September 25, 2022
Cold War को समाप्त करने वाले पूर्व सोवियत राष्ट्रपति Mikhail Gorbachev का हुआ निधन

Cold War को समाप्त करने वाले पूर्व सोवियत राष्ट्रपति Mikhail Gorbachev का हुआ निधन

Spread the love

Mikhail Gorbachev: मिखाइल गोर्बाचेव, जो अपने असाधारण सुधारों के लिए जाने जाते थे. जिसके कारण शीत युद्ध की समाप्ति हुई. उनका मंगलवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया. वह 91 वर्ष के थे.

नोबेल शांति पुरस्कार से भी हुए थे सम्मानित

WION से मिली जानकारी के मुताबिक, गोर्बाचेव जिन्हें नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. उन्होंने सात साल से भी कम समय तक सत्ता में रहने के बावजूद पथ-प्रदर्शक सुधार किए थे. लेकिन सोवियत संघ के पतन को बचाने में असमर्थ थे.

अंतिम सोवियत नेता मिखाइल गोर्बाचेव ने संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ हथियारों में कमी के समझौतों पर बातचीत करके और पश्चिमी देशों के साथ गठबंधन बनाकर जर्मनी के पुनर्मिलन के बारे में काम किया. 1990 में उन्हें वैश्विक राजनीति में उनके योगदान के लिए नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

पिछले क्रेमलिन नेताओं के विपरीत, जिन्होंने 1956 में हंगरी और 1968 में चेकोस्लोवाकिया में विद्रोह को रोकने के लिए टैंक भेजे थे. उन्होंने बल लगाने से परहेज किया. जब 1989 में कम्युनिस्ट पूर्वी यूरोप के सोवियत ब्लॉक देशों में लोकतंत्र समर्थक रैलियों का प्रसार हुआ.

लेकिन विरोध ने 15 सोवियत गणराज्यों में स्वतंत्रता की मांग को हवा दी. जिसकी परिणति अगले दो वर्षों के दौरान देश के अराजक विघटन में हुई. गोर्बाचेव ने उस तबाही को रोकने के असफल प्रयास किए हैं.

1985 में सोवियत कम्युनिस्ट पार्टी का महासचिव नियुक्त किया गया था

बता दें की, 1985 में जब उन्हें सोवियत कम्युनिस्ट पार्टी का महासचिव नियुक्त किया गया था. तब वे केवल 54 वर्ष की आयु में कुछ राजनीतिक और आर्थिक स्वतंत्रता की अनुमति देकर व्यवस्था को पुनर्जीवित करने का इरादा रखते थे. लेकिन उनके परिवर्तन नियंत्रण से बाहर हो गए.

उनकी ग्लासनोस्ट (मुक्त भाषण) नीति ने राष्ट्रवादियों को लातविया, लिथुआनिया, एस्टोनिया और अन्य जगहों के बाल्टिक गणराज्यों में स्वतंत्रता के लिए धक्का देने के लिए प्रोत्साहित किया. जबकि पार्टी और राज्य की अब तक अकल्पनीय आलोचना की अनुमति दी थी.

कई रूसियों ने गोर्बाचेव को उनके सुधारों के कारण हुई अशांति के लिए कभी माफ नहीं किया क्योंकि उनका मानना ​​​​था कि उनके जीवन स्तर में निम्नलिखित गिरावट लोकतंत्र के लिए भुगतान करने के लिए बहुत बड़ी कीमत थी.

उदारवादी अर्थशास्त्री रुस्लान ग्रिनबर्ग ने 30 जून को अस्पताल में गोर्बाचेव से मिलने के बाद कहा, “उन्होंने हमें पूरी आजादी दी, लेकिन हम नहीं जानते कि इसका क्या किया जाए.”

क्या था कोल्ड वार

बता दें की, कोल्ड वार द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सोवियत संघ एवं उसके आश्रित देशों (पूर्वी यूरोपीय देश) और संयुक्त राज्य अमेरिका एवं उसके सहयोगी देशों (पश्चिमी यूरोपीय देश) के बीच भू-राजनीतिक तनाव की अवधि (1945-1991) को कहा जाता है. कोल्ड वार शब्द का पहली बार इस्तेमाल अंग्रेज़ी लेखक जॉर्ज ऑरवेल ने 1945 में प्रकाशित अपने एक लेख में किया था.

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद विश्व दो महाशक्तियों – सोवियत संघ और संयुक्त राज्य अमेरिका के वर्चस्व वाले दो शक्ति समूहों में विभाजित हो गया था. यह पूंजीवादी संयुक्त राज्य अमेरिका और साम्यवादी सोवियत संघ के बीच वैचारिक युद्ध था जिसमें दोनों महाशक्तियाँ अपने-अपने समूह के देशों के साथ संलग्न थीं. शीत (Cold) शब्द का उपयोग इसलिये किया जाता है क्योंकि दोनों पक्षों के बीच प्रत्यक्ष रूप से बड़े पैमाने पर कोई युद्ध नहीं हुआ था.

1 thought on “Cold War को समाप्त करने वाले पूर्व सोवियत राष्ट्रपति Mikhail Gorbachev का हुआ निधन

Leave a Reply

Your email address will not be published.