Mahsa Amini की मौत के बाद Iran ने उठाया बड़ा कदम तेहरान, कुर्दिस्तान में इंटरनेट सेवा की बंद

Mahsa Amini: महसा अमिनी की हिरासत में मौत के बाद से ना सिर्फ ईरान में बल्कि दुनिया में कई जगह विरोध प्रदर्शन तेज़ होता जा रहा है. खबर मिली है की, ईरान में हालात गंभीर होते जा रहें हैं. हालातों पर काबू पाने के लिए ईरान ने तेहरान, कुर्दिस्तान में इंटरनेट सेवा को पूरी तरह से बंद कर दिया है.

हालातों  पर काबू पाना अब हो रहा मुश्किल

अधिकारिक मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, तेहरान और कई अन्य ईरानी शहरों में इस्लामिक रिपब्लिक पुलिस (मोरैलिटी पुलिस) द्वारा हिरासत में ली गई एक महिला (Mahsa Amini) की मौत के बाद हालात बिगड़ गए हैं. छठे दिन प्रदर्शनकारियों ने शहर के कई इलाकों में पुलिस स्टेशनों और वाहनों में आग लगा दी है.

सख्त हिजाब नियमों को तोड़ने के लिए पुलिस द्वारा गिरफ्तारी के बाद महसा अमिनी (Mahsa Amini) की मौत के बाद देश में बड़े पैमाने पर हंगामे का सामना करना पड़ रहा है. बताया जा रहा है की, ईरानी सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पों में अब तक कम से कम नौ या अधिकतम 10 लोगों की मौत हो गई है.

ईरानी सरकार ने उग्र प्रदर्शन को मद्दे नज़र रखते हुए सभी सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर बैन लगवा दिया है. इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स को बंद कर दिया गया है.

एक ईरानी प्रचारक शाघयघ नोरोज़ी का कहना है की, “इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफॉर्म वर्चुअल स्ट्रीट बन गए है. जहां हम विरोध करने के लिए इकट्ठा हो सकते हैं. क्योंकि वास्तविक जीवन में ऐसा करना संभव नहीं है.”

अपने बाल काट कर महिलाएं कर रहीं विरोध प्रदर्शन

बता दें की, बीते कुछ दिनों सोशल मीडिया पर महिलाओं के बाल काटने और हिजाब जालाने का विडियो वायरल हो रहा है. दरअसल ये महिलाएं अपने हक़ की मांग कर रही हैं और इसके साथ ही महसा अमिनी को न्याय मिलने की गुज़ारिश भी का रहीं हैं.

ऐसा उग्र विरोध प्रदर्शन साल 2017-2019 के दौरान हुआ था. उस वक़्त भी मौजूदा सरकार ने इन्टरनेट सेवा को पूरी तरह से बंद कर दिया था. और उस दौरान तो प्रदर्शनकारियों को तुरंत मौत के घाट उतार दिया गया था.

महसा अमिनी की मौत पर सरकार के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शनों के बीच ईरानियों ने बुधवार को लगभग पूर्ण इंटरनेट ब्लैकआउट का सामना किया. रॉयटर्स के अनुसार, देश भर के 15 शहरों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. और इसके परिणामस्वरूप सरकारी और गैर सरकारी संपत्ति का काफी नुकसान हो रहा है. राज्य मीडिया ने यह भी बताया कि तबरेज़ में देश की सेना के तीन व्यक्ति भी मारे गए हैं.

दुसरे देश में जाने के लिए लेनी पड़ती है अपनी पति की लिखित इजाजत

दूसरी ओर, एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा है कि सैन्य बलों के हस्तक्षेप के कारण ईरान में विरोध प्रदर्शनों में आठ लोग छह पुरुष, एक महिला और एक बच्चा मारे जा चुगे हैं. दरअसल बता दें की, एक समय था जब ईरान में महिलाएं बगर किसी रोक टोक के अपनी मर्ज़ी के कपड़े पहनती थीं. लेकिन उसके बाद महिलाओं पर कई तरीके के कानून बन गए. जैसे की उनका सर हमेशा ढका होना चहिए.

इसके साथ ही अगर उनको दुसरे देश में जाना है तो उसके लिए उनको अपने पति की लिखित इजाजत लेनी पड़ेगी. ईरान में महिलाएं सिर्फ एक शादी ही कर सकती हैं. लेकिन पुरुष 3 से 4 शादी कर सकता है बगैर अपनी पहली पत्नी की इजाजत के.

Leave a Reply

Your email address will not be published.