September 26, 2022
Manish Sisodia के आवास पर CBI की 14 घंटे चली छापेमारी, सिसोदिया ने कहा सीबीआई का हो रहा दुरूपयोग

Manish Sisodia के आवास पर CBI की 14 घंटे चली छापेमारी, सिसोदिया ने कहा सीबीआई का हो रहा दुरूपयोग

Spread the love

Manish Sisodia: दिल्ली में आबकारी घोटाले की जांच कर रही सीबीआई (CBI) ने शुक्रवार को उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) के घर और आबकारी अफसरों से जुड़े 31 स्थानों पर छापेमारी की है.

सिसोदिया ने सीबीआई की छापेमारी को बताया गलत

ANI से मिली अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने शुक्रवार शाम को कहा कि उन्होंने और उनके परिवार ने सीबीआई के साथ सहयोग किया था. जिसका उन्होंने दावा किया था कि केंद्र द्वारा दुरुपयोग किया जा रहा था.

उस दिन जब जांच एजेंसी ने एक के संबंध में कई स्थानों पर छापे मारे थे. यह मामला आप सरकार की पिछली आबकारी नीति से जुड़ा है. सीबीआई दिन में पहले आम आदमी पार्टी (AAP) नेता के आवास पर पहुंची थी. एजेंसी के अनुसार, 30 अन्य स्थानों पर छापे मारे गए हैं.

14 घंटे की लंबी छापेमारी के बाद सीबीआई अधिकारियों के चले जाने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए सिसोदिया ने कहा,

“सीबीआई की टीम आज सुबह आई. उन्होंने मेरे घर की तलाशी ली और मेरा कंप्यूटर और फोन जब्त कर लिया. मेरे परिवार ने उनका साथ दिया और आगे भी सहयोग करते रहेंगे. हमने कोई भ्रष्टाचार या गलत नहीं किया है. हम चिंतित नहीं है. हम जानते हैं कि सीबीआई का दुरुपयोग किया जा रहा है.”

सिसोदिया उन 15 लोगों में शामिल हैं जिनके खिलाफ सीबीआई ने प्राथमिकी दर्ज की है. इस मामले में आबकारी अधिकारियों, शराब कंपनी के अधिकारियों, डीलरों के साथ कुछ अज्ञात लोक सेवकों और निजी व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

एफआईआर में कहीं गई ये बातें

प्राथमिकी में कहा गया है कि “मामले में तथ्य प्रथम दृष्टया अपराधों के कमीशन का खुलासा करते हैं. आरोपी के खिलाफ धारा 120-बी, 477 ए आईपीसी और भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम 1988 की धारा 7 के तहत दंडनीय है.”

बता दें की, तलाशी लेने वालों में तत्कालीन आबकारी आयुक्त अरवा गोपी कृष्णा और आनंद तिवारी के परिसर भी शामिल थे. छापेमारी के कारण केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कथित शराब भ्रष्टाचार को लेकर केजरीवाल और सिसोदिया पर निशाना साधा था.

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने आगे कहा की, “भ्रष्ट व्यक्ति खुद को निर्दोष साबित करने के लिए कितनी भी कोशिश कर ले, वह भ्रष्ट ही रहेगा. आप द्वारा भ्रष्टाचार का यह पहला मामला नहीं है. दिल्ली में शराब की दुकानों में भारी भ्रष्टाचार हुआ है.”

केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि, दिल्ली की शराब नीति उसी दिन वापस ले ली गई जिस दिन इसकी सीबीआई जांच का आदेश दिया गया था. अगर शराब नीति में कोई घोटाला नहीं था. तो इसे वापस क्यों लिया गया.

संजय सिंह ने कहें ये बातें

आप नेता संजय सिंह ने जोर देकर कहा कि दिल्ली के डिप्टी सीएम पर छापेमारी केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार द्वारा शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में किए गए क्रांतिकारी कार्यों को रोकने का एक प्रयास था.

आप नेता संजय सिंह ने आगे कहा की, “मनीष सिसोदिया अमेरिका के सबसे बड़े अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के पहले पन्ने पर थे. पूरे देश में हर कोई इससे खुश है लेकिन भाजपा नहीं. उन्होंने स्वास्थ्य क्षेत्र में कुछ असाधारण काम किया है. चाहे वह मोहल्ला क्लीनिक हो या शिक्षा क्षेत्र हो, आप नेतृत्व ने सभी में क्रांति ला दी है. अब ये सीबीआई की छापेमारी और कुछ नहीं बल्कि इस सब को रोकने की कोशिश है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.