भारत के दौरे पर आ रहे सऊदी क्राउन प्रिंस Mohammed bin Salman, भारत आने की यह हैं बड़ी वजह

Mohammed bin Salman: सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Mohammed bin Salman), जो सऊदी अरब के प्रधानमंत्री भी हैं. वो अब भारत के दौरे पर आ रहे हैं. बताया जा रहा है की सऊदी क्राउन प्रिंस के 14 नवंबर को भारत आने की संभावना है. समाचार एजेंसी IANS ने कहा है की, क्राउन प्रिंस के भारत आने की वजह है दोनों देशों के व्यापार और आर्थिक संबंधों को मजबूत करना.

भारत आ रहे Mohammed bin Salman

समाचार एजेंसी IANS से मिली जानकारी के मुताबिक, सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Mohammed bin Salman) 14 नवंबर को भारत दौरे पर आ रहे हैं. अधिकारिक सूत्रों ने समाचार एजेंसी को बताया कि भारत की यात्रा इंडोनेशिया के बाली में G20 शिखर सम्मेलन के समय होगी.

रायटर्स ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सितंबर में विदेश मंत्री के माध्यम से 37 वर्षीय क्राउन प्रिंस, सऊदी अरब (Mohammed bin Salman) के डी फैक्टर शासक को निमंत्रण दिया था. बता दें की, 21 अक्टूबर को सऊदी ऊर्जा मंत्री अब्दुलअज़ीज़ बिन सलमान ( Abdulaziz bin Salman) नई दिल्ली में थे.

भारत के दौरे पर आ रहे सऊदी क्राउन प्रिंस Mohammed bin Salman, भारत आने की यह हैं बड़ी वजह
भारत के दौरे पर आ रहे सऊदी क्राउन प्रिंस Mohammed bin Salman, भारत आने की यह हैं बड़ी वजह

जहाँ उन्होंने वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Commerce and Industry Minister Piyush Goyal) के साथ एक-एक बैठक की थी. और उसके बाद दोपहर के भोजन की बैठक की, जिसमें तेल मंत्री हरदीप सिंह पुरी और बिजली मंत्री भी शामिल हुए थे. ऊर्जा मंत्री ने कहा था कि बैठक में द्विपक्षीय (bilateral) मुद्दों पर चर्चा हुई थी. लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर विस्तार से नहीं बताया था.

आर्थिक संबंधों को मिलेगा बढ़ावा

क्राउन प्रिंस (Mohammed bin Salman) की नवंबर की यात्रा से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार (bilateral trade) और आर्थिक संबंधों के आगे बढ़ने की बात होगी. व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा देने के अलावा, भारत और सऊदी अरब पश्चिमी तट और पश्चिम एशिया को जोड़ने के लिए एक अंडरसी केबल परियोजना (undersea cable project) पर भी चर्चा करेंगे.

रुपया-रियाल व्यापार को आगे बढ़ाने और यूपीआई (UPI) और रुपे कार्ड (Rupay Card) की शुरूआत पर भी विचार-विमर्श हो सकता है. इस वित्तीय वर्ष में भारत और सऊदी अरब के बीच व्यापार की मात्रा लगभग 43 बिलियन डॉलर है. एक सूत्र ने ANI को बताया है कि भारत का लक्ष्य अपने निर्यात को बढ़ाना है. क्योंकि सऊदी अरब में भारतीय फुटवियर और टेक्सटाइल का बाजार अब तेज़ी से बढ़ रहा है.

भारत तेल का तीसरा सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है

भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल खपत और आयात करने वाला देश है. ओपेक+ (OPEC+) भारत द्वारा आयात किए जाने वाले सभी तेल का दो-तिहाई आपूर्ति करता है. सऊदी अरब इराक और रूस के बाद कच्चे तेल का देश का तीसरा सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है.

राजनयिक सूत्रों ने द हिंदू को बताया कि क्राउन प्रिंस से मिलने के लिए प्रधानमंत्री मोदी 18-सदस्यीय पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (18-member East Asia Summit) जो  10-13 नवंबर को नोम पेन्ह, कंबोडिया में होने वाला होगा है उसको छोड़ देंगे.

यह भारत और ईएसए (ESA) देशों के समूह के बीच सहयोग का 30 वां वर्ष है. सूत्रों ने बताया कि उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ संभावित रूप से प्रधानमंत्री मोदी की जगह ले सकते हैं. अंतिम फैसला होना बाकी है.

One thought on “भारत के दौरे पर आ रहे सऊदी क्राउन प्रिंस Mohammed bin Salman, भारत आने की यह हैं बड़ी वजह”

Leave a Reply