Mahsa Amini की मौत के चलते Iran में हुई 92 लोगों की मौत

Mahsa Amini: महसा आमनी की मौत के चलते इस वक्त ईरान में हर तरफ प्रदर्शन क माहौल है. नॉर्वे स्थित ईरान ह्यूमन राइट्स (IHR) एनजीओ का हवाला देते हुए मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि 22 वर्षीय महसा अमिनी की पुलिस हिरासत में मौत के विरोध में ईरान में देशभर में कम से कम 92 लोग मारे गए हैं.

लगातार बढ़ रहे मौत के आँकड़े

आधिकारिक मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, अबू-धाबी स्थित एक दैनिक द नेशनल न्यूज ने आईएचआर के निदेशक महमूद अमीरी-मोघद्दाम के ने बताया की, “इस अपराध की जांच करना और ईरान द्वारा किए जाने वाले अपराधों को रोकने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय क आगे आना चाहिए और जाँच करनी चाहिए.”

बता दें की, 16 सितंबर को अमिनी (Mahsa Amini) की मौत के बाद पूरे ईरान में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे. और यह विरोध प्रदर्शन का तीसरा हफ्ता है. द नेशनल न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार को देश के कई क्षेत्र में व्यापक रैलियां और हड़तालें हुई हैं.

ईरानी कुर्दिस्तान (Iranian Kurdistan) की 22 वर्षीय महसा अमिनी की मौत से शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन 2019 के बाद से ईरान के लिपिक अधिकारियों (Iran’s clerical authorities) के विरोध का सबसे बड़ा प्रदर्शन बन गया है.  जिसमें दर्जनों लोग मारे गए हैं.

Mahsa Amini की मौत को लेकर अन्य देशों मे भी हो रहा विरोध प्रदर्शन

ना सिर्फ ईरान बल्कि उसके बाहर भी विरोध अब बढ़ता जा रहा है. बता दें की, लंदन, रोम, मैड्रिड और अन्य पश्चिमी शहरों में अब प्रदर्शन हो रहा है. इसके अलावा 150 से अधिक शहरों में प्रदर्शन और हो रहा है. लोग हाँथ में दफ़्ती के बोर्डस लेकर महसा अमिनी को इंसाफ मिले ऐसे नारे लगा रहे हैं.

बता दें की, महसा अमिनी को इंसाफ़ दिलाने के लिए कई महिलाओं ने हिजाब जलाया था और इसके साथ ही अपने बाल भी काट दिए थे. बाल काटने और हिजाब जलाने के कई वीडियोज़ सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. जानकार बताते हैं की, ईरान में एक समय मे ऐसा माहौल नहीं हुआ करता था.  वहाँ पर औरते अपने मन मर्जी के कपड़े पहन सकती थीं.

लेकिन बीते कई सालों में ईरान मे सब कुछ बदल गया. बीते कई दिनों में विरोध प्रदर्शन इतना हिंसक हो गया था की स्थाई सरकार को ईरान में इंटरनेट सेवा को बंद करना पड़ा था. ताकि प्रदर्शन और ज्यादा उग्र ना हो. प्रदर्शन के दौरान कई पुलिसकर्मियों और प्रदर्शनकारियों  के बीच हिंसक झड़प भी हो गई थी.

महसा की मौत के विरोध में इस सिंगर ने ऑन स्टेज काटे थे अपने बाल

बता दें की, तुर्की के गायक मेलेक मोसो ईरान में हिजाब विरोधी प्रदर्शनों के लिए अपना समर्थन दिखाने वाली महिलाओं की एक टुकड़ी में शामिल हो गए.  एक वीडियो जो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. जिसमें कलाकार को ईरान में प्रदर्शनकारियों के साथ एकजुटता दिखाते हुए मंच पर अपने बाल काटते हुए दिखाया गया है.

जानकारों का मानना है की अगर यह विरोध प्रदर्शन जल्दी नहीं थमा तो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इसका बड़ा असर पड़ सकता है.  वैसे भी इस वक्त दुनिया कई आपदाओं का सामना कर रही है.

Leave a Reply