Mallikarjun Kharge बने Congress के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, शशि थरूर को मिली करारी हार

Mallikarjun Kharge:  24 साल बाद गांधी परिवार के बाहर का अध्यक्ष मिला है. कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) बने हैं. कांग्रेस के राष्ट्रपति चुनाव हारने वाले वरिष्ठ कांग्रेस नेता शशि थरूर ने जीतने वाले उम्मीदवार मल्लिकार्जुन खड़गे की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्हें लगता है कि “पार्टी का पुनरुद्धार आज सही मायने में शुरू हो गया है.”

Mallikarjun Kharge के सर सजा कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष का ताज

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस ने 24 वर्षों में अपना पहला गैर-गांधी अध्यक्ष चुन लिया है. मपन्ना मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) अपने प्रतिद्वंद्वी शशि थरूर को हराकर ऐतिहासिक चुनावों में विजेता के रूप में उभरे हैं. मल्लिकार्जुन खड़गे को कुल 9,385 मतों में से 7,897 मत मिले हैं. जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी शशि थरूर 1,072 मतों से पीछे चल रहे थे.

80 वर्षीय कांग्रेस नेता खड़गे (Mallikarjun Kharge) के लिए यह एक कठिन यात्रा रही है. क्योंकि उन्होंने जगजीवन राम के बाद कांग्रेस प्रमुख के रूप में अपने करियर को आगे बढ़ाया. और वो ऐसा करने वाले केवल दूसरे दलित हैं. कांग्रेस सूत्रों के अनुसार, निर्वाचित अध्यक्ष दीवाली के बाद कांग्रेस मुख्यालय में एक कार्यक्रम में वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में कार्यभार संभालेंगे.

Mallikarjun Kharge बने Congress के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, शशि थरूर को मिली करारी हार
Mallikarjun Kharge बने Congress के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, शशि थरूर को मिली करारी हार

अब खड़गे (Mallikarjun Kharge) अंतरिम कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी की जगह लेंगे. जो 2019 के लोकसभा चुनावों के बाद राहुल गांधी के पद छोड़ने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष बनी थीं. जैसे ही परिणाम स्पष्ट हुए, शशि थरूर ने खड़गे को बधाई दी और उनका समर्थन करने वाले प्रतिनिधियों को धन्यवाद दिया. शशि थरूर ने ट्वीट कर के कहा की,

“भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष बनना एक बहुत बड़ा सम्मान और एक बड़ी जिम्मेदारी है और मैं मल्लिकार्जुन खड़गे की उस कार्य में सफलता की कामना करता हूं. एक हजार से अधिक सहयोगियों का समर्थन प्राप्त करना, और पूरे भारत में कांग्रेस के इतने शुभचिंतकों की आशाओं और आकांक्षाओं को आगे बढ़ाना मेरे लिए सौभाग्य की बात थी.”

चुनाव के दौरान हुईं थी अनियमितताएं

बता दें की अब ऐसी खबरे आ रही हैं की, चुनाव के वक़्त शशि थरूर खेमे ने चुनाव प्राधिकरण से संपर्क किया था और आरोप लगाया कि चुनाव के दौरान कुछ अनियमितताएं (irregularities) हुईं हैं. कहा जाता है कि थरूर खेमे ने दावा किया था कि उत्तर प्रदेश सहित तीन राज्यों में अनियमितताएं हुई हैं. जहां पीसीसी (PCC)  के प्रतिनिधियों की संख्या सबसे अधिक है.

जानकारी के लिए बता दें की, 21 जुलाई, 1942 को बीदर में जन्मे खड़गे (Mallikarjun Kharge) 1969 में कांग्रेस में शामिल हुए थे और उस वक़्त उनके पास कोई विभाग नहीं हुआ करता था. बड़े ही साधारण नेता माने जाते थे. लेकिन आज उनके पास कई विभाग हैं. वह 16 फरवरी, 2021 से कर्नाटक से राज्यसभा के सांसद हैं. 16 फरवरी, 2021 से 1 अक्टूबर 2022 तक, खड़गे राज्यसभा के विपक्ष के नेता थे.

खड़गे ने गुलबर्गा के सेठ शंकरलाल लाहोटी कॉलेज में कानून (Law) की पढ़ाई की और जूनियर के रूप में कई मजदूर संघ के मामले जीते. बाद में वे मजदूर संघ के नेता बने. 1969 में गुलबर्गा सिटी कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बनने के बाद, उन्होंने 1972 में कर्नाटक राज्य विधानसभा चुनाव लड़ा था. वह मनमोहन सिंह सरकार में रेल मंत्री और श्रम और रोजगार मंत्री भी रहे हैं. 2014-2019 के दौरान, उन्होंने लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के नेता का पद संभाला है.

Leave a Reply