्लैड और वेस्ट अफ्रीकन.

1 thought on “Monkeypox: WHO ने कहा यूरोप और अमेरिका में सबसे ज्यादा फ़ैल रहा मंकीपॉक्स वायरस

Leave a Reply

Your email address will not be published.